सूर्य को जल चढ़ाते समय जरूर ध्यान रखें ये बातें Keep these things in mind while offering water to sun

जानें सूर्य को जल चढ़ाने का सही तरीका Sury ko Jal Chadane ka Sahi Taikra Worship Tips- 

सूर्य को जल चढ़ाते समय सूर्य को जल चढ़ाते समय- रविवार का दिन सूर्य देव की पूजा के लिए विशेष माना जाता है ज्योतिष में सूर्य को सभी ग्रहों का अधिपति माना गया है. ऐसा कहा जाता है कि सूर्यदेव को जल चढ़ाने से व्यक्ति को जीवन की हर परेशानी से छुटकारा मिल जाता है.

सूर्य देव को जल चढ़ाने कि परम्परा सदियों से चली आ रही है. सूर्य को जल चढ़ाने से मन को शांति का अनुभव होता है और वहीं शरीर के रोग और जिंदगी में खुशहाली आती है. शास्त्रों के अनुसार सुबह सूर्य को जल देते समय कुछ बातो का ध्यान रखना जरुरी है. क्युकी ऐसा माना जाता है अगर सूर्य को जल देते समय ये गलतिया हो जाये तो भगवान क्रोधित हो हेट हैं.

इसे भी पढ़ें  –

सूर्य को जल चढ़ाते समय नहाने के बाद ही जल चढ़ाये Nahane ke Baad Jal Chadaye –

जी हाँ ध्यान रखें कि कभी सूर्य को जल चढ़ाते समय बिना नहाये जल चढ़ाने कि गलती न करें, सूर्य देव को हमेशा नहाने के बाद ही जल चढ़ाना चाहिये और साथ ही 8 बजे के अंदर ही जल चढाएं सुर देव को जल चढ़ाते समय  स्टील, चांदी, शीशे और प्लास्टिक बर्तनों का प्रयोग न करें बल्कि सूर्यदेव को हमेशा तांबे के पात्र से ही जल चढ़ाये यह ज्यादा शुभ माना जाता है.

गुड़ और चावल न चढ़ाये Gud or Chaval na Chadaye 

सूर्य के साथ नवग्रह भी मजबूत बनते हैं सूर्य देव को जल अर्पित करने से पहले कई लोग उसमें गुड़ और चावल मिलाते हैं ऐसा न करें इसका कोई महत्त्व नहीं होता है और यह सही नहीं माना जाता है.

पूर्व कि ओर करें मुख Purv ki or Muh Kre –

जी हाँ दोस्तों जब भीसूर्य को जल चढ़ाते समय इस बात का खास ध्यान रखें कि सूर्य देव को जल पूर्व दिशा की ओर मुख करके ही चढ़ाए अगर कभी ऐसा हो कि बरसात का मौसम तो सूर्य देव नजर ना आ रहे हों, तो भी पूर्व दिशा की ओर मुख करके ही जल चढ़ाये.

पुष्प ओर अक्षत भी रखें Pusp or Akshat Bhi Rakhe –

सूर्य को जल चढ़ाते समय उसमें पुष्प या अक्षत (चावल) जरूर रखें अगर आप चाहे तो दूबा भी चढ़ा सकते हैं. कई लोगों का मानना है कि जल अर्पित करते समय पैर में जल की छीटें पड़ने से फल नहीं मिलता लेकिन ऐसा नहीं होता है.

सूर्य मन्त्र का जाप करें Sury Mantr Ka Jaap Kre –

सूर्य को जल चढ़ाते समय सूर्य के मंत्र का भी जाप करें, ऐसा करने से व‌िशेष लाभ मिलता है. ओर अगर हो सके तो सूर्य देव को जल चढ़ाने के दौरान लाल वस्‍त्र धारण करें इससे आपको अधिक लाभ होता है.