नवरात्रि महाअष्टमी नवमी कब है 2020 | Navratri Ashtami Mahasanyog 2020  

नवरात्रि जानें माता की चौकी कब हटाए 2020 Navratri kanya Pujan Samay 2020

महाअष्टमी महाअष्टमी – नवरात्रि के नौ दिनो तक माता के भक्त मां को प्रसन्न करने के लिए व्रत, अखंड जोत और माता की चौकी का आयोजन करते है इन नौ दिनों के दौरान अष्टमी और नवमी तिथि को हवन व कंजक पूजन के साथ नवरात्रि का समापन हो जाता है। जिसके बाद नवरात्रि व्रत का पारण किया जाता है। नवरात्रि में अष्टमी तिथि महाष्टमी कहलाती है इस बार 24 अक्तूबर शनिवार को अष्टमी तिथि और महानवमी तिथि का एक साथ आना बहुत बड़ा संयोग है इस दिन मां महागौरी और सिद्धिदात्री की पूजा की जायेगी. आज हम आपको साल 2020 नवरात्री का आठवां दिन यानि की दुर्गा महाष्टमी व्रत किस दिन रखा जाएगा अष्टमी तिथि महासंयोग, कन्या पूजन, व्रत का पारण और माता की चौकी किस दिन हटाए इस बारे में बात करेंगे.

शारदीय नवरात्री शुभ मुहूर्त 2020 Shardiya Navratri 2020 Muhurat

  1. शारदीय नवरात्रि महाष्टमी और नवमी पूजन 24 अक्टूबर को किया जाएगा.
  2. अष्टमी तिथि प्रारम्भ होगी – 23, अक्टूबर को प्रातःकाल 06:57 मिनट पर|
  3. अष्टमी तिथि समाप्त होगी – 24, अक्टूबर को प्रातःकाल 06:58 मिनट पर|
  4. नवमी तिथि प्रारम्भ होगी – 24, अक्टूबर प्रातःकाल 06:58 मिनट पर|
  5. नवमी तिथि समाप्त मिनट पर- 25, अक्टूबर प्रातःकाल 07:41 मिनट पर |

कन्या पूजन मुहूर्त kanya Pujan Muurat 2020

इस बार नवरात्री महाष्टमी का महापर्व अलग अलग जगह पर अलग अलग तिथति में मनाया जाएगा. कुछ जगहों पर अष्टमी शुक्रवार 23 अक्टूबर के दिन मनाई जाएगी तो कुछ जगहों पर 24 अक्टूबर के दिन अष्टमी और नवमी दोनों पर्व एक साथ मनाये जाएंगे. शास्त्रों के अनुसार साल 2020 में शारदीय नवरात्रि में कन्या पूजन 24 अक्टूबर शनिवार के दिन करना बेहद शुभ रहेगा. उदयातिथि के कारण शनिवार को ही अष्टमी तिथि निर्धारित की गयी है। क्योकि अष्टमी तिथि 23 अक्टूबर को सुबह 06 बजकर 57 मिनट पर प्रारंभ हो रही है, जो 24 अक्टूबर को सुबह 06 बजकर 58 मिनट तक रहेगी। उसके बाद से महानवमी प्रारंभ हो जाएगी। ऐसे में कन्या पूजा 24 अक्टूबर को करना विशेष रूप से लाभकारी होगा.

नवरात्री पारण navratri Paaran

साल 2020 में शरद नवरात्रि व्रत का पारण अश्विन शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को किया जायेगा. इस दिन 9 दिनों तक चलने वाले नवरात्रि पर्व का समापन होगा. 25 अक्टूबर रविवार के दिन मां दुर्गा की षोडषोपचार पूजा कर मूर्ति विसर्जन, हवन और व्रत पारण सम्बन्धी कार्य किये जाएंगे. नवरात्री व्रत का पारण अष्टमी में नहीं किया जा सकता है। जो लोग जो नवरात्रि में पूरे नौ दिन के व्रत रहते हैं, वे लोग रविवार 25 अक्टूबर को 11 बजकर 27 मिनट से पहले हवन करने के बाद्द कन्या पूजा व अन्य सभी पूजा पाठ के कार्य पूर्ण कर कर सकते हैं।

माता की चौकी कब हटाए Mata Ki Chaouki Kab hataaye

नवरात्रि का पर्व पूरे नौ दिनों का होता है इसीलिए नवरात्रि में माता की चौकी, बोये हुए जवारे व अन्य विसर्जन का सामान नौ दिन पूरे होने के बाद दशमी तिथि को हटाने चाहिए