59 साल बाद महाशिवरात्रि शश योग ध्यान रखे ये बाते Maha Shivratri Shubh Yog

महाशिवरात्रि शुभ योग पूजा Maha Shivratri Puja Niyam

महाशिवरात्रि फाल्‍गुन मास के कृष्‍ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मनाया जाने वाला महाशिवरात्रि पर्व शिव आराधना के लिए खास होता है. ज्योतिष अनुसार इस बार 59 साल बाद महाशिवरात्रि पर शश योग बन रहा है। जिस कारण शनि और चंद्र मकर राशि, गुरु धनु राशि, बुध कुंभ राशि और शुक्र मीन राशि में रहेंगे। यह योग साधना करने के लिए बहुत खास है। महाशिवरात्रि के पावन अवसर पर बहुत से लोग महादेव को प्रसन्न करने के लिए व्रत रखते है. शाश्त्रो के अनुसार महाशिवरात्रि व्रत के कुछ जरूरी नियम बताये गए है अगर आप भी इस महाशिवरात्रि व्रत रख रहे है तो आज इस वीडियो में हम आपको बताएँगे की वो ऐसी कौन सी 5 बातें है जिनका महाशिवरात्रि व्रत के दौरान पालन करना चाहिए.

शुभ मुहूर्त में करें शिव पूजा Maha Shivratri 2020

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार महाशिवरात्रि की रात आध्यात्मिक शक्तियां जागृत होती हैं। जिस कारण शास्त्रों में बताया गया है कि इस दिन यदि छोटे छोटे उपाय किये जाय तो आपकी सभी परेशानियां खत्म हो सकती हैं। अगर आप भी इस महाशिवरात्रि व्रत रख रहे है तो इस बात का जरूर ध्यान रखे इस दिन शुभ काल के दौरान ही महादेव और देवी पार्वती की पूजा करें ताकि आपको इसका पूर्ण फल मिल सके.

ऐसे करें भगवान शिव की परिक्रमा Maha Shivratri 2020

शास्त्रों के अनुसार भगवान शिव के दर्शन के बाद उनकी परिक्रमा बेहद जरूरी मानी जाती है. अगर आप भी महाशिवरात्रि पर भगवान भोलेनाथ को प्रसन्न करना चाहते है तो उनकी पूजा के बाद परिक्रमा जरूर करें परिक्रमा के समय ध्यान रखे की परिक्रमा हमेशा शिवलिंग के बाईं ओर से शुरू करें और जहां से भगवान को चढ़ाया जल बाहर निकलता है, वहां तक जाकर वापस लौट जाएं फिर विपरीत दिशा में जाकर परिक्रमा पूरी करें.

जल स्थान को ना लांघे Maha Shivratri 2020

मान्यता है की जिस स्थान से शिवलिंग पर चढ़ा जल बाहर निकलता है उस स्थान को लांघना नहीं चाहिए क्योकि उस स्थान पर ऊर्जा और शक्ति का बहुत बड़ा भंडार होता है। शास्त्रों में इस स्थान को लांघने की मनाही है इससे शारीरक दोष उत्पन्न हो सकते है और आपको पूजा का पूर्ण फल नहीं मिलता.

व्रत में ये आहार ले Maha Shivratri 2020

यदि आप महाशिवरात्रि का व्रत कर रहे है तो आपको विशेष रूप से अपने खाने पीने का ख्याल रखना चाहिए क्योकि इस व्रत में विशेष भोजन किया जाता है। व्रत के समय जूस का सेवन करें इससे शरीर में पानी की कमी नहीं होती है। महाशिवरात्रि व्रत में सात्विक भोजन ग्रहण करना चाहिए। इस दिन विशेषकर कुट्टू के आटे का भोजन, सेंधा नमक, मूंगफली, मखाना या फिर फलाहार करना शुभ होता है.

इसे भी पढ़े – जानें अपना वार्षिक राशिफल 2020

रात्रि जागरण करें Maha Shivratri 2020

शास्त्रों के अनुसार शिव को प्रसन्न करने और पति रूप में पाने के लिए माता पार्वती ने भी व्रत किया था यदि आप भी इस महाशिवरात्रि महादेव को प्रसन करने के लिए महाशिवरात्रि का व्रत रख रहे है तो इस शुभ दिन रात्रि के चारो प्रहारों की पूजा के बाद भगवान शिव को बेलपत्र और बेर चढ़ाकर रात्रि जागरण करें और यदि संभव हो तो शिवपुराण, शिवश्रोत, महामृत्युंजय मंत्र का जाप जरूर करें.