Pitru Paksh 2020 Dates | पितृ पक्ष कब से शुरू है 2020

पितृ पक्ष कब से कब तक है Pitru Paksh Starting Date 2020

pitru Paksh 2020Pitru Paksh 2020- पितृपक्ष एक महत्वपूर्ण पक्ष माना गया है. शास्त्रों के अनुसार पितृ देव स्वरूप होते हैं। इस पक्ष में पितरों के नाम से दान, तर्पण तथा श्राद्ध जैसे कार्य किये जाते है माना जाता है की जो भी इन कार्यो को  श्रद्धापूर्वक करता है तो उनपर पितरो का आशीर्वाद हमेशा बना रहता है. मान्यता है की पितृपक्ष में किया गया श्राद्ध-कर्म सांसारिक जीवन को सुखमय बनता है। हर साल पितृ पक्ष के बाद नवरात्री शुरू होती है लेकिन इस बार पितृ पक्ष और नवरात्र के बीच में अधिकमास पड़ने के कारण दोनों में एक महीने का अंतर हो जाएगा आज हम इस वीडियो में आपको पितृ पक्ष 2020 कब से शुरू हो रहेहै, सभी महत्वपूर्ण तिथियां, पितृ पक्ष में क्या करना चाहिए और किन बातो का विशेष ख्याल रखना चाहिए इन बातो के बारे में बताएँगे.

श्राद्ध पक्ष की महत्वपूर्ण तिथियां Pitru Paksh dates 2020

Pitru Paksh 2020 भाद्र कृष्ण प्रतिपदा तिथि से हर साल पितृ पक्ष का आरंभ हो जाता है साल 2020 में पितृ पक्ष का आरम्भ 2 सितम्बर से होगा और इसका समापन 17 सितम्बर गुरुवार के दिन होगा इसी दिन पितृ विसर्जन किया जाएगा|

  1. पूर्णिमा का श्राद्ध- 2 सितंबर
  2. पंचमी का श्राद्ध- 7 सितंबर
  3. एकादशी का श्राद्ध- 13 सितंबर
  4. सर्वपितृ अमावस्या का श्राद्ध – 17 सितंबर

पितृ पक्ष का महत्व Pitru Paksh Importance

Pitru Paksh 2020 धार्मिक मान्यता के अनुसार ऐसा माना जाता है की पितरों के प्रसन्न होने पर देवी-देवता प्रस्नन रहते हैं। क्योकि पितरों को भी देवतुल्य समझा जाता है पितरों को समर्पित यह श्राद्धपक्ष भादों पूर्णिमा से आश्विन अमावस्या तक चलता है। यह पक्ष विशेष रूप से पितरों के लिए ही बनाया है। इसीलिए पितृपक्ष में पितरों का तर्पण और श्राद्ध करने का विशेष महत्व है। इस पक्ष में पितरो के निमित दान और श्राद्ध कर्म करने से वयक्ति को पितरो का आशीर्वाद मिलता है और उनके आशीर्वाद से जीवन से दुःख परेशानिया दूर होती है.

पितृ पक्ष में क्या करे क्या ना करे Pitru Paksh 2020 Kya kare kya na kare

  1. पितृ पक्ष में कई बातो और नियमो का पालन प्रत्येक व्यक्ति को जरूर करना चाहिए जैसे –
  2. श्राद्धपक्ष के दौरान मसूर की दाल, धतूरा, अलसी, कुलथी इन दालों का प्रयोग वर्जित बताया गया है।
  3. इस दौरान तामसिक भोजन भी ग्रहण नहीं करना चाहिए.
  4. पितृ पक्ष में पित्तरों का अपमान न करें .
  5. पितृ पक्ष में घर पर आए व्यक्ति या जरूरतमंद का अपमान न करें.

इसे भी पढ़े – जानें अपना वार्षिक राशिफल 2020.

  1. पितृ पक्ष में घर पर कलेश नहीं करना चाहिए।
  2. पितृ पक्ष में पित्तरों का तर्पण और श्राद्ध अवश्य करे क्योंकि इस समय पर पित्तर धरती पर उपस्थित होते हैं।
  3. पितृ पक्ष में गाय, कुत्ते और कौए को भोजन कराना चाहिए।
  4. इस दौरान पित्तरों के नाम से दान जरूर करना चाहिए।
  5. पितृ पक्ष में ब्राह्मणों को भोजन कराकर सामर्थ्य अनुसार दान दक्षिणा देनी चाहिए।