भाद्रपद संकष्टी चतुर्थी शुभ मुहूर्त 2020 August Sankashti Chaturthi Date Time 2020

संकष्टी चतुर्थी पूजा विधि Sawan Sankashti Vrat Pooja Vidhi 

संकष्टी चतुर्थीसंकष्टी चतुर्थी- शास्त्रों के अनुसार जिस तरह सावन माह में आने वाले व्रत त्योहारों का विशेष महत्व है ठीक उसी तरह भाद्रपद माह के व्रत त्यौहार भी बेहद ख़ास माने गए है. इन्ही व्रत त्योहारों में से एक भाद्रपद माह में आने वाली संकष्टी चतुर्थी| पूर्णिमा के बाद आने वाली चतुर्थी तिथि को यह व्रत रखा जाता है. इस दिन बल बुद्धि और विद्या के देवता श्री गणेश जी का पूजन किया जाता है. कहा जाता है की संकष्टी चतुर्थी का यह  व्रत सभी संकटो को हरने वाला होता है आज इस वीडियो में हम आपको भाद्रपद माह में आने वाली संकष्टी चतुर्थी व्रत की शुभ तिथि पूजा का शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और इस दिन सुख समृद्धि व धनप्राप्ति के लिए किये जाने वाले उपाय व कार्यो के बारे में बताएँगे.

संकष्टी चतुर्थी शुभ मुहूर्त 2020 Sankashti Chaturthi 2020

  1. साल 2020 में संकष्टी चतुर्थी का व्रत 7 अगस्त शुक्रवार के दिन रखा जाएगा |
  2. संकष्टी चतुर्थी पूजा का शुभ मुहूर्त होगा- सायंकाल 06:54 मिनट से सायंकाल 07:21 मिनट तक |
  3. पूजा की कुल अवधि 27 मिनट्स की होगी |
  4. चतुर्थी तिथि प्रारम्भ होगी- 7 अगस्त प्रातःकाल 12:14 मिनट पर |
  5. चतुर्थी तिथि समाप्त होगी – 8 अगस्त प्रातःकाल 02:06 मिनट पर |
  6. संकष्टी के दिन चन्द्रोदय का समय होगा रात्रि – 09:37 मिनट |

संकष्टी चतुर्थी व्रत पूजा विधि Sankashti Chaturthi Vrat Puja Vidhi

पौराणिक कथाओ के अनुसार चतुर्थी के दिन गौरी पुत्र गणेश जी की पूजा करने का विधान है इस दिन प्रातःकाल स्नान के बाद व्रत का संकल्प लेते हुए पूजा स्थल को गंगाजल से पवित्र कर ले और पूजा स्थल पर गणेश जी की प्रतिमा स्थापित कर कलश की स्थापना करे. पूजा के शुभ मुहूर्त यानि शाम को भगवन गणेश जी की विधिवत पूजा कर उन्हें कपूर धुप दीप अक्षत और उनका प्रिय दूर्वा जरूर अर्पित करे. और साथ ही उन्हें लड्डुओं और मोदकों का भोग लगाकर आरती करले. रात्रि में चंद्रोदय के बाद चन्द्रमा को जल का अर्घ्य देकर व्रत संपन्न करे. इसके बाद ब्राह्मण के लिए दान दक्षिणा निकालकर व्रत खोल ले और अगले दिन दान की सामग्री ब्राह्मण को दे दे.

संकष्टी चतुर्थी उपाय Sankashti Chaturthi Mahaupay

गणेश जी को सभी देवो में प्रथम पूज्य माना गया है इसीलिए किसी भी कार्य से पहले गणेश जी का पूजन किया जाता है कहते है की यदि उनकी आराधना के समय नियमो का सही ढंग से पालन कर छोटे छोटे उपाय किये जाय तो वे व्यक्ति को बल बुद्धि और विद्या का वरदान देने के साथ ही उसके सभी संकटो को हर लेते ही. आइये जानते है इस दिन कौन से काम और उपाय करने चाहिए.

इसे भी पढ़े – जानें अपना वार्षिक राशिफल 2020

  1. संकष्टी चतुर्थी के दिन यदि आप व्रत कर गणेश जी को 21 लड्डुओं का भोग लगाते है तो इससे घर में सुख समृद्धि आती है.
  2. चतुर्थी के दिन गणेश जी के समक्ष घी का चौमुखी दीपक जलाने से कार्यसिद्धि होती है.
  3. आज के दिन गणेश जी को पूजा में लाल सिन्दूर अर्पित करने से धन में वृद्धि होती है.
  4. यह चतुर्थी तिथि शुक्रवार के दिन है जो लक्ष्मी जी का दिन होता है इसीलिए इस दिन गणेश जी की पूजा के साथ माँ लक्ष्मी जी का पूजन जरूर करे. इससे धन धान्य में वृद्धि होती है.
  5. संकष्टी चतुर्थी यदि बुधवार के दिन हो तो यह बेहद लाभकारी होती है इस दिन गणेश जी की पूजा में उन्हें 21 दूर्वा उनके मस्तक पर चढ़ाएं इससे मनोकामना पूरी होती है.