Ganga Dussehra 2018 24 मई गंगा दशहरा महासंयोग करें ये 4 काम

How To Celebrate Ganga Dussehra Festival गंगा दशहरा त्यौहार –

Ganga Dussehraगंगा दशहरा Ganga Dussehra ज्येष्ठ माह की शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को मनाया जाता है इस दिन गंगा धरती पर अवतरित हुई थी शास्त्रों में इस दिन पूजा अर्चना और गंगा स्नान का बहुत अधिक महत्व बताया गया है. इस दिन गंगा जी की पूजा के साथ ही भगवान शिव की पूजा और जलाभिषेक का भी विधान है. इसदिन रखा जाने वाला व्रत और दान पुण्य बहुत फलदायी होता है. साल 2018 में अधिकमास होने के कारण गंगा दशहरा पर एक अद्भुद संयोग बन रहा है इसीलिए ज्योतिशस्त्र अनुसार इस दिन की गयी पूजा, व्रत, दान, स्नान,आदि और भी अधिक फल देने वाले बताये जा रहे है. मान्यता है की इस दिन रात्रि जागरण करने से अनन्त फल की प्राप्ति होगी. आज हम आपको बताएँगे की गंगा दशहरा के पावन दिन बन रहे इस ख़ास संयोग पर ऐसा क्या करे की आपको शुभ फलों की प्राप्ति हो सके.

राशिअनुसार जाने साल 2018 का भविष्यफल

गंगा दशहरा के दिन रात्रि जागरण करे What To Do On Ganga Dussehra Parv –

गंगा दशहरा ज्येष्ठ अधिकमास में होने के कारण और भी अधिक फल दायी होगा इसीलिए इस दिन तीर्थ  स्थल में स्नान करने के बाद शिवलिंग की पूजा में दस संख्या के गन्ध, पुष्प, धूप, दीप, भोग और फल आदि वस्तुओं से पूजन करना विशेष लाभकारी होगा और इसके अलावा गंगा दशहरा को रात्रि जागरण का भी विशेष महत्व बताया गया है.

गंगा दशहरा के दिन गंगा जी में स्नान करे ganga Dussehra Celebration Astrology Tips –

गंगा दशहरा के दिन गंगा जी में स्नान करने का बहुत अधिक महत्व है इस बार गंगा दशहरा अधिकमास में होने के कारण इस दिन किये गए स्नान का महत्व भी अधिक होगा गंगा दशहरा के दिन गंगा जी, नदी या किसी पास के तालाब, जलाशय अथवा घर में ही शुद्ध जल से 10 बार स्नान करके गंगा मैया और शिव की पूजा अवश्य करनी चाहिए. शास्त्रों की माने तो भगवान विष्णु के चरणों से निकली और शिव की जटाओं में समायी गंगा में इस दिन स्नान करने से भगवान् विष्णु और शिव का आशीर्वाद प्राप्त होता है।

गंगा दशहरा पर दान अवश्य करे Ganga Dussehra 2018 Date Time Of Worship –

मान्यता है की इस दिन सत्तू, मटका और हाथ के पंखे का दान करना बहुत ही शुभ होता है. कहते है की इस दिन पंखा दान करने से कई गुना फल की प्राप्ति होती है. ज्योतिषशास्त्र अनुसार कहा जाता है की इस दिन आप जो भी चीज दान करते है उनकी संख्या दस होनी चाहिए और साथ ही दस चीजों से पूजन करने पर सभी पापों से मुक्ति और महापुण्य की प्राप्ति होती है.

गंगाजल की घर पर पूजा करे Ganga Dussehra Vrat Pujan Snaan Daan Mehtva –

शास्त्रों में कहा गया है की यदि आप किसी कारणवश इस दिन तीर्थ स्थल ना जा अपाये और गंगा जी में स्नान ना कर पाए तो घर पर ही स्नान करके थोड़ा सा गंगाजल लेकर इसकी पूजा आराधना करे और इसके बाद किसी भी जरूरतमंद या गरीब को अपनी सामर्थ्य अनुसार कुछ चीजे दान कर दे इस दिन अनाज का दान करना भी बहुत शुभ होता है ऐसा करने से आपको पुण्य फल की प्राप्ति होगी.