संकष्टी चतुर्थी व्रत 2018 Sankashti Chaturthi Kab Hai Date Time Puja Vidhi

संकष्टी चतुर्थी व्रत शुभ मुहूर्त Ganesh Sankashti Chaturthi Muhurt

संकष्टी चतुर्थीसंकष्टी चतुर्थी या संकटहरा चतुर्थी पर्व मुख्य रूप से भगवान गणेश जी को समर्पित पर्व है। इस दिन भक्त अपने जीवन की परेशानियों व दुखो को दूर करने के लिए भगवान गणेश जी की पूजा अर्चना करते हैं। गणेश चतुर्थी का यह त्यौहार प्रत्येक महीने में कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि के दिन मनाया जाता है। कई जगहों पर इसे संकट हरा चतुर्थी के नाम से भी जाना जाता है। पूर्णिमा के बाद कृष्ण पक्ष में आने के कारण इसे संकष्टी चतुर्थी कहा जाता है आज हम आपको नवंबर माह में आने वाली संकष्टी चतुर्थी व्रत की तिथि शुभ मुहूर्त और इसके महत्व के बारे में बताएँगे.

संकष्टी चतुर्थी व्रत तिथि व शुभ मुहूर्त Sankashti Chaturthi Fast Date Time Muhurt

  1. साल 2018 नवंबर के महीने में संकट चतुर्थी का व्रत 26 नवंबर सोमवार के दिन रखा जाएगा.
  2. चतुर्थी तिथि 26 नवंबर सोमवार के दिन 4 बजकर 6 मिनट पर शुरू होगी.
  3. और 27 नवंबर मंगलवार के दिन 1 बजकर 34 मिनट पर समाप्त होगी.

संकटहरा चतुर्थी की पूजा विधि Sankashti Chaturthi Pujan Vidhi

चतुर्थी व्रत के दिन सर्वप्रथम सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि के बाद व्रत का संकल्प लेकर भगवान श्री गणेश जी की पूजा करनी चाहिए और पूरी श्रद्धा से व्रत रखना चाहिए। इस दिन लाल रंग के वस्त्र पहनना बेहद ही शुभ माना जाता है श्रीगणेश जी को स्नान कराकर फल, फूल, रौली, मौली, अक्षत, पंचामृत आदि सभी पूजन सामग्री अर्पित कर धूप-दीप जलानी चाहिए. इसके बाद शाम के समय भगवान गणेश जी की प्रतिमा को फूलों से सजाया जाता है। चंद्रोदय के बाद पूजा और व्रत कथा पढ़ने के बाद व्रत खोला जाता है और सबको प्रसाद वितरण करना चाहिए.

राशिअनुसार जाने साल 2018 का भविष्यफल

संकष्टी चतुर्थी का महत्व Sankashti Chaturthi importance

पौराणिक कथाओं और मान्यताओं के अनुसार चतुर्थी के दिन चन्द्र दर्शन को बहुत ही शुभ माना जाता है। जो भी लोग चतुर्थी का व्रत रखते है वो चन्द्रोदय के बाद ही पूजा कर व्रत खोलते है मान्यता है कि जो व्यक्ति संकष्टी चतुर्थी का व्रत रखता है तो गणेश जी के आशीर्वाद से उसकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं।  गणेश जी को विद्या-बुद्धि, विघ्न-विनाशक, मंगलकारी, सिद्धिदायक और समृद्धि के दाता माना गया है  इसीलिएजो भी इस दिन गणेश जी की पूजा आराधना करते है उन्हें गणपति जी के आशीर्वाद स्वरुप बल बुद्धि विद्या समृद्धि का वरदान मिलता है.