Karwa Chouth Vrat Tips करवाचौथ पर ना करें इन चीजों का दान

Karwa Chotuh Vrat Festival करवाचौथ में महिलाये ना दे सुहाग का ये सामान दान

शादीशुदा महिलाये अपने श्रृंगार के लिए विभिन्न तरह की चीजे जैसे- कुंकुम, काजल, सिंदूर, लिपस्टिक आदि का इस्तेमाल करती है और कई बार वो अपने इस्तेमाल किये जाने वाले सुहाग के सामान को दूसरी महिलाओ के साथ शेयर भी कर देती है. मान्यताओं के अनुसार लेकिन क्या आप जानते है की ऐसा करने से आपको कई तरह की समस्याओं का सामना भी करना पड़ सकता है. आज हम आपको कुछ ऐसी ही चीजों के बारे में बताने जा रहे है जिन्हें शादीशुदा महिलाओं को किसी अन्य महिला के साथ शेयर नहीं करना चाहिए.

सिंदूर व कुंकुम Sindoor Kumkum

सिंदूर व कुंकुम ये दोनों ही स्त्री के सुहाग की निशानियां मानी जाती है सुहागिन महिलाएं हमेशा सिंदूर व कुमकुम से अपनी मांग भरा करती है. कुछ मान्यताओं के अनुसार ऐसा कहा जाता है की यदि कोई भी महिला अपने इस्तेमाल किये जाने सिंदूर को किसी अन्य महिला के साथ शेयर करती है तो ऐसा करना शुभ नहीं माना जाता है. अपना इस्तेमाल किया सिंदूर किसी अन्य महिला को नहीं देना चाहिए इसके अलावा सिन्दूर लगाते समय सिर को हमेशा ढककर ही सिन्दूर लगाना चाहिए इससे पति पत्नी के रिश्ते में प्यार बढ़ता है. करवाचौथ का व्रत जो की सुहागन महिलाओं के लिए बेहद ही ख़ास होता है और इस दिन सुहाग का सामान सुहागन महिलाओं को देना भी काफी शुभ माना जाता है इसीलिए इस बात का भी ख़ास ख्याल रखे की जब आप करवाचौथ पर किसी अन्य महिला को सुहाग का सामान दे तो वह आपके द्वारा इस्तेमाल किया हुआ नहीं होना चाहिए बल्कि आप मार्किट से नया व बिना इस्तेमाल किया हुआ सिन्दूर या कुमकुम ही दे. 

बिंदी Bindi

जिस तरह से सिन्दूर किसी सुहागन महिला के लिए ख़ास महत्व रखता है ठीक उसी तरह से माथे की बिंदी भी सुहागन महिला के सुहाग की ख़ास निशानी होती है कई बार महिलाएं अपने माथे पर लगी बिंदी को भी अन्य महिला को दे देती है लेकिन ऐसा करना बिलकुल भी शुभ नहीं माना जाता है सुहागन महिलाओं को इस बात का ख़ास ख्याल रखना चाहिए कि अपने माथे पर लगी बिंदी किसी दूसरी महिला को ना दे आप चाहे तो उन्हें बाजार से नयी बिंदी खरीदकर दे सकती है साथ ही करवाचौथ पर भेंट स्वरुप दिए जाने वाले सुहाग के सामान में भी नयी बिंदी ही शुभ होता है.

चूड़ियां व पायल Bangal Payal

ये तो हम सभी जानते ही है की महिलाओं को चूड़ियां और पायल पहनना कितना पसंद होता है चूड़ियां और पायल किसी सुहागन महिला का वो गहना है जो उनकी ख़ूबसूरती में चार चाँद लगा देता है जाने-अनजाने कई बार महिलाएं अपनी पहनी हुई या इस्तेमाल की हुई चूड़ियां और पायल किसी दूसरी महिला को दे देती है लेकिन माना जाता है की किसी भी सुहागन स्त्री को अपने हाथों में पहनी चूड़ियां और पैरों में पहनी पायल किसी दूसरी महिला को उतार कर नहीं देनी चाहिए ये शुभ नहीं होता है. इसके अलावा जब भी आप करवाचौथ पर सुहाग का सामना किसी अन्य सुहागन महिला को दे तब भी इस बात का ख़ास ख्याल रखे उस सामान में सभी चीजें नयी अर्थात बिना इस्तेमाल की हुई होना चाहिए.

मेहंदी Mehendi

महिलाओं को मेहँदी लगाना काफी पसंद होता है इसे सुहाग की निशानी समझा जाता है कई बार ऐसा होता है की जब हम खुद के हाथो में मेहँदी लगाते है तो उसी कीप से दूसरी महिला के हाथो में भी मेहँदी लगा देते है लेकिन मान्यताओं के अनुसार ऐसा करना शुभ नहीं होता है सुहाग की निशानी समझी जाने वाली मेहँदी जिसे आपने इस्तेमाल किया है उसे भी दूसरी महिलाओं को नहीं देना चाहिए ऐसा करना शुभ नहीं होता है. इसके अलावा इस बात का भी ख़ास ख्याल रखे कि जब आप करवाचौथ के दिन मेहँदी किसी सुहागन महिला को दे तो वह कोरी और बिना इस्तेमाल की हुई होनी चाहिए.

राशिअनुसार जाने साल 2018 का भविष्यफल

काजल Kaajal

काजल को भी सुहाग की निशानी माना जाता है काजल ना सिर्फ सुहाग की निशानी है बल्कि ये महिलाओं की ख़ूबसूरती को और भी अधिक बढ़ा देता है अक्सर महिलाये अपने इस्तेमाल किये हुए काजल को दूसरी महिलाओं के साथ शेयर कर लेती है लेकिन कहा जाता है कि अपने इस्तेमाल किये हुए काजल को भी किसी अन्य महिला को नहीं देना चाहिए क्योकि ऐसा करना अशुभ माना जाता है. करवाचौथ का व्रत सुहाग की दीर्घायु के लिए रखा जाता है इस दिन सुहाग का सामान अन्य सुहागन महिलाओं को भेंट में देना काफी शुभ होता है करवाचौथ पर दिए जाने वाले सुहाग के सामान में अपना इस्तेमाल किया हुआ काजल ना देकर बाजार के खरीदा नया काजल देना शुभ होता है.