अधिक संकष्टी चतुर्थी शुभ मुहूर्त 2020 Ashwin Sankashti Chaturthi Date 2020

संकष्टी संकष्टी चतुर्थी पूजा विधि Ashwin Sankashti  Chaturthi Vrat Pooja Vidhi 

Sankashti Chaturthi Sankashti Chaturthi – शास्त्रों के अनुसार भगवान् गणेश जी को प्रसन्न करने के लिए प्रत्येक माह की चतुर्थी तिथि को गणेश चतुर्थी का व्रत किया जाता है. भगवान गणेश जी सभी देवी में प्रथम पूज्य है वे अपने भक्तो को सुख समृद्धि का आशीर्वाद देते है आश्विन अधिक मास में आने वाली चतुर्थी तिथि बहुत ही शुभ मानी जाती है. कहा जाता है की जो भी सच्चे मन से चतुर्थी के दिन गणेश जी की आराधना करता है उसके जीवन से सभी कष्ट दूर हो जाते है आज हम आपको आश्विन अधिक मास में पड़ने वाली कृष्णा संकष्टी गणेश चतुर्थी व्रत की शुभ तिथि, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और इस दिन किये जाने वाले उपाय के बारे में बताएँगे.

संकष्टी चतुर्थी शुभ मुहूर्त 2020 Ganesh Sankashti  Chaturthi 2020

  1. साल 2020 में आश्विन अधिक मास की कृष्ण संकष्टी चतुर्थी का व्रत 5 अक्टूबर सोमवार के दिन रखा जाएगा.
  2. पूजा का शुभ मुहूर्त – प्रातःकाल 9:32 मिनट से 11 : 20 मिनट तक|
  3. आश्विन, कृष्ण चतुर्थी तिथि प्रारम्भ होगी- 5 अक्टूबर प्रातःकाल 10:02 मिनट पर |
  4. आश्विन, कृष्ण चतुर्थी तिथि समाप्त होगी – 5 अक्टूबर सायंकाल 12:31 मिनट पर |
  5. चंद्रोदय का समय होगा- 5 अक्टूबर रात्रि 08:12 मिनट पर|

गणेश चतुर्थी पूजा विधि Ganesh Chaturthi Vrat Puja Vidhi

शास्त्रों के अनुसार अधिक मास में की गयी पूजा आराधना विशेष फलदायी मानी जाती है जो भी लोग संकष्टी के दिन व्रत व पूजा पाठ करते है उन्हें ब्रह्ममुहूर्त में उठकर स्नान के बाद स्वच्छ वस्त्र धारण कर व्रत का संकल्प लेना चाहिए. अब एक साफ चौकी पर गंगाजल छिड़क कर हरे रंग का वस्त्र बिछाएं और इस चौकी पर भगवान गणेश की प्रतिमा स्थापित करें. इसके बाद भगवान गणेश जी का आह्वाहन करते हुए उन्हें कुमकुम से तिलक करें और उन्हें सिंदूर, फूल, फल, वस्त्र, नैवेद्य और उनका प्रिय दूर्वा अर्पित करते हुए धुप दीप जलाये. इसके बाद भगवान गणेश जी के मंत्रों का जाप और श्री गणेश स्तोत्र का पाठ करें. अंत में लड्डूओं का भोग लगाएं और चंद्रोदय के पश्चात चन्द्रमा को जल का अर्घ्य देकर व्रत संपन्न करे.

संकष्टी चतुर्थी उपाय ashwin Ganesh Sankashti  Chaturthi

  1. संकष्टी चतुर्थी के दिन गणेश जी को 21 लड्डूओं का भोग लगाएं। इस उपाय से घर में सुख-समृद्धि का वास होता है।
  2. आज के दिन गणेश जी को हरी दूर्वा अर्पित करें इससे जीवन में सुख समृद्धि और बॉल बुद्धि का वरदान मिलता है.
  3. संकष्टी चतुर्थी के दिन ऊँ गं गणपतये नम: मंत्र का 108 बार जाप करें आज किया यह उपाय मनोकामना की पूर्ति करता है.
  4. यदि इस दिन गणेश जी को 21 दूर्वा की माला बनाकर अर्पित की जाय तो इससे आपका रुका धन वापस मिलने के योग बनते है.