चैत्र नवरात्रि घट स्थापना शुभ मुहूर्त 2020 Chaitra Navratri Dates 2020

चैत्र नवरात्रि शुभ योग 2020 Chaitra Durga Puja 2020 Shubh Yog

चैत्र नवरात्रि चैत्र नवरात्रि – नवरात्रि नौ दिनों तक देवी दुर्गा के नौ स्वरूपों की उपासना का पर्व है शास्त्रों में हिन्दू नववर्ष की शुरुआत चैत्र महीने से ही मानी जाती है वैसे तो सालभर में चार बार नवरात्रि आती है लेकिन चैत्र और आश्विन माह की नवरात्रि देवी दुर्गा को प्रसन्न करने के लिए सबसे उत्तम मानी गयी है. ज्योतिष की माने तो इस बार चैत्र नवरात्रि बेहद ही शुभ योगो के साथ आ रही है जिस कारण इन शुभ योगो में की गयी माँ की उपासना शुभ और फलदायी होगी आज हम इस वीडियो में साल 2020 चैत्र नवरात्रि पर्व की शुभ तिथियां कलश स्थापना विधि पूजा का शुभ मुहूर्त औरसाथ ही चैत्र नवरात्रि में बन रहे शुभ योगो के बारे में बात करेंगे और साथ ही जानेगे की इन शुभ योगो में कौन कौन से काम आपको विशेष रूप से करने चाहिए.

चैत्र नवरात्रि घट स्थापना शुभ मुहूर्त Chaitra Navratri 2020 Shubh Muhurat

  1. साल 2020 में चैत्र शुक्ल पक्ष के नवरात्रों का आरंभ 25 मार्च बुधवार से शुरू होकर 2 अप्रैल गुरुवार तक चलेगा.
  2. कलश घट स्थापना का शुभ मुहूर्त होगा – 25 मार्च बुधवार प्रातःकाल 06:19 मिनट से लेकर प्रातःकाल 07:17 मिनट तक का होगा|
  3. मुहूर्त की कुल अवधि 58 मिनट की होगी
  4. प्रतिपदा तिथि आरम्भ होगी – 24 मार्च मंगलवार शाम 02:57 मिनट पर|
  5. प्रतिपदा तिथि समाप्त होगी – 25 मार्च बुधवार शाम 05:26 मिनट पर|
  6. कलश स्थापना प्रतिपदा तिथि में करना शुभ होता है|

चैत्र नवरात्रि शुभ योग 2020 Chaitra Navratri Shubh Yog 2020

देवीमाँ को प्रसन्न करने के लिए नवरात्रि को काफी शुभ माना जाता है। लेकिन इनकी खासियत और महत्व तब और भी अधिक बढ़ जाता है जब इस दौरान गृह और नक्षत्रो का कोई महासंयोग बनता है ज्योतिष अनुसार इस बार चैत्र नवरात्र में चार सर्वाथसिद्धि योग, एक अमृतसिद्धि योग और एक रवियोग का खूबसूरत संयोग बनेगा. इस तरह देखा जाय तो इन नवरात्रो में 6 सिद्ध योग बनेगे और इन दिनों की गयी पूजा, उपासना और किसी कार्य को आरंभ करना सबसे अधिक शुभ फल देने वाला होगा.

घट स्थापना विधि Navratri Ghat Sthapana 2020

नवरात्रो का आरम्भ घट स्थापना से ही होता है. घट स्थापना प्रतिपदा तिथि में करनी चाहिए इस दिन प्रात:काल स्नानादि के बाद स्वच्छ वस्त्र धारण कर व्रत का संकल्प ले और मिटटी की वेदी बनाकर उसमे जौ बौ ले अब इसी वेदी पर घट या कलश की स्थापना करे. अब एक नारियल में चुनरी लपेटकर इसे कलश के ऊपर स्थापित कर विधिवत समस्त देवी देवताओं का पूजन करे इसके बाद माता रानी को सभी पूजन सामग्री अर्पित करते हुए उनका श्रृंगार करे.  घट स्थापना के बाद “दुर्गा सप्तशती” का पाठ और अखंड जोट जलाकर नौ दिनों तक माँ की सच्ची भक्ति व आराधना करे.

करना न भूले ये काम Chaitra Navratri Important Things

साल 2020 चैत्र नवरात्रो में बनने वाले शुभ योगो के कारण ये नवरात्री देवी दुर्गा को प्रसन्न करने और अपने भाग्य को कई गुना अधिक मजबूत करने के लिए बेहद ही शुभ है. शास्त्रों के अनुसार इन शुभ योगो के प्रभाव का लाभ प्राप्त करने के लिए आपको कुछ बातो को जरूर ध्याम रखना चाहिए तो आइये जानते है ये कौन से कार्य है जिन्हे नवरात्री के दौरान करने से माँ के का आशीर्वाद और अपनी मनोकामनाएं पूरी की जा सकती है.

इसे भी पढ़े – जानें अपना वार्षिक राशिफल 2020

  1. नवरात्री के पहले दिन कलश स्थापना के बाद माता रानी को मखाने का हलवा या खीर का भोग लगाए इससे व्यक्ति की सभी मनोकामनाएं पूरी होती है.
  2. कन्याओं को माता रानी का ही स्वरुप माना जाता हैं. इसलिए नवरात्रि के दौरान कन्या पूजन और भोग अवश्य लगना चाहिए कहा जाता है की इससे भक्त द्वारा की गयी भक्ति का पूर्ण फल उसे प्राप्त होता है.
  3. नवरात्रि में दुर्गा चालीसा का पाठ अवश्य करे इससे घर में सकारातमक ऊर्जा का प्रवाह बढ़ता है.
  4. वास्तुशास्त्र अनुसार उत्तर-पूर्व दिशा में घट या कलश स्थापना करना सबसे उचित मना गया है. क्योकि यह दिशा देवी देवताओं की दिशा होती है.