कार्तिक पूर्णिमा कब है 2019 Kartik Purnima Sanyog 2019

कार्तिक पूर्णिमा संयोग 2019 Kartik Purnima Date Time 2019

Kartik Purnima Sanyog 2019 Kartik Purnima Sanyog 2019 भगवान विष्णु को अतिप्रिय कार्तिक मास शुक्ल पक्ष में आने वाली पूर्णिमा कार्तिक पूर्णिमा कहलाती है. जिसे ‘त्रिपुरी पूर्णिमा’ भी कहा जाता है। इस दिन काशी में देव दीवाली भी मनाई जाती है शास्त्रों में कार्तिक मास का बहुत अधिक महत्व होने के कारण इस दिन दान – पुण्य व गंगा स्नान का खास महत्व होता है ज्योतिष की माने तो इस बार की कार्तिक पूर्णिमा पर कुछ  विशेष व अद्भुद संयोगो में आ रही है जिस कारण इस दिन किये गए दान व उपायों से व्यक्ति को कई हजार गुना शुभ फल प्राप्त हो सकते है आज हम आपको साल 2019 शुभ संयोगो में आने वाली कार्तिक पूर्णिमा व्रत के शुभ मुहूर्त पूजा विधि और आर्थिक लाभ प्राप्त करने के लिए किये जाने वाले १उपयो के बारे में बताएँगे.

कार्तिक पूर्णिमा संयोग kartik purnima sanyog kya hai

इस बार 12 नवंबर मंगलवार के दिन कार्तिक पूर्णिमा पर भरणी नक्षत्र और सर्वार्थ सिद्धि योग में स्नान दान का संयोग बनेगा जो बेहद शुभ होगा ज्योतिषशास्त्र के अनुसार कार्तिक मास को पुण्य मास माना जाता है और इस पुण्य मास की कार्तिक पूर्णिमा पर महालक्ष्मी ,केदार और वेशि योग का संयोग भी देखने को मिलेगा. चंद्रमा से मंगल के सातवें भाव में रहने के कारण ये महालक्ष्मी योग बनेगा. मान्यता है कि यदि में कुश लेकर इस तिथि पर गंगास्नान किया जाय तो सभी पापों का नाश हो जाता है। और व्यक्ति को कर्ज से मुक्ति मिलने के साथ हर तरह के सुखो की प्राप्ति होती है.

कार्तिक पूर्णिमा व्रत शुभ मुहूर्त Kartik Purnima Vrat Date Time 2019

  1. साल 2019 में कार्तिक पूर्णिमा का व्रत 12 नवंबर मंगलवार के दिन रखा जाएगा |
  2. पूर्णिमा तिथि शुरू होगी 11 नवंबर शाम 6 बजकर 2 मिनट पर |
  3. पूर्णिमा तिथि समाप्त होगी 12 नवंबर शाम 7 बजकर 4 मिनट पर |

कार्तिक पूर्णिमा व्रत व पूजा विधि Kartik Purnima Date Puja shubh Muhurat 2019

कार्तिक पूर्णिमा के दिन प्रातः काल उठकर व्रती को स्नानादि के बाद व्रत का संकल्प लेकर व्रत की शुरुआत करनी चाहिए. पूर्णिमा के दिन गंगा स्नान का महत्व होता है इसीलिए संभव हो तो इस दिन किसी पवित्र नदी में स्नान करना चाहिए. प्राचीन मान्यताओं के अनुसार इस दिन चाँद निकलने के पश्चात शिवा, संभूति, संतति, प्रीति, अनुसुईया और क्षमा इन छः कृतिकाओं का पूजन किया जाता है. जो भी इस दिन व्रत रखते है उन्हें व्रत रखने के बाद किसी जरूरतमंद व्यक्ति को भोजन कराना चाहिए और हवन करना चाहिए। इस दिन विशेष रूप से भगवान शिव की पूजा अर्चना की जाती है। कहा जाता है की इस दिन भगवान शिव के दर्शन किये जाय तो व्यक्ति के धन भंडार और ज्ञान में वृद्धि होती है। कार्तिक पूर्णिमा सभी प्रकार की मनोकामना प्राप्ति के लिए विशेष मानी जाती है।

राशिअनुसार जाने साल 2019 का भविष्यफल

कार्तिक पूर्णिमा का महत्व Importance of Kartik Purnima

कार्तिक पूर्णिमा पूरे सालभर में आने वाली सभी पूर्णिमाओं में से एक है। कहा जाता है की इस दिन किये जाने वाले दान-पुण्य विशेष रूप से फलदायी होते हैं। मान्यता है की इस दिन शाम के समय दीपदान करने से पुनर्जन्म के कष्ट नहीं रहते| वही यह भी कहा जाता है की इस दिन व्यक्ति द्वारा जो भी दान पुण्य किया जाता है व्यक्ति का वह दान स्वर्ग में सुरक्षित रखा जाता है और जब व्यक्ति मृत्युलोक को छोड़ता है तब इस दिन किये गए दान का फल उसे स्वर्गलोक में प्राप्त होता है।

कार्तिक पूर्णिमा जरूरी काम Kartik Purnima Important Work

कहा जाता है की कार्तिक पूर्णिमा एक ऐसी पूर्णिमा है जिसमे सभी देवी देवताओं को एकसाथ प्रसन्न कर उनका आशीर्वाद प्राप्त किया जा सकता है साथ ही इस दिन यदि कुछ विशेष उपाय किये जाय तो धन सम्बन्धी परेशानियों को भी दूर किया जा सकता है तो आइये जानते है कार्तिक पूर्णिमा के दिन किये जाने वाले जरूरी कामो के बारे में|

  1. शास्त्रों के अनुसार कार्तिक पूर्णिमा के गरीबों को चावल दान करना शुभ होता है इससे चन्द्रमा के शुभ प्रभाव प्राप्त होते है.
  2. कार्तिक पूर्णिमा पर शिव पूजन का विशेष महत्व होता है इसीलिए इस दिन शिवलिंग पर कच्चा दूध, शहद व गंगाजल अर्पित करने से भगवान शिव प्रसन्न होते है।
  3. इसदिन घर के मुख्यद्वार पर आम के पत्तों से बना तोरण बांधना शुभ होता है.
  4. कार्तिक पूर्णिमा के दिन चंद्रोदय के पश्चात मां लक्ष्मी को खीर का भोग लगाने से धनलाभ होता है.

कार्तिक पूर्णिमा मोरपंख का महाउपाय

कार्तिक पूर्णिमा के दिन किये जाने वाले उपायों में से एक ख़ास उपाय है मोरपंख का उपाय| वास्तु अनुसार यदि आप इस दिन घर में मोरपंख रखते है या स्थापित करते है तो आपके घर से अमंगल टल जाता है और ग्रहो के दोष भी समाप्त हो जाते है क्योकि माना जाता है की मोरपंख में नकारात्मक शक्तियों को दूर करने की अद्भुद शक्ति होती है. इसके अलावा यदि इस दिन मोरपंख के झाड़ू से दूकान में रखे प्रत्येक सामान को साफ़ किया जाय तो इससे बुरे प्रभाव नजर दोष सभी तरह की परेशानियां भो दूर हो जाती है.ज्योतिष अनुसार यदि कार्तिक पूर्णिमा पर बन रहे इन शुभ संयोगो में मोरपंख का ये उपाय बहुत ही लाभकारी माना जाता है.