चंद्र ग्रहण 5 जुलाई 2020 सूतक काल समय Chandra Grahan Purnima 2020

चंद्र ग्रहण 2020 Lunar Eclipse July 2020 Date Time in India

चंद्र ग्रहण सूर्य ग्रहण के बाद अब साल 2020 का अगला ग्रहण चंद्र ग्रहण होगा ज्योतिष अनुसार चंद्र ग्रहण तब होता है जब चंद्रमा और सूर्य के बीच में पृथ्वी आ जाती है। जुलाई माह की शुरुआत में लगने वाला ये चंद्रग्रहण पूर्ण या आंशिक चंद्रग्रहण नहीं होगा है बल्कि उपछाया चंद्रग्रहण होगा ग्रहण धनु राशि में लगेगा लेकिन ये ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा. जब ग्रहण शुरू होगा तब भारत में सूर्योदय हो चूका होगा इसीलिए इसका प्रभाव भारत में नहीं दिखाई देगा. आज हम आपको आषाढ़ माह में लगने जा रहे साल के तीसरे चंद्र ग्रहण की सही तिथि सूतक काल का समय और इस दौरान रखी जाने वाली सावधानियों के बारे में बताएँगे.

चंद्र ग्रहण तिथि व समय Lunar Eclipse Date Time 2020

  1. साल 2020 का तीसरा चंद्रग्रहण 5 जुलाई रविवार के दिन लगेगा|
  2. उपच्छाया से पहला स्पर्श होगा – 5 जुलाई प्रातः 08:38 मिनट पर|
  3. चन्द्र ग्रहण के परमग्रास का समय होगा – प्रातः 09:59 मिनट पर |
  4. उपच्छाया से अन्तिम स्पर्श – दोपहर 11:21 मिनट पर |
  5. चंद्रग्रहण के उपच्छाया की कुल अवधि – 02 घण्टे 43 मिनट्स 24 सेकण्ड्स की होगी|

चंद्र ग्रहण सूतक काल Lunar Eclipse Sutak kaal Timing

ज्योतिष अनुसार साल के इस तीसरे चंद्रग्रहण का सूतक काल मान्य नहीं होगा। मान्यता है की ग्रहण में लगने वाला सूतक काल एक अशुभ समयावधि होती है। ग्रहण का सूतक काल ग्रहण लगने से तीन पहर अर्थात 9 घंटे पहले ही शुरु हो जाता है, जो ग्रहण के समाप्त होने पर ही समाप्त होता है सूतक काल की इस समयावधि के दौरान कई शुभ कार्यों को वर्जित माना जाता है।

चंद्र ग्रहण सावधानियां Chandra Grahan Do Not These Things

  1. ग्रहण के समय किसी भी मंदिर में प्रवेश करने की अनुमति नहीं होती है इसीलिए ग्रहण काल में किसी भी मंदिर में प्रवेश न करे और ना ही भगवन की मूर्ति क स्पर्श करे.
  2. ग्रहण काल में कोई भी शुभ कार्य शुभ कार्य पूजा पाठ नहीं करना चाहिए और पूजा स्थल को किसी पर्दे से ढक देना चाहिए.
  3. ग्रहण शुरू होने से पहले और ग्रहण के समय न तो भोजन पकाना चाहिए और न ही ग्रहण करना चाहिए
  4. गर्भवती महिलाओं को इस दौरान घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए.
  5. गर्भवती महिलाओं को ग्रहण के दौरान लेटना या हाथ-पैर मोड़ कर नहीं बैठना चाहिए.
  6. ग्रहण काल के समय सोना भी नहीं चाहिए.
  7. शास्त्रों के अनुसार ग्रहण के दौरान बाल काटना, नाखून, दाढ़ी मूछ, कलह गुस्सा आदि नहीं करना चाहिए.
  8. मान्यता है कि ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को नुकीली चीजों का इस्तेमाल बिलकुल भी नहीं करना चाहिए.
  9. ग्रहण के समय किसी को भी सुनसान जगहों पर नहीं जाना चाहिए.
  10. ग्रहण काल में बाल धोना, नहाना, बल नाखून काटना या बाल बनाना जैसे कार्य भूलकर भी नहीं करने चाहिए.