रक्षाबंधन शुभ संयोग 2019 Raksha Bandhan Shubh Sanyog 2019

राखी बांधने का शुभ मुहूर्त Rakhi Purnima Date Time Muhurt 2019

Raksha Bandhan Shubh Sanyog 2019Raksha Bandhan Shubh Sanyog 2019- भाई- बहिन के अटूट रिश्ते और प्यार का त्यौहार रक्षाबंधन साल 2019 में 15 अगस्त गुरुवार के दिन मनाया जा रहा है. यह त्यौहार हर साल श्रावण मास की पूर्णिमा तिथि के दिन मनाया जाता है जिसे राखी पूर्णिमा भी कहा जाता है. इस दिन सभी बहनें अपने भाई की कलाई पर राखी बांधकर उनकी लंबी आयु की कामना करती हैं. ज्योतिष की माने तो इस बार रक्षाबंधन पर सालों बाद कई शुभ संयोग बन रहे है आज हम आपको साल 2019 रक्षाबंधन पर्व के शुभ मुहूर्त, तिथि व इस दिन बनने वाले शुभ संयोगो के बारे में बताएँगे.

रक्षा बंधन 2019 राखी बांधने का शुभ मुहूर्त व तिथि Raksha bandhan Date Time

  1. साल 2019 में रक्षाबंधन का पर्व 15 अगस्त गुरुवार के दिन मनाया जाएगा.
  2. पूर्णिमा तिथि आरम्भ होगी- 14 अगस्त 2019 शाम 03 :45 मिनट पर|
  3. पूर्णिमा तिथि समाप्त होगी- 15 अगस्त 2019 , शाम 05 :59 मिनट पर|
  4. रक्षाबंधन अनुष्ठान का शुभ समय होगा – सुबह 05:53 से 17:58
  5. रक्षासूत्र बांधने का शुभ मुहूर्त होगा – सुबह 05 बजकर 49 मिनट से शाम 06 बजकर 1 मिनट तक|
  6. मुहूर्त की कुल अवधि होगी- 12 घंटे 11 मिनट
  7. राखी बांधने का अपराह्न मुहूर्त होगा- 01:44 मिनट से 04:20 मिनट तक|

रक्षाबंधन पूजा-विधि Raksha Bandhan Puja Vidhi

रक्षाबंधन का त्यौहार भाई बहनो के आपसी प्रेम को दर्शाता है. इस दिन बहने भाईयों की कलाई पर रक्षा-सूत्र बांधती हैं और उनकी दीर्घायु, समृद्धि व ख़ुशी जीवन की कामना करती हैं। रक्षाबंधन के दिन पूजा और तिलक से पहले स्नानादि के बाद पूजा की थाल सजाये और भाई बहिन दोनों मिलकर पूजा करे. पूजा की थाल में रोली अक्षत, दीपक और राखियां रखे और भाई को तिलक कर उनके दाहिनी कलाई पर रक्षा सूत्र बांधे. इसके बाद मिठाई खिलाकर मुँह मीठा करे राखी बंधवाने के बाद भाई भी अपनी बहिन को उसकी रक्षा का वचन देते है और कुछ उपहार भेंट करते है इस तरह पूरे भारतवर्ष में यह पर बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है.

राशिअनुसार जाने साल 2019 का भविष्यफल

रक्षाबंधन शुभ संयोग 2019 rakshabadhan Astrology

रक्षाबंधन हर साल सावन पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है. साल 2019 में रक्षाबंधन पर 19 सालों बाद स्वतंत्रता दिवस का संयोग बन रहा है जो की इससे पहले साल 2000 में बना था.  इस बार राखी गुरुवार के दिन और इस दिन श्रवण नक्षत्र की शुरुआत होने के कारण इसका महत्व और भी अधिक बढ़ जाएगा. वही शास्त्रों की माने तो इस बार रक्षाबंधन पर भद्रा का साया और किसी तरह का कोई ग्रहण नहीं होगा जिस वजह से इस बार रक्षाबंधन बेहद शुभ संयोग और सौभाग्‍यशाली होगा.