कन्या पूजन के बाद भूलकर भी न करे ये 3 काम Navratri Kanya Pujan Vidhi Niyam

दुर्गा पूजा कन्या पूजन जरूरी नियम Durga Puja Kanjak Pujan 2020

कन्या पूजनकन्या पूजन- आजकल नवरात्रि का पर्व चल रहा है नवरात्री के पावन पर्व में माता को खुश करने के लिए लोग देवी माँ के 9 स्वरूपों की पूजा आराधना करते है साथ ही उपवास भी रखते है. शास्त्रों में नवरात्रि अष्टमी और नवमी के दिन कुंवारी कन्याओं को पूजने की परंपरा है. इन दिनों लोग 9 ाकन्याओ का पूजन कर व्रत पूर्ण करते है दुर्गाष्टमी और नवमी के दिन आखरी नवरात्रों में इन कन्याओ को नौ देवी स्वरुप मानकर इनका स्वागत सत्कार कर माता रानी को प्रसन्न किया जाता है. शास्त्रों की यदि माने तो नवरात्री कन्या पूजन के कुछ नियम और कुछ ऐसी बाते बतायी गयी है जिन्हें कन्या पूजन करने वाले व्यक्ति को गलती से भी नहीं करना चाहिए तो आइये जानते है कन्या पूजन के ये नियम क्या है.

कन्या पूजन के तुरंत बाद झाड़ू ना लगाए Navratri Kanya Pujan Niyam

शास्त्रों में ये बताया गया है की जब आप नवरात्रो में कन्या पूजन करते है तो आपको विशेष रूप से इस बात का ध्यान रखना चाहिए की कन्या पूजन के तुरंत बाद जब कन्या घर से चली जाए तो तुरंत उस स्थान पर या घर में झाड़ू नही लगाना चाहिए यदि आप सफाई करना ही चाहते है तो कन्या पूजन से घर की साफ सफाई कर ले या फिर कन्या पूजन के कुछ देर बाद साफ़ सफाई के कार्य करे ताकि आपको नवरात्रो के व्रत व पूजन का पूर्ण फल प्राप्त हो सके.

कन्या पूजन के तुरंत बाद कपडे न धोये Navratri Kanya Pujan Vidhi Niyam

दुर्गा पूजा कन्या पूजन के बाद जो खास नियम है वो है की आपको कन्या पूजन के तुरंत बाद कपडे धोने जैसे कार्यो को नहीं करना चाहिए शास्त्रों में ये सही नहीं माना जाता है आप चाहे तो कन्या पूजन से पहले या कन्या पूजन के कुछ देर बाद इन कार्यो को कर सकते है.

इसे भी पढ़े – जानें अपना वार्षिक राशिफल 2020

दाढ़ी मूछ व नाखून नहीं काटने चाहिए Navratri Kanya Pujan Vidhi Niyam

ये तो हम सभी जानते ही है की नवरात्रो के दौरान बाल काटना दाढ़ी मूछ बनवाना या फिर नाखून काटने जैसे कार्य निषेध माने गए है लेकिन शास्त्रों के अनुसार कन्या पूजन के नियमो में भी ये सभी नियम ख़ास है साथ ही कन्या पूजन के तुरंत बाद नहाना, बाल धोना तथा नाख़ून काटना जैसा कोई भी कार्य नहीं करना चाहिए माना जाता है की यदि नवरात्रो के दौरान और कन्या पूजन में इन सभी नियमो का पालन किया जाय तो भक्तो को माता रानी की विशेष कृपा प्राप्त होती है और सुख समृद्धि व आरोग्यता का वरदान मिलता है.