शारदीय नवरात्र कलश स्थापना पूजा विधि Shardiya Navratri Date Time 2019

नवरात्र 2019 तिथि व शुभ मुहूर्त Navratri 2019 Puja Date Time

Shardiya NavratriShardiya Navratri- शास्त्रों में शारदीय नवरात्रों को विशेष माना गया है. यह दुर्गा माँ के प्रति भक्तों की अटूट आस्था और विश्वास का प्रतीक पर्व है. नौ दिनों तक चलने नवरात्र के इस पर्व में माँ दुर्गा के नौ रूपों की आराधना की जाती है. आश्विन माह में आने वाली नवरात्री ‘शारदीय नवरात्र’ ककहलाती है  आज हम आपको शारदीय नवरात्र 2019 तिथि, कलश स्थापना शुभ मुहूर्त और नौ दिनों तक की जाने वाली पूजा विधि के बारे में बताएँगे.

शारदीय नवरात्र 2019 तिथि व शुभ मुहूर्त Shardiya Navratri worship date time

  1. साल 2019 में शारदीय नवरात्र का पर्व 29 सितम्बर रविवार से शुरू होकर 08 अक्टूबर मंगलवार तक चलेगा.
  2. प्रतिपदा तिथि शुरू होगी 28 सितम्बर शनिवार 23 बजकर 56 मिनट पर|
  3. प्रतिपदा तिथि समाप्त होगी 29 सितम्बर रविवार 20 बजकर 13 मिनट पर |
  4. कलश स्थापना प्रतिपदा तिथि में करना बेहद शुभ और लाभकारी होता है.
  5. शास्त्रों के अनुसार कलश स्थापना प्रतिपदा तिथि में अभिजीत मुहूर्त में करना चाहिए।

नवरात्री पूजा सामग्री Navratri pujan samagri

नवरात्री में माँ दुर्गा की पूजा के लिए माँ दुर्गा की प्रतिमा, प्रतिमा की स्थापना के लिए चौकी,  लाल वस्त्र , कलश, नारियल, आम के पत्ते, फूल, अक्षत, मौली, रोली, पूजा की थाल , गंगाजल, कुमकुम, नैवेद्य के रूप में गाय का घी माता को अर्पित करने के लिए रखना चाहिए|

राशिअनुसार जाने साल 2019 का भविष्यफल

कलश स्थपना विधि Shardiya Navratri kalash sthapana 2019

नवरात्र के पहले दिन कलश स्थापना की जाती है और इसी दिन माता शैलपुत्री की पूजा भी होती है नवरात्री के पहले दिन स्नान आदि के बाद व्रत का संकल्प लेकर पूजा स्थल को अच्छी तरह से शुद्ध कर ले और मिट्टी की वेदी बनाकर उसमे 7 प्रकार के अनाज बोये इस वेदी पर कलश स्थापित करे कलश के ऊपर रोली से स्वास्तिक बनाकर कलश पर रक्षा सूत्र बांधे और कलश में गंगाजल मिला जल डालकर सुपारी व सिक्का दाल दे एक नारियल को लाल कपडा या चुनरी में लपेट कर कलश पर रख दे और इसे आम या अशोक के पत्ते से सजा लेऔर अंत में गणेश जी की पूजा के बाद सभी देवी देवताओं का आह्वाहन कर माता शैलपुत्री का पूजन करे.