विजयादशमी दशहरा कब है 2020 Dussehra 2020 Date Time Shubh Muhurt

दशहरा पूजा विधि शुभ योग Dussehra Puja Vidhi Shubh Yog 2020 

विजयादशमी दशहरा विजयादशमी दशहरा – शारदीय नवरात्रो के समापन के अगले दिन दशहरा मनाया जाता है. यह अश्विन माह के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को अपराह्न काल में मनाया जाता है इसे विजयादशमी के नाम से भी जाना जाता है. पौराणिक कथाओ के अनुसार जहा एक ओर इस दिन भगवन श्रीराम ने रावण का वध किया तो वही माँ दुर्गा ने महिषासुर का संहार भी किया था. इसीलिए विजयदशमी का पर्व भगवान राम की विजय और दुर्गा पूजा के रूप में मनाया जाता है. इस बार दुशरे विजयादशी पर्व पर बेहद शुभ योग बन रहा है जो सुख सौभाग्य बढ़ाने वाला होगा. आज हम आपको साल 2020 में मनाये जाने वाले दशहरा पर्व की तिथि, पूजा का शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और इस दिन शुभ योग में  सौभाग्य बढ़ाने के किये जाने वाले जरूरी काम के बारे में बातएंगे. .

दशहरा तिथि व शुभ मुहूर्त Dussehra Worship Date Time 2020

  1. साल 2020 में विजयादशमी दशहरे का पर्व 25 अक्टूबर रविवार के दिन मनाया जायेगा.
  2. दशमी तिथि शुरू होगी- 25, अक्टूबर को प्रातःकाल 07:41 मिनट पर|
  3. दशमी तिथि समाप्त होगी – 26, अक्टूबर को प्रातःकाल 09:00 बजे|
  4. विजयादशमी विजय मुहूर्त होगा- 25, अक्टूबर 01:57 मिनट से 02:42 मिनट तक |
  5. मुहूर्त की कुल अवधि – 45 मिनट्स की होगी
  6. पूजा का अपराह्न मुहूर्त होगा – 25, अक्टूबर अपराह्न 01:12 मिनट से शाम 03:27 मिनट तक |
  7. पूजा की कुल अवधि – 02 घण्टे 15 मिनट्स की होगी|

दशहरा शुभ योग 2020 Dussehra Shubh Yog

शास्त्रों की माने तो इस बार का दशहरे पर किसी भी वस्तु की खरीददारी समृद्धि प्रदान करेगी क्योकि 25 अक्टूबर रविवार के दिन रवि पुष्य योग बन रहा है और यह योग दशहरे के दिन सुबह 6:20 से रात को 1.20 तक रहेगा. कहा जाता है की इस मुहूर्त में खरीददारी करने से सुख समृद्धि बढ़ती है।

दशहरा पूजा विधि Dussehra Puja Vidhi

पौराणिक कथाओं के अनुसार दशहरे के दिन भगवान श्रीराम के साथ लक्ष्मण, भरत, शत्रुघ्न की पूजा साथ ही इस दिन माँ दुर्गा और शमी के वृक्ष की पूजा का खास महत्व है. इस दिन प्रातःकाल माँ दुर्गे की विधिवत पूजा कर शारदीय नवरात्रो का विसर्जन और पारण करना चाहिए। अपराह्न काल के समय ईशान कोण की भूमि को स्वच्छ कर चंदन व कुंकुम से अष्टदल कमल बना ले और सभी पूजन सामग्री के साथ देवी अपराजिता और जया विजया देवियों का पूजन करें। मान्यता है की यदि नवरात्र के नौ दिनों तक रोजाना शाम के समय शमी के वृक्ष का पूजन किया जाय तो व्यक्ति को आरोग्य व धन की प्राप्ति होती है। क्योकि माना जाता है की मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम ने लंका विजय से पहले शमी के वृक्ष के सामने नतमस्तक होकर विजय प्राप्ति के लिए प्रार्थना की थी और उन्हें विजय प्राप्त हुई|

दशहरे पर करे ये काम Vijaya Dashami Upay 2020

दशहरा का पर्व बुराई पर अच्छे की जीत का पर्व है. शास्त्रों के अनुसार इस बार रवि पुष्य योग होने से इस दिन का महत्त्व और भी अधिक होगा इसीलिए ऐसे में आपको कुछ कार्य ऐसे भी हैं जो आपको जरूर करने चाहिए यदि आप इन कार्यों को करते है तो सालभर आपके जीवन और घर परिवार में सुख साम्रीद्ध का वास रहता है. तो चलिए जानते हैं दशहरे पर कौन से कार्य करने चाहिए।

  1. दशहरे के दिन शमी के पेड़ की पूजा जरूर करे अगर संभव हो इस द‌िन घर में एक शमी का पौधा लगाए और नियमित इसकी पूजा करे क्योकि ऐसी मान्यता है की दशहरे के द‌िन कुबेर ने राजा रघु को स्वर्ण मुद्राएं देने के ल‌िए शमी के पत्तों को सोने का बना द‌िया था।
  2. दशहरे के दिन अपनी सामर्थ्य अनुसार गुप्त दान जरूर करे. ऐसा करना बहुत ही शुभ होता है.
  3. इस दिन नीलकंठ पक्षी के दर्शन यदि आपको हो जाय तो इससे जीवन में सफलता की प्राप्ति होती है.
  4. दशहरे के दिन मां दुर्गा के चरणों में लाल रंग की चुनरी अर्पित कर इसे अपने पास रखे. इससे आपको कभी भी धन की कमी नहीं होगी.
  5. दशहरे के दिन किसी भी जरूरतमंद व्यक्ति को कुछ न कुछ दान दक्षिणा जरूर दे.