स्टडीरूम पढ़ाई में मन लगाने के वास्तु टिप्स Vastu tips for study room

वास्तु के अनुसार ऐसा होना चाहिए बच्चों का अध्ययन कक्ष

%e0%a4%b5%e0%a4%be%e0%a4%b8%e0%a5%8d%e0%a4%a4%e0%a5%81-%e0%a4%95%e0%a5%87-%e0%a4%85%e0%a4%a8%e0%a5%81%e0%a4%b8%e0%a4%be%e0%a4%b0-%e0%a4%90%e0%a4%b8%e0%a4%be-%e0%a4%b9%e0%a5%8b%e0%a4%a8%e0%a4%beभारतीय मान्यताओं के अनुसार वास्तु शास्त्र का हमारे जीवन में बहुत अधिक प्रभाव पड़ता है. वास्तु शास्त्र का प्रयोग लोग सालों से अपने घर को बनवाने में करते आ रहें हैं. फिर चाहे ओ किचन हो या कोई बैडरूम या फिर बच्चों की पढ़ाई का कमरा. सभी माता-पिता चाहते हैं की उनके बच्चे पढाई लिखाई में काफी अव्व्ल रहें.

इसलिए कई माता-पिता अपनी बच्चों की पढ़ाई में काफी ध्यान देते हैं. बच्चों का परिणाम श्रेष्ठ रहे, इसके लिए वास्तु टिप्स का भी ध्यान रखना चाहिए। वास्तु घर की नकारात्मक ऊर्जा खत्म करके सकारात्मक ऊर्जा बढ़ाता है. कुछ ऐसे वास्तु के उपाय हैं जिनकी मदद से आप अपने बच्चे के अध्ययन पर सकारात्मक बदलाव ला सकते हैं.

  • बच्चों के पढ़ाई का कमरा पूर्व, उत्तर, या उत्तर-पूर्व दिशा में होना चाहिए तथा कमरे का दरवाजा भी इसी तरफ खुलना चाहिए. इससे बच्चे के ज्ञान में वृद्धि होती है.
  • पढ़ाई के कमरे के नीचे शौचालय ना बनवाए तथा जब भी बच्चा पढ़े तो ध्यान रखे की शीशे की प्रतिच्छाया किताबों पर ना पड़े, इससे बच्चे के ऊपर पढाई का दबाव बनता है. पढाई के कमरे में हमेशा उचित रौशनी होनी चाहिए.
  • पढ़ाई के रूम में जो पढ़ाई की टेबल रखी हो उसकी हमेशा साफ-सफाई रखें. टेबल पर किताबें फैला के नहीं रखनी चहिये तथा टेबल को दिवार की तरफ नहीं रखना चाहिए. इसके अलावा टेबल पर या बच्चे के बिस्तर के पास सरस्वती माता की मूर्ति रखनी चाहिए. इससे नकारात्मक ऊर्जा नष्ट होती है.
  • बच्चों की पढ़ाई के लिए हमेशा चौकोर टेबल का ही उपयोग करना चाहिए तथा टेबल के चारों पावों में समानता होनी चाहिए.
  • स्टडी रूम का रंग हल्का पीला या सफेद होना चाहिए. बच्चों के पढ़ाई वाले कमरे में कभी भी गहरे रंगों के उपयोग नहीं करना चाहिए. इसके अलावा स्टडी रूम में दर्पण नहीं रखना चाहिए.
  • पढ़ाई करने का सबसे सबसे अच्छा समय ब्रह्म मुहूर्त होता है. यानी सुबह 4.30 बजे से सुबह 10 बजे तक पढ़ाई करना उचित होता है. इसके अलावा रात को अधिक देर तक नहीं पढ़ना चाहिए. यह स्वास्थ के लिए उचित नहीं होता.
  • पढ़ाई के कमरे से पानी तथा चाय पिया, नाश्ता भी किया हो तो जूंठे बर्तन, प्लेट आदि को पढ़ाई से पहले कमरे से हटा देना चाहिए.