नवरात्री अष्टमी नवमी कन्या पूजन विधि Chaitra Navratri Kanya Pujan Vidhi

कन्या पूजन कैसे करें Durga Puja kanya pujan kaise kare 2020

ष्टमी नवमी कन्या पूजन अष्टमी नवमी कन्या पूजन – देशभर में चैत्र नवरात्रि की धूम है लेकिन लॉक डाउन के चलते ना तो लोग मंदिरो में जा पा रहे है और न ही कन्या पूजा के लिए घर पर कन्याओ को आमंत्रित कर पा रहे है नवरात्री के आखिरी 2 दिन अष्टमी या नवमी कन्या पूजन के लिए विशेष है इन दिनों कन्या या कंजक पूजन शुभ मना जाता है नवरात्री के दौरान पूजी जाने वाली कन्याओ को दुर्गा माँ का अलग अलग रूप मानकर उन्हें हलवा पूरी का भोग लगाकर भेंट देकर विदा किया जाता है लेकिन इस बार आप पहले की तरह कन्या पूजन नहीं कर पाएंगे इसका कारण है देश में चल रहा 21 दिनों का लॉक डाउन |पिछले हफ्ते जब देशव्यापी लॉक डाउन की घोषणा हुई थी तब ये बात साफ कर दी गयी थी की आपके घर के सामने एक लक्षमण रेखा खींच दी गयी  है जिस लक्ष्मण रेखा का हर हाल में पालन करना है यानि की आप और सालो की तरह इस बार कन्या पूजन के लिए कन्याओ को घर नहीं बुला  सकते है तो क्या  हमें  कन्या पूजन नहीं करना चाहिए दोस्तों इसका जवाब  है करेंगे  लेकिन थोड़ा अलग तरीके से | तो आइये जानते  है लॉक डाउन में आप किस  तरह से कन्या पूजन कर सकते है.

कन्या पूजन कब है Chaitra Navratri Kanya Pujan

चैत्र नवरात्री के आठवें दिन अष्टमी औरनावें दिन नवमी मनाई जाती है इस बार अष्टमी 1 अप्रैल को है जबकि नवमी 2 अप्रैल को मणि जायेगी इसी दिन राम नवमी का त्यौहार बह है आप कन्या पूजन के लिए अपनी सुविधानुसार कोई बह दिन चुन सकते है.

लॉक डाउन के अनुसार कैसे करे कन्या पूजन Chaitra Navratri Kanya Pujan

  1. ध्यान रखे की कन्या पूजन से पहले घर की सफाई कर ले.
  2. अष्टमी कन्या पूजन के दिन सुबह स्नान कर भगवन गणेश जी और महागौरी की पूजा करे.
  3. अगर नवमी के दिन कन्या पूजन आकर रहे है तो भगवन गणेश जी की पूजा के बाद माँ सिद्धि दात्री की पूजा करे.
  4. लॉक डाउन के चलते कन्याओ को घर पर नहीं बुलाया जा सकता ऐसे में आप अपने घर की बेटी या भतीजी की पूजा कर सकते है ध्यान रखे की कन्या की आयु 10 वर्ष के उपपर नहीं होनी चाइये.
  5. अगर आपके घर में कोई बालक है तो कन्या पूजन में उसे भी बैठए दरअसल बालक को बटुक भैरव के रूप में जाना जाता है मान्यता है की भगवन शिव ने हर शक्ति पीठ में माता की सेवा के लिए बटुक भैरव को तैनात किया हुआ है कहा जाता है की अगर किसी शक्ति पीठ में माँ के दर्शन के बाद भैरव के दर्शन नहीं किये जाय तो दर्शन  अधूरेमाने जाते है.

घर में बेटी ना हो तो ऐसे करे कन्या पूजन Chaitra Navratri Kanya Pujan

  1. अगर आपके घर में बेटी या भतीजी ना हो तो निराश न हो अष्टमी या नवमी जिस दिन आप कन्या पूजन करते है उस दिन आप इस तरह कन्या पूजन कर सकते है कन्या पूजन के दिन सुबह स्नान के बाद घर की सफाई करे और स्वच्छ वस्त्र धारण करे इसके बाद भोग तैयार करे और हलवा चना पूरी बनाये धयान रखे की भोग की मात्रा उतनी ही बनाये जितनी घर के सदस्य ग्रहण कर सकते हो माता रानी के लिए ऐसा प्रसाद भी तैयार करे जिसे लम्बे समय तक सुरक्षित रखा जा सके जैसे की मेवे मखाने शक्कर पारे |
  2. अब घर के मंदिर में ही माता रानी की विधिवत पूजा करे आरती उतारे और भोग लगाए .
  3. अब सूखे भोग के 10 अलग अलग पैकेट जिसमे 9 पैकेट कन्याओ के और १ पैकेट बटुक भराव के लिए बनाकर रख ले.
  4. इन पैकेट में यथाशक्ति भेट भी रखे.

इसे भी पढ़े – जानें अपना वार्षिक राशिफल 2020

  1. अब घर के सभी सदस्यों को प्रसाद बांटकर व्रत का परं करे जब बाद में लॉक डाउन ख़त्म हो जाय तो और स्तिथि सामान्य हो जाय इन पैकेट्स को कन्याओ में बाँट दे.
  2. इसके अलावा घर के सदस्यों द्वारा प्रसाद ग्रहण करने के बाद जो कन्याओ के नाम का प्रसाद है उसे आप घर की छत पर या आंगन में रख सकते है जिससे पक्षी या गाय उसे ग्रहण कर ले साथ ही आप जो कन्याओ लको उपहार या भेंट देते है तो उसे अलग रख ले और जब स्तिथि सामान्य होजाय तो भेंट व उपहार कयाओ को सौंप दे.
  3. इस तरह आप लॉक डाउन के चलते कन्या पूजन कर सकते है.