करवाचौथ व्रत 2020 दुर्लभ संयोग Karwa Chauth Vrat Mahasanyog Puja Vidhi 2020

करवा चौथ व्रत पूजा-विधि Karwa Chauth Date Time 2020

करवाचौथ करवाचौथ – पूरे सालभर में करवाचौथ का इंतज़ार हर सुहागन महिला को बेसब्री से रहता है करवा चौथ का व्रत कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को रखा जाता है। इस दिन सुहागन महिलाएं अखंड सौभाग्य की कामना के साथ पूरा दिन निर्जल रहकर उपवास करने के बाद रात्रि में चंद्र देव की पूजा कर व्रत खोलती है. ज्योतिष अनुसार इस बार का करवा चौथ बहुत ही ख़ास है इस बार करवाचौथ पर कई शुभ योग बनने वाले है जो सभी विवाहित महिलाओ के लिए अखंड सौभाग्य की प्राप्ति कराने वाले होंगे. आज हम इस वीडियो में इस शुभ योगो, पूजा का शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और इस शुभ योग में किये जाने वाले तीन ऐसे जरूरी काम बताएँगे जो हर सुहागन महिला को अखंड सौभग्य का वरदान देने वाले होंगे.

करवाचौथ व्रत शुभ मुहूर्त 2020 Karwa Chauth Vrat Tithi Shubh Muhurt 2020

  1. साल 2020 में करवाचौथ का व्रत 4 नवंबर बुधवार के दिन रखा जाएगा|
  2. चतुर्थी तिथि शुरू होगी – 4 नवंबर बुधवार प्रातःकाल 03:24 मिनट पर|
  3. चतुर्थी तिथि समाप्त होगी – 5 नवंबर गुरुवार प्रातःकाल 05:14 मिनट पर|
  4. करवा चौथ पूजा का शुभ मुहूर्त होगा  – शाम 05:34 मिनट से शाम 6:52 मिनट पर|
  5. करवाचौथ चंद्रोदय का समय होगा – रात्रि 08:12 मिनट पर|

करवाचौथ शुभ योग 2020 KARWACHAUTH SHUBH YOG 2020

ज्योतिष अनुसार इस बार करवाचौथ पर बुध के साथ सूर्य ग्रह विद्यमान होंगे जो बुधादित्य योग कानिर्माण  करेंगे इसके अलावा दिन सर्वार्थ सिद्धि योग, शिवयोग, सप्तकीर्ति, महादीर्घायु योगो का भी निर्माण हो रहा है। ये सभी योग बहुत ही महत्वपूर्ण और अद्भुत योग माने जाते है. वही इस दिन चतुर्थी तिथि पर बुधवार कासंयोग भी रहेगा को की गणेश पूजा के लिए अति शुभ होगा जिनके प्रभाव से यह दिन अधिक मंगलकारी और संकटो को हरने वालाहोगा इसीलिए ऐसे में जो भी महिलाये इस विशेष योग पर सच्ची श्रद्धा से व्रत पूजन करेंगी उन्हें हजारों गुना अधिक फल प्राप्त होंगे.

करवा चौथ व्रत पूजा-विधि Karwa Chauth Vrat Puja Vidhi

करवाचौथ के दिन सूर्योदय से पूर्व स्नान कर सरगी ग्रहण करे और करवाचौथ निर्जल व्रत का संकल्प ले. इसके बाद पूजा स्थल में कलश स्थापना कर शिव परिवार की प्रतिमाये स्थापित करे. अब गेरू व पिसे हुए चावलों के घोल से करवा का चित्र बना ले. सर्वप्रथम गणेश जी का पूजन करें फिर शिव पार्वती और कार्तिकेय की पूजा करे. चांद निकलने से करीब एक घंटा पहले विधिवत पूजा और श्रृंगार का सामान माँ पार्वती को अर्पित कर करवा चौथा व्रत कथा सुनें।इसके बाद रात्रि में चंद्रोदय के बाद छलनी से चंद्र दर्शन कर अर्घ्य देकर धूप दीप जलाकर कर प्रसाद अर्पित करे इसके बाद पति का आशीर्वाद लेकर व्रत सम्पन्न करे.

करवाचौथ जरूर करे ये 3 काम Karwa Chauth Fast Do Not These 3 Things

ज्योतिष अनुसार इस बार का करवाचौथ कई शुभ योगो में मान्य जाएगा इसीलिए यदि ऐसे में आप करवा चौथ के इस विशेष मौके पर कुछ विशेष कार्यो को करते है तो आपको कई हजार गुना फल प्राप्त हो सकते है.

करवा चौथ के व्रत में जितना अधिक महत्व व्रत रखने का होता है उतना ही अधिक महत्व इसकी पूजा और करवा चौथ की व्रत कथा सुनने या पढ़ने का भी है। इसीलिए आज के दिन व्रत कथा ध्यान पूर्वक सुने या पढ़े.

यह व्रत महिलाओं के वैवाहिक जीवन से है. इसीलिए इस दिन लाल व पीले रंग के वस्त्रो का प्रयोग जरूर करे ये दोनों ही रंग सौभाग्य में वृद्धि करने वाले है. इस दिन सर्वार्थ सिद्धि योग रहेगा जो की समृद्धि प्रदान करने वाला योग है ऐसे में इन रंगो केवस्त्रो का प्रयोग जीवन में शुभता बढ़ाने वाला होगा.

करवाचौथ के दिन सुबह व्रत शुरू करने से पहले और बाद में विशेषकर पूजा के बाद सास व घर के बढ़ो का आशीर्वाद जरूर ले. इससे महिलाओं के सौभाग्य में वृद्धि और उन्हें व्रत का पूर्ण फल प्राप्त होगा.