Raksha Bandhan Date Time Muhurt 2018 रक्षाबंधन तिथि शुभ समय Festival Tips

राखी रक्षाबंधन पर्व 2018 Rakhi Festival 2018 Pujan Vidhi

Raksha Bandhan Date TimeRaksha Bandhan Date Time- कहते है किसी भी कार्य की शुरुआत यदि शुभ मुहूर्त में की जाय तो उसके शुभ परिणाम व्यक्ति को प्राप्त होते है. भाई-बहन के निस्वार्थ प्रेम को अभिव्यक्ति करने का रक्षाबंधन ख़ास दिन श्रावण माह की पूर्णिमा तिथि को मनाया जाता है। शास्त्रों की माने तो श्रावणी पूर्णिमा 26 अगस्त के दिन होगी और  इस दिन सभी बहनें अपने भाई की कलाई पर रक्षा सूत्र यानी की राखी बांधती है और उसके उज्जवल भविष्य की कामना करती है सभी भाई भी स्नेह पूर्वक अपनी बहनों को उपहार देते हैं और उनकी रक्षा का वचन लेते है. रक्षाबंधन पर राखी बांधने के मुहूर्त को लेकर कई मत होते है क्योंकि राखी के दिन भद्रा रहती है। लेकिन साल 2018 में राखी के दिन भद्रा नहीं है, इसलिए रक्षाबंधन का यह बड़ा पर्व पूरे दिन मनाया जा सकेगा. आज हम आपको अगस्त माह में पड़ने जा रहे रक्षाबंधन त्यौहार के शुभ महूर्त तिथि के बारे में बताएँगे.

रक्षाबंधन शुभ मुहूर्त Raksha Bandhan Date Time Rakhi Shubh Muhurt 2018

ज्योतिष अनुसार पूर्णिमा तिथि 25 अगस्त दोपहर 3 बजकर 16 मिनट से शुरू हो जाएगी और 26 अगस्त को सायं 5 बजकर 25 मिनट तक रहेगी। वैसे तो भाई की कलाई पर राखी बांधने का कोई अशुभ समय नहीं होता है। लेकिन अगर शास्त्रों की माने तो प्रत्येक शुभ काम के लिए एक शुभ मुहूर्त निर्धारित किया गया है. साल 2018 में रक्षाबंधन 26 अगस्त रविवार के दिन मनाया जाएगा.

रक्षाबंधन का शुभ मुहूर्त- रक्षाबंधन का शुभ मुहूर्त 26 अगस्त को प्रातः 7.43 मिनट से दोपहर 12.28 मिनट तक रहेगा. इसके बाद दोपहर 2.03 मिनट से 3.38 मिनट तक राखी बांधने का शुभ मुहूर्त रहेगा. 26 अगस्त को सायं 5.25 मिनट पर पूर्णिमा तिथि समाप्त हो जाएगी. लेकिन सूर्योदय व्यापिनी तिथि मानने के कारण इस दिन रात के समय तक राखी बाँधी जा सकेगी.

राशिअनुसार जाने साल 2018 का भविष्यफल

रक्षाबंधन पूजा सामग्री Raksha Bandhan Festival 2018 Pujaa Thaal 

रक्षा बंधन का त्यौहार सभी बड़े त्योहारों में से एक है तो चलिए जानते है भाई बहनो के प्रेम के इस ख़ास दिन पूजा के लिए क्या क्या पूजन सामग्री होनी चाहिए. भाई के लिए राखी, तिलक करने के लिए कुमकुम व अक्षत, नारियल, मिठाई, सिर पर रखने के लिए छोटा रुमाल और आरती के लिए दीपक. इन सभी चीजों से राखी की थाली को सजाये और अपने भाई की कलाई पर राखी बांधने के साथ उसकी दीर्घायु और प्रसन्नता के लिए ईश्वर से कामना करना ना भूले .