गणेश चतुर्थी 2019 तिथि व मुहूर्त Ganesh Chaturthi 2019 Date Time

गणेश प्रतिमा स्थापना पूजा विधि Ganesh chaturthi Sthapan Puja Vidhi  

 Ganesh Chaturthi 2019 Ganesh Chaturthi 2019- गणेश चतुर्थी का पर्व भाद्रपद शुक्ल चतुर्थी के दिन मनाया जाता है। शास्त्रों में ऐसी मान्यता है कि गणेश जी का जन्म भाद्रपद शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि को मध्याह्न स्वाति नक्षत्र और सिंह लग्न में हुआ था। इसलिए यह चतुर्थी साल में आने वाली सभी चतुर्थियों में ख़ास मानी जाती है गणेश चतुर्थी का यह उत्सव लगभग दस दिनों तक पूरे हर्षोउल्लास के साथ मनाया जाता है. जिस कारण इसे गमेश महोत्सव के नाम से भी जाना जाता है आज हम आपको साल 2019 गणेश महोत्सव की तिथि शुभ मुहूर्त और 10 दिनों तक चलने वाली इसकी पूजा विधि के बारे में बताएँगे.

गणेश चतुर्थी तिथि व मुहूर्त Ganesh Chaturthi Date Time 2019

  1. शास्त्रों के अनुसार इस पर्व में मध्याह्न के समय की मध्यान्हव्यापिनी चतुर्थी ली जाती है। यदि इस दिन रविवार या मंगलवार पड़े तो इसे महा-चतुर्थी कहा जाता है.
  2. चतुर्थी तिथि शुरू होगी 2 सितम्बर सोमवार 4 बजाकर 56 मिनट पर|
  3. चतुर्थी तिथि समाप्त होगी 3 सितम्बर मंगलवार 1 बजकर 53 मिनट पर|
  4. गणेश पूजन का मध्याह्न मुहूर्त होगा 11 बजकर 5 मिनट से 13 बजकर 36 मिनट तक|
  5. पूजा की कुल अवधि होगी 2 घंटे 32 मिनट|
  6. चंद्र दर्शन से बचने का समय 2 सितम्बर को 08:55 से 21:05 तक का होगा|

गणेश प्रतिमा की स्थापना व पूजा विधि Ganesh Sthapan Puja Vidhi  

गणेश चतुर्थी के दिन प्रात:काल उठकर स्नानादि से निवृत होकर गणेश जी की प्रतिमा बनाये या घर लाये. इसके पश्चात एक कलश में जल भरकर उसे कपड़े से बांधा जाता है और इस पर गणेश प्रतिमा की स्थापना की जाती है। प्रतिमा पर सिंदूर व दूर्वा चढ़ाकर षोडशोपचार कर विधिवत पूजन किया जाता है और दक्षिणा अर्पित के बाद लड्डूओं का भोग लगाया जाता है। गणेश प्रतिमा का पूजन सांयकाल के समय कर गणेश चतुर्थी कथा, गणेश चालीसा व आरती के बाद नीचे देखते हुए चन्द्रमा को अर्घ्य देना चाहिए। चंद्र पूजन के बाद ब्राह्मणों को भोजन करवाकर दक्षिणा देनी चाहिए.

कब से कब तक होता है गणेशोत्सव Ganpati festival 2019

भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि के दिन से गणेश महोत्सव की शुरुआत होती है और लगातार 10 दिनों तक यह पर्व चलता है. गणेश जी का उत्सव गणपति प्रतिमा की स्थापना और पूजा से शुरू होकर उन्हें 10 दिनों तक घर में रखकर अनंत चतुर्दशी के दिन बप्पा को विदा किया जाता है. अनंत चतुर्दशी के दिन ढोल बजाते और नाचते गाते हुए गणेश प्रतिमा का विसर्जन किया जाता है और विसर्जन के साथ ही गणेश उत्सव की समाप्ति होती है।

राशिअनुसार जाने साल 2019 का भविष्यफल

गणेश चतुर्थी महत्व Importance of Ganesh Chaturthi

भगवान गणेश जी के जन्मदिवस के रूप में लोग गणेश चतुर्थी का 10 दिनों तक चलने वाला ये पर्व मनाया जाता है  मनाते हैं. पुराणों के अनुसार गणेश जी का जन्म चतुर्थी के ही दिन हुआ था.इस दिन लोग घरों में  भगवान गणेश की प्रतिमा स्थापित करते हैं और 9 दिनों तक लगातार पूजन के बाद 10 वे दिन प्रतिमा का विसर्जन करते है कहा जाता है कि जो भी इन 9 दिनों में गणेश महोत्सव के दौरान गणेश जी की पूजा अर्चना करते है तो उसके सारे कष्ट दूर होकर धन धन्य का वरदान प्राप्त होता है.