माघी पूर्णिमा सौभाग्य योग 2020 Maghi Purnima Vrat Date Time Muhurat 2020

माघी पूर्णिमा व्रत कब है Maghi Purnima Puja Vidhi in Hindi

माघी पूर्णिमामाघी पूर्णिमा- शास्त्रों के अनुसार माघ माह बेहद खास और महत्वपूर्ण माना जाता है माघ मास में आने वाली पूर्णिमा तिथि जिसे माघी पूर्णिमा भी कहा जाता हैं 27 नक्षत्रो में मघा नक्षत्र के नाम से ही “माघ पूर्णिमा” की उत्पत्ति हुई| साल 2020 में माघी पूर्णिमा तिथि शुभ मुहूर्त और व्रत को लेकर विरोधाभाष की स्थति बन रही है माघी पूर्णिमा को एक मास का कल्पवास पूरा हो जाता है। धार्मिक और आध्यात्मिक दृष्टि से यह तिथि बहुत खास होती है मान्यता है की माघ पूर्णिमा के दिन भगवान विष्णु गंगाजल में निवास करते हैं। आज इस वीडियो में हम आपको साल 2020 माघ पूर्णिमा व्रत कब रखा जाएगा पूजा का  शुभ मुहूर्त और पूजा विधि के बारे में बताएँगे.

माघ पूर्णिमा शुभ मुहूर्त 2020 Magh Purnima Shubh Muhurat 2020

  1. पंचांग के अनुसार साल 2020 में माघ पूर्णिमा का स्नान 9 फ़रवरी रविवार के दिन किया जाएगा|
  2. पूर्णिमा तिथि शुरू होगी- 8 फ़रवरी शनिवार सायंकाल 04:01 मिनट पर|
  3. पूर्णिमा तिथि समाप्त होगी – 9 फरवरी रविवार सायंकाल 01:02 मिनट पर|
  4. इस वर्ष माघी पूर्णिमा 8 फ़रवरी शनिवार से प्रारम्भ होकर 9 फ़रवरी रविवार तक रहेगी शास्त्रों के अनुसार पूर्णिमा का व्रत 8 फ़रवरी शनिवार के दिन रखा जाएगा| 9 फ़रवरी रविवार के दिन श्लेषा नक्षत्र और सौभाग्य योग बनने के कारण स्नान-दान बेहद ही शुभकारक होगा।

माघ पूर्णिमा पूजा विधि Magh Purnima Puja Vidhi

माघ पूर्णिमा पर व्रत, स्नान, जप, हवन, दान करने और भगवान विष्णु की पूजा करने की परंपरा है माघ पूर्णिमा के दिन सर्वप्रथम प्रातःकाल सूर्योदय से पहले उठकर किसी पवित्र नदी या जलाशय में स्नान करे यदि आप गंगा स्नान नहीं कर सकते हैं तो घर पर ही नहाने की पानी मे गंगाजल डालकर स्नान कर ले. स्नान के बाद सूर्यदेव को “ॐ घृणि सूर्याय नमः” मन्त्र का जाप करते हुए जल का से अर्घ्य दे. इसके बाद व्रत का संकल्प लेकर भगवान विष्णु जी की विधिवत पूजा अर्चना करे. अंत में किसी जरूरतमंद व्यक्ति या ब्राह्मणों को भोजन कराकर दान-दक्षिणा दे। मान्यताओं के अनुसार माघ स्नान करने वाले मनुष्यों पर भगवान विष्णु की कृपा बनी रहती है और उन्हें सुख-सौभाग्य की प्राप्ति होती है.

इसे भी पढ़े – जानें अपना वार्षिक राशिफल 2020

माघ पूर्णिमा ज्योतिषीय महत्त्व Importance of Magh Purnima Mehtva

शास्त्रों में माघ का महीना बेहद खास माना जाता है इस महीने में आने वाली माघी पूर्णिमा का धार्मिक और ज्योतिषीय दोनों दृस्टि से बहुत अधिक महत्व होता है. ज्योतिष अनुसार जब चन्द्रमा अपनी ही राशि कर्क में और सूर्य अपने पुत्र शनि की राशि मकर में होते है तब माघ पूर्णिमा का शुभ योग बनता है। इस योग के चलते सूर्य और चन्द्रमा एक दूसरे से आमने सामने आ जाते है ऐसा माना जाता है की इस योग में स्नान जप आदि करने से सूर्य और चंद्रमा के कारण होने वाले कष्ट शीघ्र ही समाप्त हो जाते है।

माघी पूर्णिमा के दिन क्या करे दान Maghi Purnima Upay

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार माघ के महीने में दान पुण्य करना बहुत ही लाभकारी बताया गया है. इस महीने कर्क राशि में चन्द्रमा और मकर राशि में सूर्य का प्रवेश होता है जिस कारन माघ पूर्णिमा पर बहुत ही खास और पवित्र योग बनता है ऐसी मान्यता है की यदि माघ मास में आने वाली पूर्णिमा तिथि के दिन बनाने वाले इस शुभ योग में काले तिल, कम्बल, पुस्तके, वस्त्र, घी व अन्न का दान किया जाय तो व्यक्ति को अक्षय पुण्य की प्राप्ति होती है और बैकुंठ की प्राप्ति होती है और साथ ही जीवन में सुख समृद्धि में वृद्धि होती है.