अक्षय तृतीया तिथि शुभ मुहूर्त 2020 Akshaya Tritiya Date Time 2020

अक्षय तृतीया सोना खरीदने का मुहूर्त Akshaya Tritiya Puja Shubh Muhurat

Akshaya Tritiya Date Time 2020Akshaya Tritiya Date Time 2020- भारत विभिन्नताओं का देश है. जिसमे हर मास में कोई न कोई व्रत व त्यौहार आते ही है। इन्ही त्योहारों में से एक है वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को मनाया जाने वाला अक्षय तृतीया का पर्व| यह ऐसी तिथि है जिसे बहुत ही सौभाग्यशाली माना जाता है। अक्षय तृतीया को आखा तीज के नाम से भी जाना जाता है. मान्यता है की इस दिन किये हुए दान, स्नान, यज्ञ, जप आदि सभी कर्मों का फल अनन्त और अक्षय होता है। इसलिए इसे अक्षय तृतीया कहा गया. आज हम आपको साल 2020 अक्षय तृतीया शुभ तिथि मुहूर्त और पूजा विधि के बारे में बताएँगे.

अक्षय तृतीया तिथि शुभ मुहूर्त 2020 Akshaya Tritiya Muhurat 2020

  1. साल 2020 में अक्षय तृतीया का पर्व 26 अप्रैल रविवार के दिन मनाया जाएगा|
  2. अक्षय तृतीया पूजा का मुहूर्त होगा – 26 अप्रैल रविवार 05:48 मिनट से 12:19 मिनट तक|
  3. पूजा की कुल अवधि होगी – 06 घंटे 34 मिनट की होगी|
  4. तृतीया तिथि प्रारंभ होगी – 25 अप्रैल शनिवार प्रातःकाल 11:51 मिनट पर|
  5. तृतीया तिथि समाप्त होगी – 26 अप्रैल रविवार 13:22 मिनट पर|
  6. सोना खरीदने का शुभ समय होगा – 26 अप्रैल रविवार प्रातःकाल 11:51 मिनट से 05:45 मिनट तक|
  7. मुहूर्त की कुल अवधि – 17 घंटे 53 मिनट की होगी|

अक्षय तृतीया व्रत व पूजन विधि Akshaya Tritiya Pooja Vidhi 2020

पौराणिक कथाओं की माने तो इस दिन नर-नारायण, परशुराम और हयग्रीव अवतरित हुए थे. इसीलिए इस दिन नर-नारायण, परशुराम और हयग्रीव की पूजा करने का भी विधान है. अक्षय तृतीया के दिन प्रातःकाल स्नानादि के बाद पीले वस्त्र धारण करें। इसके बाद घर के मंदिर में भगवान विष्णु जी की प्रतिमा को गंगाजल से शुद्ध कर तुलसी व पीले फूलों की माला अर्पित करें फिर पूजास्थल पर धूप दीप जलाकर विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ कर आरती कर ले. साथ ही इस दिन गरीबों को भोजन कराना दान करना बेहद पुण्य-फलदायी होता है।

राशिअनुसार जाने साल 2020 का भविष्यफल

अक्षय तृतीया से जुड़ी मान्यताएं Akshaya Tritiya 2020 me Kab Hai

अक्षय तृतीया पर्व को लेकर बहुत सी मान्यताएं प्रचलित है. इस दिन को भगवान परशुराम के जन्मदिन  के रूप में भी मनाया जाता है। साथ ही इस दिन नर नारायण के अवतरित होने की कथाये भी प्रचलित है शास्त्रों के अनुसारआज ही के दिन त्रेता युग का आरंभ भी मना जाता है. कहते है की इस तिथि को उपवास रखने, स्नान दान करने से अनंत व अक्षय फलों की प्राप्ति होती है। अर्थात व्यक्ति को जीवन पर्यन्त कभी भी किसी चीज़ का अभाव नहीं होता, उसके भंडार हमेशा भरे रहते हैं।

अक्षय तृतीया सर्वसिद्ध अबूझ मुहूर्त Akshaya Tritiya 2020 story in hindi

शास्त्रों के अनुसार कोई भी मांगलिक कार्यों के लिये अक्षय तृतीया तिथि बहुत ही शुभ मानी जाती है जहां मांगलिक कार्यों को करने के लिये शुभ घड़ी व मुहूर्त देखना पड़ता है वही अक्षय तृतीया एक ऐसी सर्वसिद्धि  तिथि होती है जिसमें किसी भी मुहूर्त को देखने की जरूरत नहीं होती है इसीलिए इस तिथि को अबूझ मुहूर्तों में शामिल किया गया है। इस दिन सोना खरीदने की परंपरा भी बहुत ही प्राचीन है मान्यता है कि इस दिन सोना खरीदने से घर में सुख समृद्धि आती है।