दीपावली 2020 तिथि व शुभ मुहूर्त Diwali Date Time 2020

Diwali Puja 2020 दीपावली तिथि व शुभ मुहूर्त 2020

Diwali Date Time 2020 Diwali Date Time 2020 – दीपावली का त्यौहार रौशनी से जगमगाता हुआ ऐसा त्यौहार है जिसे पूरे भारतवर्ष में बड़े ही हर्षोउल्लास के साथ मनाते है. कार्तिक मास की अमावस्या तिथि को मनाये जाने वाले इस पर्व में सभी लोग घरो की साफ़ सफाई कर माँ लक्ष्मी गणेश और कुबेर पूजन करते है. आज इस वीडियो में हम आपको साल 2020 में मनाये जाने वाले दीपावली पर्व की तिथि, शुभ मुहूर्त और इसकी पूजा विधि के बारे में बताएँगे.

दिवाली तिथि व शुभ मुहूर्त Diwali Festival 2020 Date Time

  1. साल 2020 में दिवाली का त्यौहार 14 नवंबर शनिवार के दिन मनाया जाएगा|
  2. लक्ष्मी पूजा मुहूर्त्त होगा – शाम 05:23 मिनट से शाम 07:18 मिनट तक |
  3. पूजा की कुल अवधि 1 घंटे 55 मिनट की होगी |
  4. प्रदोष काल समय होगा – शाम 05:23 मिनट से शाम 08:03 मिनट तक |
  5. वृषभ काल समय होगा – शाम 05:23 मिनट से  07:18 मिनट तक |
  6. अमावस्या तिथि प्रारम्भ होगी – 14 नवंबर शाम 02:17 मिनट पर |
  7. अमावस्या तिथि समाप्त होगी – 15 नवंबर प्रातःकाल 10:36 मिनट पर |

दिवाली महानिशीथ काल मुहूर्त 2020 Diwali Worship Timing

  1. दीवाली के दिन महानिशीथ काल में माता काली का पूजन किया जाता है.
  2. महानिशीथ पूजा मुहूर्त होगा – रात्रि 11:55 मिनट से प्रातःकाल 12:30 मिनट पर |
  3. पूजा की कुल अवधि 35 मिनट की होगी |

दिवाली पूजा व लक्ष्मी पूजन विधि Dewali Goddess Lakshmi Puja Vidhi

शास्त्रों के अनुसार दिवाली पर लक्ष्मी पूजा का विशेष महत्व होता है। इस दिन संध्याकाल और रात्रि के समय शुभ मुहूर्त में मां लक्ष्मी,  भगवान गणेश और देवी सरस्वती की पूजा आराधना की जाती है। दीवाली के दिन भगवान गणेश और मां लक्ष्मी जी की पूजा की जाती है। कई लोग इस दिन व्रत भी रखते है सांध्यकाल के समय चौकी पर लक्ष्मी गणेश जी की प्रतिमा स्थापित कर माँ लक्ष्मी के समीप चावलों पर जल से भरे कलश की स्थापना करे और घी के दीपक जलाये इसके बाद हाथ में जल व पुष्प लेकर सभी देवी देवताओं का आहवाहन करे और विधिवत पूजा करे महालक्ष्मी पूजन के बाद तिजोरी, बहीखाते और व्यापारिक उपकरण की पूजा करें। पूजा के बाद घर के कोनों में भी दिए जलाकर रख दे. इसके साथ ही धन के देवता कुबेर जी की पूजा भी इस दिन करना शुभ फलदायी होता है.

दिवाली पर क्या करें What to do on diwali

  • पौराणिक मान्यताओं के अनुसार कार्तिक अमावस्या यानि दीपावली के दिन प्रात:काल शरीर पर तेल की मालिश कर स्नान करना शुभ होता है इससे धन की कभी भी हानि नहीं होती है।
  • दिवाली के दिन व्रत और शाम को महालक्ष्मी पूजन करने से घर में सुख समृद्धि में कई गुना वृद्धि होती है.
  • दिवाली से पहले मध्य रात्रि को घर में भजन कीर्तन करना बहुत ही शुभ होता है. ऐसा करने से घर में व्याप्त दरिद्रता दूर होती है।

राशिअनुसार जाने साल 2020 का भविष्यफल

दीवाली पर्व का महत्व Importance of diwali

शास्त्रों के अनुसार प्रत्येक व्रत त्यौहार धार्मिक महत्व के साथ ही ज्योतिष महत्व भी रखता है माना जाता है कि त्यौहारों पर ग्रहों की दिशा और विशेष योग में की गयी पूजा और कार्य मनुष्य जीवन के लिए शुभ होते हैं। दीवाली के त्यौहार में धनतेरस के दिन किसी वस्तु की खरीददारी करना शुभ माना जाता है। इसके पीछे का ज्योतिष महत्व कहता है की इस समय सूर्य और चंद्रमा तुला राशि में स्वाति नक्षत्र में होते हैं जो की ग्रहो की बहुत ही उत्तम फल देने वाली स्थति होती है वही दीपावली आध्यात्मिक और सामाजिक रूप से भी बहुत अधिक महत्व रखती है ये अंधकार पर प्रकाश, अज्ञान पर ज्ञान, असत्य पर सत्य और बुराई पर अच्छाई की जीत का त्यौहार कहा जाता है.