साल का अंतिम सूर्य ग्रहण 2019 Solar Eclipse Surya Grahan 2019 

सूर्य ग्रहण कब है 2019 Surya grahan kab hai 2019

Solar Eclipse 2019 Solar Eclipse 2019 – साल 2019 में दो सूर्य ग्रहण लग चुके हैं इस साल का अंतिम ग्रहण 26 दिसंबर को लगेगा. वैज्ञानिक और धार्मिक दृष्टि से ग्रहण का बेहद खास महत्व होता है. इसका प्रकृति और मानव समुदाय पर गहरा प्रभाव देखने को मिलता है जिस कारण हर साल घटित होने वाले ग्रहण को लेकर हम सभी के मन में जिज्ञासा बनी रहती है। आज हम आपको साल 2019 के अंतिम सूर्यग्रहण की तिथि ग्रहण, शुरू होने का समय, सूतक काल का समय और इस दौरान किये जाने वाले व ना किये जाने वाले कार्यो के बारे में बातएंगे. के बारे में बताएँगे.

सूर्य ग्रहण कब होता है When is Solar Eclipse 2019

सूर्य और पृथ्वी के बीच जब चंद्रमा आ जाता है तब इस स्थिति में धरती पर सूर्य का प्रकाश नहीं पड़ता। यही खगोलीय घटना सूर्य ग्रहण कहलाती है.

ग्रहण प्रारम्भ व समाप्ति का समय Solar Eclipse Starting Ending Time 2019

  • साल 2019 का अंतिम सूर्यग्रहण 26 दिसंबर गुरुवार के दिन लगेगा|
  • सूर्यग्रहण प्रारम्भ काल समय होगा – 26 दिसंबर प्रातःकाल 08:17 मिनट|
  • सूर्यग्रहण परमग्रास समय होगा – 26 दिसंबर प्रातःकाल 09:31 मिनट|
  • सूर्यग्रहण समाप्ति काल समय होगा – 26 दिसंबर प्रातःकाल 10:57 मिनट|
  • खण्डग्रास की अवधि होगी – 02 घण्टे 40 मिनट व 6 सेकण्ड्स|
  • सूतक काल शुरू होगा – 25 दिसंबर शाम 05:32 मिनट|
  • सूतक समाप्त होगा – 26 दिसंबर प्रातःकाल 10:57 मिनट|

सूतक काल क्या होता है Solar Eclipse Sutak Kaal Timeing 2019

किसी भी सूर्य ग्रहण से पहले सूतक काल शुरू होता है सूतक काल ग्रहण का वो समय होता है जिसमे कोई भी शुभ कार्य नहीं किये जाते है। सूतक काल के समय मंदिरों के कपाट बंद कर दिए जाते है और पूजा-पाठ भी नहीं की जाती है शास्त्रों के अनुसार कहा जाता है की सूतक के दौरान ना ही भोजन पकाना चाहिए और ना ही ग्रहण करना चाहिए प्राचीन मान्यताओं के अनुसार ग्रहण के दौरान निकलने वाली की किरणों से भोजन अशुद्ध हो जाता है।

राशिअनुसार जाने साल 2020 का भविष्यफल

कब और कहाँ लगेगा सूर्य ग्रहण Solar Eclipse 2019

साल का तीसरा और अंतिम सूर्य ग्रहण 26 दिसंबर गुरुवार के दिन लगेगा। यह वलयाकार सूर्य ग्रहण होगा जो भारतीय समयानुसार प्रातःकाल 08:17 मिनट से लेकर 10: 57 मिनट तक रहेगा। यह ग्रहण भारत के साथ पूर्वी यूरोप, एशिया, उत्तरी/पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया और पूर्वी अफ्रीका में देख अजा सकेगा. यह सूर्य ग्रहण धनु राशि और मूल नक्षत्र में लगेगा। जिस कारन धनु राशि तथा मूल नक्षत्र से संबंधित लोगो के जीवन पर इस ग्रहण का प्रभाव पड़ेगा। इन राशियों और नक्षत्र से संबंधित लोगों को सूर्य ग्रहण के दौरान सावधानी रखनी चाहिए.

ग्रहण के दौरान क्या करें Solar Eclipse What To Do

  • ज्योतिष शास्त्र अनुसार ग्रहण के दौरान किसी भी तरह की पूजा-पाठ नहीं करनी चाहिए। हालांकि ग्रहण काल में लगातार मंत्रों का जाप करना चाहिए।
  • ग्रहण लगने से पहले खाने पीने की सभी चीजों में तुलसी के पत्ते डालने की परंपरा है।
  • ग्रहण समाप्त होने के बाद पूरे घर में गंगाजल का छिडकाव कर घर को शुद्ध कर लेना चाहिए.
  • शास्त्रों के अनुसार ग्रहण के समय कोई भी शुभ व नया कार्य शुरू नहीं करना चाहिए।

ग्रहण के दौरान न करें ये काम Solar Eclipse 2019 Not To Do These Things

  • ग्रहण काल में किसी भी मंदिर में प्रवेश नहीं करना चाहिए और ना ही घर के मंदिर में पूजा करनी चाहिए.
  • ग्रहण काल के समय पूजा स्थल को किसी पर्दे से ढक दें।
  • ग्रहण के सूतक काल शुरू होने के साथ ही भोजन न करे. हालाँकि बच्चो, बूढ़ों और बीमार लोगों को इसकी मनाही नहीं है.
  • सूतक काल के दौरान सोना नहीं चाहिए.
  • गर्भवती महिलाओं को विशेष ध्यान रखना चाहिए और ग्रहण के दौरान लेटना या हाथ-पैर मोड़ कर नहीं बैठना चाहिए.