नवरात्र व्रत के ख़ास नियम Navratri Vrat Durga Puja 2020

नवरात्र व्रत नियम Navratri Vrat Ke Niyam

Durga Puja 2020 – नवरात्रि के नौ दिनों में मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है. मां दुर्गा के नौ रूपों की आराधना का पावन पर्व शुरू हो चूका है. माता के हर रूप का अलग महत्व है. इसलिए मां के हर रूप की पूजा भी विशेष तरीके से की जाती है.ऐसे में इन नौ दिनों में व्रत या नवरात्री व्रत रखने वालों के लिए कुछ नियमों का ध्यान रखना बेहद जरूरी है. आज हम आपको बताएँगे कि नवरात्री के इन नो दिनों में किन किन नियमो का पालन करना चाहिए जिससे माँ दुर्गा हम पर प्रसन्न रहे और उनकी कृपा दृष्टि सदैव

ही हम पर बनी रहे. तो चलिए जानते है इन ख़ास नियमो के बारे में.

जोड़े में रखें व्रत –

Durga Puja 2020 – वैसे तो नवरात्रि के नौ दिन व्रत रखना बहुत ही शुभ माना जाता है। लेकिन जिनके लिए पूरे नौ दिन व्रत रखना संभव ना हो. ऐसे लोग नवरात्री पर जोड़ा व्रत रख सकते है. आप चाहे तो पहले व आखिरी दिन व्रत भी व्रत रख सकते है। अतः जोड़ा व्रत रखना भी शुभ होता है.

ब्रह्म मुहूर्त में उठें –

नवरात्री पर माँ दुर्गा को प्रसन्न करने व उनकी कृपा दृष्टि का पात्र बनने के लिए पूरे नौ दिन ब्रह्म मुहूर्त में उठें और स्नान करें. साथ ही आपको स्वच्छता का विशेष ख्याल रखना चाहिए . इसके बाद सूर्य देव को जल अर्पित करें और फिर अपने घर के पूजास्थल में यथावत पूजन करें।

इसे भी पढ़े – जानें अपना वार्षिक राशिफल 2020

खानपान में बरतें सावधानी –

Durga Puja 2020 –  नवरात्रि के दिनों में व्रत रखने वाले लोगो को खानपान को लेकर बेहद सावधानी बरतनी चाहिए। इन नो दिनों में  व्रत के दौरान प्याज, लहसुन आदि का प्रयोग बिल्कुल भी न करें।

सिर्फ करें माँ का ध्यान –

नवरात्रि के दिनों में  मन को शांत रखकर सिर्फ माता रानी का ध्यान करना चाहिए। इन दिनों में घर में शांति और सद्भाव रखने से माँ लक्ष्मी प्रसन्न होती है। और अपने भक्तो की मुराद पूरी करती है.

घर छोड़कर न जाये –

यदि  आप नवरात्रि में कलश स्थापना कर रहे हैं, और माता की चौकी का आयोजन कर रहे हैं या फिर अखंड ज्योति जला रहे हैं तो इन दिनों अपने घर या अपने पूजास्थल को खाली छोड़कर न जाएं. किसी ना किसी व्यक्ति को घर में हमेशा रहना चाहिए।

नाख़ून बाल आदि न कटवाए –

व्रत के दौरान  इन नौ दिनों में नाखून या बाल नहीं काटना चाहिए। साथ ही चमड़े से बनी वस्तुओं का उपयोग ना करें।