Sharad Purnima Kojagar Purnima Puja Vidhi शरद पूर्णिमा व्रत शुभ मुहूर्त

शरद पूर्णिमा व्रत 2018 Sharad Purnima Vrt 2018 Date Time Muhurt Puja Vidhi

 Sharad Purnima पूर्णिमा का यह पावन व्रत हिंदू धर्म में खास महत्व रखता है शरद पूर्णिमा को कोजागर पूर्णिमा, जागृति पूर्णिSharad Purnima शरद पूर्णिमा या कोजागर पूर्णिमा का व्रत शारदीय नवरात्रि के बाद आता है। साल 2018 में शरद पूर्णिमा 23 अक्टूबर मंगलवार के दिन होगी.मा या कुमार पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है. प्रत्येक माह में आने वाली इस पूर्णिमा को लोग व्रत रखते है और चाँद की पूजा करते है. लेकिन अश्विन माह में आने वाली ये पूर्णिमा यानी शरद पूर्णिमा सबसे बड़ी पूर्णिमा मानी गयी है और इसका पौराणिक महत्व भी बहुत अधिक है आज हम आपको शरद पूर्णिमा व्रत के शुभ मुहूर्त पूजा विधि और इसके महत्व के बारे में बताएँगे.

शरद पूर्णिमा या कोजागर पूर्णिमा शुभ मुहूर्त Sharad purnima vrt dates

  1. शरद पूर्णिमा या कोजागर पूर्णिमा का व्रत 23 अक्टूबर मंगलवार के दिन रखा जायेगा.
  2. पूर्णिमा तिथि 23 अक्टूबर के दिन 22 बजकर 36 मिनट पर शुरू होगी और 24 अक्टूबर के दिन 22 बजकर 14 मिनट पर समाप्त होगी.

शरद पूर्णिमा व्रत पूजा विधि Process of worship sharad purnima

पौराणिक कथाओं के अनुसार इस दिन माँ लक्ष्मी जी जन्म दिन मनाया जाता है इसीलिए धनप्राप्ति के लिए भी यह दिन काफी उत्तम मन गया है. शरद पूर्णिमा के दिन प्रातः काल उठकर स्नानादि से निवृत होकर व्रत का संकल्प लेना चाहिए और व्रत करना चाहिए इस दिन इष्ट देव और माँ लक्ष्मी जी की पूजा की जाती है माँ महालक्ष्मी जी का पूजन कर उनके समक्ष घी का दीपक जलाकर सभी पूजन सामग्री और फल-फूल अर्पित करने चाहिए. ऐसी मान्यता है की शरद पूर्णिमा के व्रत में रात को चन्द्रमा को अर्घ्य देने के बाद ही भोजन करना चाहिए. इस दिन रात्रि जागरण करने से धन-संपत्ति में वृद्धि होती है. इस दिन ब्राह्माणों को खीर का भोजन कराना और मंदिरों में खीर का दान करना विशेष लाभकारी होता है.

शरद पूर्णिमा का महत्व Sharad purnima importance

शास्त्रों में शरद पूर्णिमा को काफी महत्वपूर्ण तिथि मना गया है. इस दिन से ही शरद ऋतु का आरम्भ भी होता है. कहते है की इस दिन चन्द्रमा संपूर्ण और सोलह कलाओं से युक्त होता है और चन्द्रमा से अमृत  वर्षा होती है जिससे व्यक्ति को धन, प्रेम और स्वास्थ्य कवरदान मिलता है. लक्ष्मी प्राप्ति के लिए इस व्रत को विशेष रुप से करना चाहिए. शास्त्रों के अनुसार इस दिन किये गए अनुष्ठान अवश्य ही सफल होते है. इस दिन खीर खाने से अमृत के बराबर ही फल प्राप्त होते है.

राशिअनुसार जाने साल 2018 का भविष्यफल

शरद पूर्णिमा के नियम Rules of sharad purnima Vrat

शरद पूर्णिमा या कोजागर पूर्णिमा पर माँ लक्ष्मी जी की कृपा और उनका आशीर्वाद पाने के लिए कुछ नियमो का पालन अवश्य करना चाहिए.

  1. शरद पूर्णिमा के दिन जल और फल ग्रहण करके उपवास कर सकते है
  2. यदि आप किसी भी कारणवश उपवास ना कर सकें तो कोशिश करे की इस दिन सात्विक आहार ग्रहण करें।
  3. मान्यताओं के अनुसार इस दिन सफेद रंग के वस्त्र धारण करने चाहिए.
  4. शरद पूर्णिमा के दिन यदि आप पूरे विधि विधान के साथ पूजा करे और इन नियमो का पालन करे तो आपको माँ लक्ष्मी जी की कृपा अवश्य ही प्राप्त होती है.