Sawan Putrada Ekadashi 2018 पुत्रदा सावन एकादशी व्रत तिथि शुभ मुहूर्त

Sawan Putrada Ekadashi Vrat 2018 Date Time सावन पुत्रदा एकादशी तिथि शुभ मुहूर्त

Sawan Putrada Ekadashi 2018 Sawan Putrada Ekadashi 2018- शास्त्रों में एकादशी से बड़ा कोई व्रत नहीं माना गया है। पूरे साल भर में वैसे तो 24 एकादशियाँ आती है और सभी का अपना अलग-अलग महत्व है. कहा जाता है की प्रत्येक व्यक्ति को अपने सांसारिक और भौतिक सुखों की प्राप्ति और जीवन की सभी परेशानियों को दूर करने के लिए एकादशी का व्रत अवश्य करना चाहिए, आज हम आपको एक ऐसी ही बेहद ख़ास एकादशी है के बारे में बताएँगे जिसे श्रावणी एकादशी जो श्रावण माह के शुक्ल पक्ष के ग्यारहवें दिन मनाई जाती है. और जिसे पुत्रदा एकादशी के नाम से जाना जाता है पुत्रदा एकादशी अर्थात पुत्र प्रदान करने वाली एकादशी.मान्यता है की जो लोग संतान सुख पाना चाहते है उन्हें यह व्रत अवश्य ही करना चाहिए.

श्रावणी पुत्रदा एकादशी व्रत क्या है Sawan Putrada Ekadashi 2018

Sawan Putrada Ekadashi 2018 कहा जाता है की एक सफल दांपत्य जीवन के लिए स्वस्थ संतान का होना बेहद जरूरी  होता है पुत्रदा एकादशी जैसा की इसके नाम से ही पता चलता है की ये व्रत ख़ास तौर पर संतान के लिए रखा जाने वाला व्रत है श्रावणी एकादशी या पुत्रदा एकादशी का व्रत करने से व्यक्ति को न केवल संतान सुख प्राप्त होता है बल्कि संतान का बेहतर स्वस्थ्य, अच्छा कॅरियर और उसके सुखी वैवाहिक जीवन का वरदान भी प्राप्त होता है.

पुत्रदा एकादशी व्रत के नियम Putrada Ekadashi Vrat 2018 Vrat Niyam

  1. शास्त्रों की माने तो पुत्रदा एकादशी का व्रत बेहद ही ख़ास व्रत होता है इसीलिए इस व्रत को करने वाले व्यक्ति को दशमी के दिन प्याज़-लहसुन से परहेज करना चाहिए.
  2. दशमी तिथि के दिन सुबह स्नान आदि से निवृत्त होकर व्रत का संकल्प लेना चाहिए.
  3. पुत्रदा एकादशी के दिन भगवान विष्णु जी के बाल रूप की पूजा करने का विधान है.
  4. एकादशी तिथि यानि की द्वादशी तिथि के दिन भगवान विष्णु को अर्घ्य देकर पूजा सम्पन्न करनी चाहिए.

पुत्रदा एकादशी का महत्व Importance Of Putrda Ekadashi Vrat

हिन्दू पुराणों में एकादशी को ‘हरी वसर’ और ‘हरी दिन’ भी कहा जाता है। स्कन्द पुराण और पदम् पुराण में भी एकादशी का ख़ास महत्व बताया गया है। कहते है की जो भी लोग एकादशी का व्रत रखते हैं वो इस व्रत की तैयारी एक दिन पहले यानि की दशमी तिथि से ही शुरू कर देते है कई लोग इस दिन बिना नमक का खाना खाते है. पौराणिक कथाओं के अनुसार पुत्रदा एकादशी का व्रत करने से व्यक्ति को उत्तम संतान प्राप्ति का वरदान मिलता है और इस व्रत के प्रभाव से व्यक्ति के जीवन की सभी परेशानियना भी दूर हो जाती है.

राशिअनुसार जाने साल 2018 का भविष्यफल 

सावन पुत्रदा एकादशी 2018 शुभ मुहूर्त और तिथि Sawan Putrada Ekadashi Tithi Muhurt 

  1. साल 2018 में सावन पुत्रदा एकादशी 22 अगस्त बुधवार के दिन है।
  2. एकादशी तिथि प्रारंभ = एकादशी तिथि 21 अगस्त मंगलवार के दिन 05:16 मिनट पर शुरू होगी।
  3. एकादशी तिथि समाप्त = 22 अगस्त बुधवार को 17:40 मिनट पर।
  4. व्रत खोलने का समय = 23 अगस्त को 05:58 मिनट से 08:32 तक।
  5. द्वादशी तिथि समाप्ति समय- पारण के दिन द्वादशी तिथि समाप्त होगी 10:15 मिनट पर|