व्यक्ति को इन कामो में शर्म नहीं करनी चाहिए Chanakya Niti Never Shy These work

चाणक्य सफलता सूत्र Chanakya Niti for Success

Chanakya Niti Chanakya Niti अकसर हम सभी ये सुनते रहते है कि शर्म और लिहाज व्यक्ति के आचरण को सभ्य बनाती  है। लेकिन यदि आचार्य चाणक्य की एक नीति को माने तो उनके अनुसार कुछ ऐसे  काम बताये गए है जिनमे   कुछ मौकों पर व्यक्ति का बेसरम होना ज्यादा अच्छा माना गया है। क्योकि उनके अनुसार यदि व्यक्ति इन मौकों पर बेशर्म नहीं बनेगा तो वो अपना खुद का ही नुकसान कर बैठता है आचार्य चाणक्य की नीतियों को आज भी काफी महत्व दिया जाता है। कहते  है की उनकी नीतियों में मनुष्य जीवन से जुड़ी सभी परेशानियों का हल मिल सकता है। आज हूं आपको इस वीडियो में आचार्य चाणक्य अनुसार लोगों को किन कार्यों को करने में शर्म नहीं करनी चाहिए इस बारे में बताएँगे.

खुद के पैसे मांगने में शर्म न करे Chanakya Niti Success Mantra

आचार्य चाणक्य कहते है की किसी भी व्यक्ति को धन से से जुड़े कार्यों को करने में कभी भी शर्म नहीं करनी चाहिए। क्योकि जो व्यक्ति रुपये पैसों से संबंधित कोई भी कार्य करने में शर्म करता है उसे अपने जीवन में आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इसका एक उदहारण ये है जैसे अगर किसी व्यक्ति को अपने पैसा उधार दिया है और आप शर्म के कारण उससे अपने ही पैसे वापस नहीं मांग पा रहे हैं तो ऐसे में निश्चित तौर पर आपको ही धन की हानि होगी|

अपने गुरु से स्वाल पूछने में शर्म न करे Chanakya Niti Quotes

आचार्य चाणक्य के अनुसार वो दूसरा काम अपने गुरु से स्वाल पूछने में शर्म न करना है जो व्यक्ति अपने गुरु से कोई भी प्रश्न पूछने में शर्म करता है तो उनके अनुसार ऐसा व्यक्ति ज्ञान प्राप्त करने के मामले में सबसे पीछे रह जाता है और उसे कभी ज्ञान की प्राप्ति नहीं हो सकती है। कहा जाता है की अच्छा और सफल शिष्य वही होता है जो शिक्षा प्राप्ति के समय शर्म नहीं करता है। इसलिए कभी भी अपने गुरु से प्रश्न पूछने में शर्म नहीं करनी चाहिए।

इसे भी पढ़े – जानें अपना वार्षिक राशिफल 2020

खाना खाते समय Chanakya Niti in Hindi

आचार्य चाणकय के अनुसार वो तीसरा काम खाना खाते समय शर्म ना करना है उनके अनुसार जो व्यक्ति खाना खाने में शर्म करता है तो वह भूखा ही रह जाता है। बहुत बार ये होता है की लोग अपने करीबियों और रिश्तेदारों के यहां भोजन करते समय शर्म करते हैं। आचार्य चाणक्य के अनुसार ऐसे लोग बहुत बार भर पेट भोजन भी नहीं कर पाते| इसलिए व्यक्ति को खाना खाने में किसी तरह की शर्म नहीं करनी चाहिए।