पौष पूर्णिमा 2020 Paush Purnima Vrat Date Time Muhurat 2020

पौष पूर्णिमा पूजा विधि Paush Purnima Puja Vidhi in Hindi

पौष पूर्णिमापौष पूर्णिमा- हिन्दू पंचांग की माने तो पौष महीने में शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि पौष पूर्णिमा कहलाती है. शास्त्रों में पूर्णिमा तिथि का बहुत बड़ा महत्व है। पूर्णिमा तिथि के दिन चंद्रमा अपने पूर्ण आकार में होता है। इस दिन दान, स्नान और सूर्य देव को अर्घ्य देने का बहुत ख़ास महत्व बताया गया है। कहा जाता है इस महीने में किये सभी धार्मिक कार्य पूर्णिमा पर स्नान करने से सफल हो जाते है. आज हम आपको साल 2020 में पौष पूर्णिमा व्रत की शुभ तिथि पूजा का शुभ मुहूर्त और इसकी पूजा विधि के बारे में बताएँगे.

पौष पूर्णिमा शुभ मुहूर्त 2020 Paush Purnima Shubh Muhurat 2020

  1. साल 2020 में पौष पूर्णिमा का व्रत 10 जनवरी शुक्रवार के दिन रखा जाएगा.
  2. पूर्णिमा तिथि शुरू होगी- 10 जनवरी शुक्रवार सुबह 02:34 मिनट पर|
  3. पूर्णिमा तिथि समाप्त होगी – 11 जनवरी शनिवार सुबह 12:50 मिनट पर|

पौष पूर्णिमा पूजा विधि Paush Purnima Puja Vidhi

शास्त्रों के अनुसार पौष पूर्णिमा के दिन स्नान, दान, जप और व्रत करने से पुण्य फल की प्राप्ति होती है इस दिन सूर्य देव की आराधना की जाती है पौष महीने की पूर्णिमा के दिन प्रातःकाल स्नान से पहले व्रत का संकल्प लें और किसी पवित्र नदी या कुंड में स्नान करें स्नान के पश्चात सूर्य देवता की आराधना करने का विधान है सूर्य देव के मंत्र का उच्चारण करते हुए सूर्य देव को जल से अर्घ्य दे. इसके बाद भगवान मधुसूदन की पूजा कर उन्हें नैवेद्य अर्पित करना चाहिए। अंत में किसी जरुरतमंद व्यक्ति को भोजन कराकर दान-दक्षिणा तिल, गुड़, कंबल और ऊनी वस्त्र आदि का दान करना शुभ होता है.

पौष पूर्णिमा का महत्व Importance of Paush Purnima Vrat

पौष माह में आने वाली पूर्णिमा को मोक्ष की कामना रखने वाले लोग बहुत शुभ मानते हैं। पौष माह के बाद माघ महीने का आरम्भ हो जाता है इसीलिए माघ महीने में किए जाने वाले स्नान दान की शुरुआत भी पौष पूर्णिमा से ही हो जाती है। ऐसा कहा जाता है की जो भी लोग पौष पूर्णिमा के दिन विधिपूर्वक प्रात:काल स्नान कर दान पुण्य के कार्य करते है उन्हें मोक्ष की प्राप्ति होती है। वैदिक ज्योतिष से जुड़ी मान्यता के अनुसार पौष माह सूर्य देव का माह कहलाता है। इसलिए इस महीने की पूर्णिमा के दिन पवित्र नदियों में स्नान और सूर्य देव को अर्घ्य देना बहुत ही लाभकारी होता है.

राशिअनुसार जाने साल 2020 का भविष्यफल

इस 1 उपाय से करे माँ लक्ष्मी को प्रसन्न Posh Purnima Vrat Puja Upay

शास्त्रों की माने तो ऐसा कहा जाता है की पौष माह की पूर्णिमा के दिन चंद्रोदय के समय चन्द्रमा को कच्चे दूध में चीनी और चावल मिलाकर अर्घ्य दिया जाय तो इससे धन सम्बन्धी सभी परशानिया धीरे धीरे सम्पत होने लगती है. इसके साथ ही यदि इस दिन 11 कौड़ियां माँ लक्ष्मी जी के समक्ष चढ़ाकर उन पर हल्दी से तिलक कर अगले दिन सुबह इन कौड़ियों को लाल कपड़े में बांधकर तिजोरी में रखा जाय तो यह उपाय भी जीवन में कभी धन का अभाव नहीं होने देता है और व्यक्ति पर माँ लक्ष्मी की कृपा हमेशा बनी रहती है.