Bhai Dooj 2018 Date Time Shubh Muhurt भाईदूज तिथि व शुभ-मुहूर्त

भाई दूज पूजन Bhai Dooj Pooja Vidhi 2018

Bhai Dooj 2018 भाई दूज Bhai Dooj 2018 का त्यौहार भाई-बहन के पवित्र रिश्ते और स्नेह का प्रतीक माना गया है। भाई दूज को भैया दूज, भाई टीका, यम द्वितीया, भ्रातृ द्वितीया आदि नामों से भी जाना जाता है। यह कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को मनाया जाने वाला त्यौहार है। इस दिन बहनें अपने भाइयों को तिलक लगाकर उनकी लंबी आयु और सुख समृद्धि की कामना करती है। वहीं भाई शगुन के रूप में बहन को उपहार भेंट करते है और उनकी रक्षा का वचन देते है. आज हम आपको भाईदूज के शुभ मुहूर्त तिथि और इसकी पूजा विधि के बारे में बताएँगे.

भाईदूज तिथि व शुभ-मुहूर्त Bhai Dooj Date Shubh Muhurt

  1. भाईदूज तिथि9 नवंबर शुक्रवार
  2. तिलक करने का शुभ समय – 13:09 से 15:17
  3. पूजा की कुल अवधि- 2 घंटा 10 मिनट

भाईदूज पूजन- सामग्री bhai dooj pujan samgri

भैयादूज का त्यौहार भारत में मनाये जाने वाले बड़े और प्रमुख त्योहारों में से एक है इस दिन सभी बहने अपने भाइयों की लम्बी उम्र और उनके सुख समृद्धि की कामना करती है बहने इस दिन भाईओं की पूजा करती है और उन्हें तिलक लगाती है। भाई को तिलक लगाने के लिए बहने पूजन थाल सजाती है पूजन के लिए कुछ जरूरी सामग्री इस प्रकार है.

पूजा के लिए आरती की थाली, टीका, चावल, नारियल, गोला (सूखा नारियल), मिठाई, दीपक, धूप, कलावा आदि|

भाईदूज पूजन विधि bhai dooj puja vidhi

भाईदूज के दिन सभी बहनें अपने भाई को तिलक करती है और आरती के लिए थाल सजाती है। जिसमें कुमकुम, सिंदूर, चंदन, फल, फूल, मिठाई और सुपारी आदि सामग्री होनी चाहिए। तिलक करने से पहले चावल के मिश्रण से एक चौक बनायी जाती है चावल के इस चौक पर भाई को बिठाकर शुभ-मुहूर्त में बहनें अपने भाई का तिलक करती है.

राशिअनुसार जाने साल 2018 का भविष्यफल

तिलक करने के बाद फूल, पान, सुपारी, बताशे और काले चने भाई को दें और उनकी आरती उतारें। इस मौके पर बहनें अपने भाइयों को तिलक लगाकर उनकी लंबी आयु और सुख समृद्धि की कामना करती है। तिलक और आरती के बाद भाई अपनी बहनों को उपहार भेंट करते है और उनकी रक्षा का वचन देते है.