AdhikMas 2018 Special Mahasanyog 11 दिनों तक 9 खास संयोग

21 साल बाद बने ये 9 महासंयोग 3 Se 13 June Shubh Sanyog-

AdhikMas 2018 Special MahasanyogAdhikMas 2018 Special Mahasanyog- शास्त्रों में ज्येष्ठ मास कृष्ण पक्ष में अधिक मास अर्थात मलमास का बहुत अधिक महत्व माना गया है. यह महीना भगवान श्रीकृष्ण और विष्णु भगवान की पूजा आराधना करने के लिए विशेष माना गया है. इसे पुरुषोत्तम मास के नाम से जाना जाता है। इस बार ज्येष्ठ कृष्ण पक्ष में 9 ख़ास संयोग बन रहे है. ज्योतिष शास्त्र की माने तो पुरुषोत्तम मास में इन संयोगो का बनना बहुत ही खास माना जा रहा है क्योंकि ये सभी संयोग एक ही पक्ष काल में बन रहे है इसीलिए ये कई राशियों के लिए बहुत अधिक लाभकारी साबित होने वाले है आज हम आपको अधिक मास में आ रहे इन्हीं शुभ संयोगो के बारे में बताएँगे.

3 जून से 12 जून तक के ख़ास संयोग AdhikMas 2018 Special Mahasanyog –

शास्त्रों की माने तो यदि एक पक्ष काल में कई बार विशेष योग बनते है तो ये एक ख़ास संयोग होता है जो कई तरह से लाभकारी हो सकता है.कहा जा रहा है की अधिक मास में इन योगो के आने से इनका महत्व बहुत अधिक बड़ गया है. ज्येष्ठ कृष्ण पक्ष की 3  और 4  जून को सर्वार्थसिद्धि योग बनेगे.5 जून मंगलवार के दिन वक्री शनि मूल नक्षत्र के चौथे चरण में चले जायेगे और इसके साथ ही रवि योग रहेगा।

राशिअनुसार जाने साल 2018 का भविष्यफल

8 जून शुक्रवार के दिन सूर्य का मृगशिरा नक्षत्र तथा शुक्र का कर्क राशि में प्रवेश होने जा रहा है और इसी दिन रात्रि में अमृतसिद्धि योग भी बनेगा. 10 जून शनिवार के दिन होगी पुरुषोत्तम एकादशी जिस दिन सर्वार्थसिद्धि योग रहेगा. 12 जून मंगलवार को फिर सर्वार्थसिद्धि बनेगा और इसके साथ ही अधिकमास का समापन और अमावस्या पर सर्वार्थसिद्धि योग होगा। ऐसा माना जा रहा है की ये संयोग इतने प्रभावशाली होंगे की कई लोगो को मालामाल कर सकते है.

एकादशी के दिन बने ख़ास संयोग के लाभ Benefits of Adhik Mas Purushotam Ekadashi-

इस बार 10 जून को पुरुषोत्तम एकादशी के ख़ास मौके पर कई सालों बाद ये सर्वार्थ सिद्धि योग बन रहा है जो बहुत शुभ होने वाला है 3 साल बाद ये पुरुसोत्तम एकादशी आ रही है जो बहुत ख़ास होगी इस दिन विष्णु भगवान की पूजा करना और संभव हो सके तो निर्जला व्रत करना विशेष लाभकारी होता है.

कमला एकादशी व्रत

और अगले दिन व्रत का पारण करना चाहिए इससे भगवान की विशेष कृपा प्राप्त होती है. कहा जा रहा है की इस दिन दान पुण्य का भी बहुत महत्व है और साथ  ही अपनी मनोकामना पूरी करने के लिए भी यह समय बहुत ही शुभ है.