दीपावली तिथि व शुभ मुहूर्त 2020 Diwali 2020 Date Time Shubh Muhurt 

दीपावली लक्ष्मी पूजन विधि 2020 Diwali Lakshmi Ganesh Puja Vidhi

दीपावली तिथि व शुभ मुहूर्त दीपावली तिथि व शुभ मुहूर्त- दीपावली का त्यौहार कार्तिक मास की अमावस्या तिथि को मनाया जाता है इस दिन माँ लक्ष्मी और गणेश जी का पूजन करने की मान्यता है. आमतौर पर यह 5 दिनों का होता है लेकिन इस बार पांच दिवसीय दीपो का यह पर्व 5 दिन के बजाय 4 दिन का ही होगा। छोटी दिवाली यानि रूप चौदस और दिवाली एक ही दिन मनाई जाएगी। धनतेरस भी दिवाली के ठीक 1 दिन पहले यानि की 13 नवंबर की रहेगी। तिथियों में उतार चढ़ाव के कारण लोगो में इस बात को लेकर असमंजस की स्तिथि बानी हुई है की दीवाली किस दिन मनाई जाएगी आज इस वीडियो में हम आपको दीपावली की सही तिथि, लक्ष्मी पूजन शुभ मुहूर्त और इसकी पूजा विधि के बारे में बताएँगे.

दिवाली तिथि व शुभ मुहूर्त Diwali Festival 2020 Date Time

  1. साल 2020 में दिवाली का त्यौहार 14 नवंबर शनिवार के दिन मनाया जाएगा|
  2. लक्ष्मी पूजा मुहूर्त्त होगा – शाम 05:28 मिनट से शाम 07:24 मिनट तक |
  3. प्रदोष काल समय होगा – शाम 05:28 मिनट से शाम 08:07 मिनट तक |
  4. वृषभ काल समय होगा – शाम 05:28 मिनट से  07:24 मिनट तक |
  5. अमावस्या तिथि प्रारम्भ होगी – 14 नवंबर शाम 02:17 मिनट पर |
  6. अमावस्या तिथि समाप्त होगी – 15 नवंबर प्रातःकाल 10:36 मिनट पर |

दिवाली महानिशीथ काल मुहूर्त 2020 Diwali Worship Timing

  1. दीवाली के दिन महानिशीथ काल में माता काली का पूजन किया जाता है.
  2. महानिशीथ पूजा मुहूर्त होगा – रात्रि 11:55 मिनट से प्रातःकाल 12:30 मिनट पर |
  3. पूजा की कुल अवधि 35 मिनट की होगी |

दिवाली पूजा व लक्ष्मी पूजन विधि Dewali Goddess Lakshmi Puja Vidhi

शास्त्रों के अनुसार दिवाली पर लक्ष्मी पूजन बहुत ही विशेष होता है। और जिस दिन अमावस्या तिथि होती है उसी दिन दीवाली मनाई जाती है अमावस्या तिथि पर संध्याकाल और रात्रि शुभ मुहूर्त में मां लक्ष्मी, भगवान गणेश जी की पूजा आराधना की जाती है। सांध्यकाल के समय घर के पूजास्थल पर चौकी पर लक्ष्मी गणेश जी की प्रतिमा और जल से भरे कलश की स्थापना करे. अब लक्ष्मी गणेश जी के सामने घी के दीपक जलाये इसके बाद हाथ में जल व पुष्प लेकर सभी देवी देवताओं का आहवाहन करे और विधिवत लक्ष्मी गणेश जी की पूजा करे. पूजा में खील, बताशे, पंच मेवा, गुड़, फल फूल, मिठाई, , कमल का फूल व माँ लक्ष्मी जी को प्रिय कौड़िया अर्पित करे. अब माता लक्ष्मी के मंत्रों का जाप और श्री सूक्त का पाठ करें। दीवाली पर महालक्ष्मी पूजन के बाद तिजोरी व बहीखाते की पूजा करें। पूजा के बाद घर के सभी कोनों में दिए जलाये. दीवाली के दिन यदि आप माँ लक्ष्मी गणेश जी के साथ धन के देवता कुबेर जी का पूजन भी करते है तो यह अति शुभ होता है.