वास्तु अनुसार जानिए घर में लगे शीशे से जुड़े शकुन-अपशकुन

शीशे से जुड़े शकुन-अपशकुन वास्तु अनुसार

%e0%a4%b6%e0%a5%80%e0%a4%b6%e0%a5%87-%e0%a4%b8%e0%a5%87-%e0%a4%9c%e0%a5%81%e0%a5%9c%e0%a5%87-%e0%a4%b6%e0%a4%95%e0%a5%81%e0%a4%a8-%e0%a4%85%e0%a4%aa%e0%a4%b6%e0%a4%95%e0%a5%81%e0%a4%a8-%e0%a4%b5वैसे तो घर में किसी भी प्रकार की अनुपयोगी वस्तुएं नहीं रखना चाहिए लेकिन कभी कोई वस्तु यदि हम घर में गलत स्थान पर रख दें तो उसे तुरंत ठीक कर देना चाहिए. वास्तु दोष होने के कारण घर में धन की कमी होती है और आर्थिक परेशानियों का सामना भी करना पड़ सकता है. आज हम आपको शीशे से जुड़े शकुन और अपशकुन के बारे में बताएंगे. वास्तु के इन टिप्स को अपनाकर आप अपनी कायो परेशानियों को आसानी से समाप्त कर सकते हैं.

  • वास्तु के अनुसार शीशे को कभी भी बैडरूम में नहीं रखना चाहिए. यदि आपको बैडरूम में शीशा रखना है तो ऐसे स्थान पर रखें जहां पर सुबह उठते ही आपको शीशा ना दिखे.
  • टुटा हुआ शीशा कभी घर में ना रखें. यदि शीशा चटक गया हो तो उसे तुरंत घर से बाहर रख दें. टूटे शीशे से लौटने वाली रौशनी घर में नकारात्मक ऊर्जा को उतपन्न करती है तथा परिवार के सदस्यों के बीच दूरिया बढ़ सकती हैं. इसके अलावा टूटे हुए शीशे में चेहरा देखने से स्वास्थ सम्बंधी परेशानियां हो सकती हैं. इसलिए घर में टुटा हुआ शीशा ना रखें.
  • वास्तु के अनुसार गोल आकृति का शीशा भी घर में रखना शुभ नहीं माना जाता. आयताकार या वर्गाकार आयन घर में रखना उचित माना जाता है.
  • घर के पछिम या दक्षिण दिशा में शीशा नहीं रखना चाहिए. वास्तु के अनुसार यह शुभ नहीं माना जाता. इसलिए इस दिशा में कभी भी शीशा ना लगाए.
  • घर में लगे शीशे में कभी भी धूल ना जमने दें. इसके अलावा यदि आपके घर में बेसमेंट है या फिर दक्षिण या पछिम में टॉयलेट या बाथरूम है तो पूर्वी दिवार में वर्गाकार दर्पण लगा सकते हैं. इससे वास्तु दोष समाप्त होता है.