जन्माष्टमी 2020 भूलकर भी ना करे ये काम Do Not These Things during Janmashtami

जन्माष्टमी व्रत पूजन के नियम Janmashtami Vrat Date Time 2020

जन्माष्टमी 2020 जन्माष्टमी 2020 – भगवान विष्णु के आठवें अवतार श्रीकृष्ण जी का जन्म भाद्रपद माह में कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को हुआ था. सभी भक्त कृष्ण जन्मोत्सव के इस पर्व को बड़े धूमधाम से मनाते है और इसकी तैयारियां कई दिन पहले से ही शुरू कर देते है इस दिन भगवान श्री कृष्ण की कृपा प्राप्त करने के लिए भक्त उपवास रखकर उनकी पूजा अर्चना करते हैं। शास्त्रों में जन्माष्टमी व्रत के कुछ नियम बताए गए हैं जिसका पालन जरूर करना चाहिए। आज हम आपको इन्ही जरूरी नियमो के बारे में बताएँगे.

परनिंदा न करे Janmashtami 2020

अगर आप इस दिन किसी की निंदा या किसी के साथ दुर्व्यवहार करते है तो यह शुभ नहीं होता है इसलिए जन्माष्टमी के दिन परनिंदा करने से और किसी के साथ गलत व्यवहार करने से बचना चाहिए.

तामसिक भोजन से परहेज करे Janmashtami 2020

शास्त्रों के अनुसार वैसे तो सभी को इस बात का ख्याल रख्नना चाहिए लेकिन विशेषकर जो लोग जन्माष्टमी का व्रत रखते है उन्हें किसी भी तरह के तामसिक भोजन और प्याज, लहसुन से परहेज करना चाहिए और जहाँ तक संभव हो इस दिन सात्विक भोजन ही ग्रहण करना चाहिए इससे भक्त को उसके द्वारा की गयी भक्ति का पूर्ण फल प्राप्त होता है.

गुस्सा, कलेश ना करे Janmashtami 2020

शास्त्रों के अनुसार जन्माष्टमी के दौरान कोशिश करे की घर का वातावरण शांत और भक्तिमय बनाकर रखे इससे आपको भगवान कृष्ण की विशेष कृपा प्राप्त होती है आज के दिन मन को शांत रखकर पूजा पाठ व व्रत करना शुभ होता है.

पेड़ पौधे ना काटे Janmashtami 2020

जन्माष्टमी के दिन कोशिश करे की घर में या घर के आस पास कोई भी पेड़ पौधा लगा है तो उसे बिल्कुल भी न काटें। बल्कि आज के दिन घर के सभी सदस्य मिलकर एक-एक पौधा जरूर लगाना चाहिए। मान्यता है की ऐसा करने से घर की आर्थिक स्थिति मजबूत होती है।

अशुद्धता न रखे Janmashtami 2020

जन्माष्टमी के दिन इस बात का खास ख्याल रखना चाहिए की बाल गोपाल की पूजा में किसी भी तरह की अशुद्धि न हो साथ ही पूजा में प्रयोग की जाने वाली सभी सामग्रियों का शुद्ध होना जरूरी है। इसलिए पूजा से पहले पूजा स्थल व सामग्री को स्वच्छ कर ले.

इसे भी पढ़े – जानें अपना वार्षिक राशिफल 2020

तुलसी न तोड़े Janmashtami 2020

शास्त्रों के अनुसार जन्माष्टमी के दिन भगवान के भोग में तुलसी का पत्ता जरूर होना चाहिए। आज की पूजा में तुलसी बेहद जरूरी मानी गयी है लेकिन जन्माष्टमी के दिन तुलसी बिल्कुल नहीं तोड़नी चाहिए पूजा में लिए तुलसी एक दिन पहले ही तुलसी तोड़ लें।