लू लगने के कारण और बचने के घरेलु उपाय Home remedies for heat stroke

लू लगने के कारण, लक्षण और लू से बचने के घरेलू उपाय

वैसे तो हर मौसम में अपने शरीर का ख्याल रखना आवशयक होता है मगर हमें गर्मियों में अपने शरीर का अत्यधिक ख्याल रखना पड़ता है. गर्मियों के मौसम में अत्यधिक गर्म हवाएं चलती हैं. इस मौसम में लू लगने का खतरा अधिक रहता है. वातावरण में बदलाव के कारण शरीर में गर्मी प्रवेश कर जाती है जिसे लू के नाम से जाना जाता है. इन्हें कुछ लोग तो सहन कर जाते हैं, लेकिन कुछ लोग सहन नहीं कर पाते और लू का शिकार हो जाते हैं.

लू के शिकार होने पर रोगी को जलन महसूस होने लगती है. बहुत अधिक गर्मी और जलन होने से रोगी बैचेन हो जाता है. हाथ-पैर और आंखों में जलन होती है. मुंह सूखना, गला सूखना, बार-बार प्यास लगना जैसी अनेक समस्याएं होने लगती है. इस समस्या के उपचार के लिए आप कुछ आसान घरेलु टिप्स की मदद लें सकते हैं जो अतयन्त सरल तथा लाभदायक होते हैं.

लू लगने के कारण

गर्मियों के दिनों में अपने शरीर का खास ख्याल रखना जरुरी होता है. गर्मी के मौसम में गर्म हवा और बढ़े हुए तापमान से लू लगने का खतरा बढ़ जाता है. गर्मियों में शरीर में पानी की कमी होने के कारण लू लगने सम्भावना बढ़ जाती है.

लू के लक्षण

  • बुखार
  • अत्यधिक पसीना आना
  • अधिक प्यास लगना
  • चक्कर आना और थकान
  • भ्रम की स्थिति
  • सिर दर्द होना
  • सिर का भारीपन एवं सिरदर्द की सम्भावना

लु से बचने के लिए कुछ आसान घरेलु उपचार 

प्याज के फायदे

लू की समस्या को समाप्त करने के लिए प्याज बहुत ही फायदेमंद होता है. रोजाना अपने आहार में प्याज को शामिल करे. इससे लू जैसी समस्या को दूर किया जा सकता है. इसके अलावा छिले हुए प्याज को बाहर जाते समय अपने साथ भी रख सकते हैं.

छाछ या मठ्ठा का प्रयोग

गर्मियों के दिनों में छाछ या मठ्ठा का उपयोग करना बहुत ही लाभदायक होता है. छाछ या मठ्ठा में काला नामक और जीरा पाउडर मिलाकर सेवन करने से गर्मियों में लू से बचाव होता है.

नमक शक्कर और पानी का घोल

गर्मी में लू लगने पर रोगों को नमक शक्कर और पानी का घोल मुँह से पिलायें. इससे शरीर की गर्मी कम होने लगेगी तथा लू की समस्या से राहत मिलेगी.

धनियां का उपयोग 

गर्मियों में लू लगने के कारण व्यक्ति अनेक समस्याओं का सामना करना पड़ता है. इस समस्या को ठीक करने के लिए धनिये के पानी में चीनी मिला कर पी सकते हैं. इससे लू का असर कम होता है.

इमली का उपयोग

लू लगने से व्यक्ति को अत्यधिक बुखार आने लगता है. इसके उपचार के लिए इमली को उबाल कर उसे छान लें और शर्बत की तरह पियें. इमली को उबालकर उस पानी में तौलिया भिगो कर उसके छींटे मारने से भी लू की समस्या को दूर किया जा सकता है.

आलू बुखारे का प्रयोग

लू लगने पर आलू बुखारे को गर्म पानी में डाल कर रखें और उसी पानी में मसल लें. अब इस मिश्रण को धीरे-धीरे पीए. इससे लू की समस्या को आसानी से कम किया जा सकता है.