Navratri Udyapan Vidhi माता की चौकी कलश के चावल नारियल का उद्यापन विधि

नवरात्रि माता की चौकी कलश के चावल नारियल कब कैसे हटाएं Navratri Vrat Udhyapan Vidhi

Navratri Udyapan Vidhi Navratri Udyapan Vidhi नवरात्रि के नौ दिनों तक देवी पूजन का विशेष महत्व होता है. मान्यताओं के अनुसार इस बार अष्टमी और नवमी एक ही दिन होगी. नवरात्रि के प्रथम दिन घर में माँ लक्ष्मी जी की स्थापना की जाती है व माता की चौकी सजाई जाती है. कई लोगो को इस बात की जानकारी नहीं होती है की नवदुर्गे के पूजन के नौ दिनों के बाद माता की चौकी को कब हटाना चाहिए, कलश के चावलों का क्या करे साथ ही कलश के नारियल का क्या करे. आज हम आपको इसी विषय पर कुछ ख़ास बाते बताने जा रहे है.  

कलश के चावलों को क्या करे Navratri Kalash Ke Chawal Tips

माता की पूजा के लिए कलश स्थापना करते वक़्त हम जो रंगेहुए चावलों से अष्टदाल कमल बनाते है उन चावलों को या तो आप नदी तालाब में विसर्जित कर सकते है या फिर घर के पेड़-पौधे और क्यारियों में भी डाल सकते है. इससे चिड़ियाँ और मछलियाँ उन चावलों को खा लेती है. एक बात का ख़ास ख्याल रखे की पूजा के इन चावलों को इधर उधर या किसी भी तरह की गन्दगी में ना डाले.

कलश में रखे नारियल का क्या करे navratri 2018 Kalash Mein Nakha Nariyal Ka Kya Kare

हम अपने घरों में नवरात्रि के पावन पर्व पर माता का आह्वाहन करने के लिए कलश के उपपर नारियल रख कर उसकी स्थापना करते है कहते है की इसी कलश पर हम जिस माता का आह्वाहन करते है उनका आह्वाहन होता है इसीलिए मान्यताओं के अनुसार उस नारियल का भी बिधिपूर्वक विसर्जन करना चाहिए. इसके अलावा कहा जाता है की प्रसाद के लिए नारियल हमेशा पुरुषो के द्वारा ही फोड़ा जाना चाहिए ऐसा करना शुभ होता है. महिलाओं को नारियल नहीं फोड़ना चाहिए.

नवरात्रि के बाद अखंड जोत का क्या करे  navratri akhand jyoti

माना जाता है की अखंड जोत जलाने के कई सारे नियम होते है अखंड जोत में किसी तरह का व्यवधान आना शुभ नहीं माना जाता है. नवरात्रि में जो लोग घर पर अखंड दीपक जलाते है उन्हें दीपक का ख़ास ख्याल रखना चाहिए बहुत से लोगो के मन में ये संका होती है की पूजन के बाद अखंड जोत का क्या करे भगवान के सामने जली जोत को कभी ना बुझाये हो सके तो इसे एक दोने में रखकर किसी तालाब या नदी में प्रवाहित कर दे या फिर आप इसे घर पर ऐसे ही जली रहने दे.   

कलश में रखी सुपारी, अक्षत और सिक्के का क्या करे  kalsh puja udhyapan vidhi

कलश में रखी सुपारी और अक्षत को भी किसी नदी तालाब में विसर्जित कर देना चाहिए और कलश स्थापना करते वक़्त जो सिका उसमें डाला जाता है उसे आप अपनी तिजोरी में रख सकते है ऐसा करना शुभ माना जाता है.

सुहाग सामग्री का क्या करे udhyapan vidhi in navratri

पूजा में रखी गयी सुहाग के चीजे बेहद ही ख़ास होती है इसीलिए इन चीजों का दान करना बहुत ही शुभ होता है नवरात्रि की पूजा में आप जो सुहाग का सामान माता को अर्पित करती है उन्हें दूसरी सुहागन महिलाओं को दान करना चाहिए और खुद भी पहनना चाहिए और साथ ही सबके सुखी जीवन और सौभाग्य की कामना करनी चाहिए.

राशिअनुसार जाने साल 2018 का भविष्यफल

नवरात्रि का पारण कब और कैसे करे  navratri paran vidhi

नवरात्रि पूरे नौ दिनों का त्यौहार होता है और इसीलिए लिए नवरात्रि का पारण दशमी के दिन करना शुभ रहता है. जो लोग नौ दिनों के व्रत रखते है वे नवमी तिथि तक व्रत करके दशमी के दिन व्रत का पारण जरूर करे. दशमी तिथि के दिन गौरी गणेश जी की प्रतिमा के साथ ही सभी विसर्जित की जाने वाली चीजों का विसर्जन करने के बाद ही व्रत का पारण करे. और इसके अलावा जो लोग पहला और आखिरी नवरात्र का व्रत रखते है मान्यताओं के अनुसार वो नवमी के दिन पारण कर सकते है.