भाद्रपद अमावस्या 2020 Badrapad Amavasya Date Time 2020 

भाद्रपद अमावस्या 2020 सुख समृद्धि उपाय Hariyali Amavasya Upay 2020

भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि को भाद्रपद अमावस्या कहते हैं। इसे पिठोरी अमावस्या भी कहते हैं। शास्त्रों के अनुसार इस दिन मां दुर्गा की पूजा का विशेष महत्व है इस दिन दान और पितृ तर्पण करने की परपरा है यह तिथि कालसर्प दोष से मुक्ति पाने के लिए भी उत्तम बताई गयी है। आज हम आपको साल 2020 भाद्रपद अमावस्या तिथि पूजा का शुभ मुहूर्त पूजा विधि आसान उपाय और इस दिन कौन से कार्य करने की मनाही है इस बारे में बताएँगे।

भाद्रपद अमावस्या शुभ मुहूर्त 2020 Bhadrapad Amavasya 2020 Date

  1. साल 2020 में भाद्रपद अमावस्या का व्रत 18 अगस्त मंगलवार को रखा जाएगा|
  2. अमावस्या तिथि प्रारम्भ होगी – 18 अगस्त प्रातःकाल 10:39 मिनट पर|
  3. अमावस्या तिथि समाप्त होगी- 19 अगस्त प्रातःकाल 08:11 मिनट पर|

अमावस्या पूजा विधि Bhadrapad Amavasya Pooja Vidhi

भाद्रपद अमावस्या स्नान, दान और तर्पण के लिए अधिक महत्व रखती है। इस दिन प्रातःकाल उठकर किसी नदी, जलाशय में स्नान कर सर्वप्रथम सूर्य देव को अर्घ्य दे और इसके बाद पितरों की आत्म शांति के लिए बहते जल में तिल प्रवाहित करें इसके बाद ब्राह्मण को दान-दक्षिणा दें। अमावस्या तिथि के दिन शाम के समय पीपल के पेड़ के नीचे सरसो के तेल का दीपक जलाये और पीपल की सात परिक्रमा लगाएं। अमावस्या तिथि शनिदेव का दिन भी माना जाता है। इसलिए आज के दिन शनिदेव की पूजा कर उन्हें उनकी प्रिय चीजे अर्पित करे. यह अमावस्या कृष्ण पक्ष में आने के कारण कृष्ण जी को समर्पित है साथ ही इस दिन देवी दुर्गा की पूजा भी की जाती है.

भाद्रपद अमावस्या उपाय bhadrapad amavasya upay 

  1. भाद्रपद अमावस्या के दिन प्रात:काल स्नाअन के बाद सूर्यदेव को जल और बहते जल में तिल अर्पित करना शुभ माना जाता है।
  2. अमावस्या तिथि को शनिदेव की पूजा कर उन्हें काली चीजे अर्पित करने और ब्राह्मण को दान करने से सुख समृद्धि की प्राप्ति होती है.
  3. अमावस्या की शाम को मां लक्ष्मी जी को प्रसन्न करने के लिए घर के ईशान कोण में घी का दीपक जलाएं।

अमावस्या तिथि पर क्या ना करें amavasya kya naa kare 

  1. अमावस्या तिथि चंद्रमास की आखिरी तिथि होती है. इस दिन क्रय-विक्रय और किसी भी तरह के शुभ कार्यों को करना वर्जित मना गया है.

इसे भी पढ़े – जानें अपना वार्षिक राशिफल 2020

  1. अमावस्या तिथि के दिन खेतों में हल चलाना या खेत जोतने जैसे कार्यो की भी मनाही होती है.
  2. की मनाही है.
  3. इस दिन तामसिक वस्तुओं का सेवन नहीं करना चाहिए।
  4. अमावस्या तिथि के दिन देर तक नहीं सोना चाहिए और ना ही घर में कलह जैसे जारी करने चाहिए.