सिर किस दिशा की ओर रखकर सोये वास्तु अनुसार Sleeping direction according to vaastu

सोने की सही दिशा Right direction of sleeping

%e0%a4%b8%e0%a5%8b%e0%a4%a8%e0%a5%87-%e0%a4%95%e0%a5%80-%e0%a4%b8%e0%a4%b9%e0%a5%80-%e0%a4%a6%e0%a4%bf%e0%a4%b6%e0%a4%be-right-direction-of-sleeping-upcarnuskheनींद से हम सभी का बहुत गहरा रिश्ता होता है. शास्त्रों में भी सभी कामों के लिए कुछ ख़ास बातें बताई गयी है सोना भी उन्ही ख़ास कामों में से एक है. सोने की सही दिशा का ज्ञान न होना या सही दिशा की सिर करके न सोना यह आपके जीवन में परेशानियों को बड़ा सकता है. सोते समय सिर किस दिशा में रखना चाहिए और पैर किस दिशा में,यह बहुत ही जरूरी और ध्यान देने योग्य बातें है.

सोने की सही दिशा से सम्बंधित कुछ वास्तु टिप्स Easy tips to right direction of sleeping

वास्तु शास्त्र का हमारे जीवन में बहुत अधिक महत्व है वास्तुशास्त्र वैज्ञानिक तर्कों पर आधारित है वास्तु शास्त्र के अनुसार सोने की सही दिशा से सम्बंधित कुछ असरदार उपाय और टिप्स इस प्रकार है.

  • वास्तुशास्त्र के अनुसार दक्षिण दिशा की ओर सिर और उत्तर दिशा की ओर पैर करके सोना सबसे अच्छा रहता है. दक्षिण दिशा की ओर सिर करके सोने से बहुत सी बीमारियों का नाश होता है.
  • हमारे वातावरण में भी चुम्बकीय शक्ति होती है, ये शक्ति दक्षिण से उत्तर दिशा की ओर बहती है.
  • जब हम दक्षिण दिशा की ओर सिर करके सोते हैं तो यह ऊर्जा हमारे सिर से प्रवेश करती है और पैरों के रास्ते बाहर निकल जाती है इससे भोजन आसानी से पच जाता है.
  • यदि आप पूर्व दिशा में पैर रखकर सोएंगे तो सूर्योदय के समय हमारे पैर सूर्य के सामने रहेंगे यह अशुभ माना जाता है.
  • रात को खाना खाने के तुरंत बाद भी नहीं सोना चाहिए खाना खाने के बाद कुछ देर पैदल चलना चाहिएऔर वज्रासन में बैठना चाहिए. खाना खाने के कम से कम 2 घंटे बाद सोना स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है.
  • यदि आप पश्चिम दिशा में पैर करके सोते है तो ईश्वर की क्रिया तरंगें पूर्व-पश्चिम दिशा की ओर ही होती है. पूरब और पश्चिम इन्ही दो दिशाओं के मध्य इसकी गतिविधि रहती है, पश्चिम दिशा में पैर करके सोने से इन तरंगो का लाभ मिलता है. ये हमें शक्ति प्रदान करती है.
  • यदि आप दक्षिण की ओर पैर करके सोते है तो चुम्बकीय धारा पैरों से प्रवेश करेगी है और सिर तक पहुंचेगी इससे मानसिक तनाव बढ़ता है और सुबह के समय शरीर में भारी रहता है.
  • हमें कभी भी उत्तर दिशा की ओर सिर करके नहीं सोना चाहिए क्योकि हमारे सिर में धनात्मक ऊर्जा का प्रवाह होता है और पैरों से ऋणात्मक ऊर्जा का निकास होता है सिर उत्तर दिशा की ओर रखने से उत्तर की धनात्मक और सिर की धनात्मक तरंग एक दूसरे से विपरित भागेगी जिस कारण हमें नींद अच्छे से नहीं आती है.