रसोईघर किचन के वास्तु टिप्स Vastu tips for kitchen

वास्तु के अनुसार रसोईघर बनाने के टिप्स(Kitchen According to Vastu  Tips)

वास्तु के अनुसार रसोईघर बनाने के टिप्स upcharnuskheरसोईघर को हमारे घर का सबसे महत्तवपूर्ण कक्ष माना जाता है. रसोईघर में हम पेट को भरने के लिए भोजन बनाते हैं. यदि हमारा पेट भरा रहता है तो हमारा दिन भी अच्छा गुजरता है तथा घर की खुशहाली किचन से ही होकर निकलती है. कई बार हम अपने किचन की साफ़ सफाई को अनदेखा कर देते हैं तो घर का माहौल अशांति पूर्ण रहता है.

देखने में आता है कि वास्तु के विपरित बनायी गयी रसोई किचिन-एक्सीडेन्ट को तो बढ़ावा देती ही है साथ ही अनचाहे मेहमानों की संख्या में भी बढ़ोतरी करती है. वास्तु के अनुसार अपने रसोई घर में पानी का मटका, गैस आदि को सही स्थान पर रखना चाहिए. इन्हे सही स्थान पर ना रखने से पेट संबंधी बीमारियाँ व तनाव से ग्रसित होने की संभावनाएँ रहती हैं. वास्तु के अनुसार हमारे किचन में कौन सी वस्तु कहा पर होनी चाहिए और हमारे किचन की दिशा किस तरफ हो इसके लिए आइये जानते है कुछ रसोईघर के लिए वास्तु टिप्स.

  • घर में रसोई बनाने के लिए आग्नेय कोण को सबसे महत्वपूर्ण दिशा माना जाता है यानि आप जब भी किचन बनाए तो आग्नेय कोण में ही बनाए.
  • यदि किन्ही कारणों की वजह से आग्नेय कोण में रसोई नहीं बन सके तो इसका निर्माण घर के नैरूत या वायव्ह हिस्से के आग्नेय भाग करें.
  • रसोई में कुकिंग स्टोव, गैस का चूल्हा या कुकिंग रेंज हमेशा दक्षिण पूर्वी कोने में होना चाहिए.
  • पानी के भंडारण, आर ओ, पानी फिल्टर और अन्य पानी के उपकरणों को उत्तर पूर्व दिशा में रखना चाहिए.
  • रसोई घर में जो सिंक लगा हो उसकी दिशा उत्तर पूर्व में होनी चाहिए.
  • रसोई घर में कुछ भी बिजली के सामान के लिए, दक्षिण पूर्व या दक्षिण दिशा उचित मानी जाती है.
  • किचन में फ्रिज पश्चिम, दक्षिण, दक्षिण पूर्व या दक्षिण पश्चिम दिशा में रखना उचित माना जाता है.
  • खाना पकाने वालो अनाज, मसाले, दाल, तेल, आटा और अन्य खाद्य सामग्रियों, बर्तन, क्रॉकरी इत्यादि के भंडारण के लिए उचित स्थान पश्चिम या दक्षिण दिशा को माना गया है.
  • रसोई घर में में जब भी कोई खाना बनाए उस समय उसका मुंह पूर्व दिशा की ओर होना चाहिये.
  • वास्तु शास्त्र के अनुसार किचन की कोई दिवार शौचालय या बाथरूम के साथ मिली हुयी नहीं होनी चाहिए और शौचालय और बाथरूम के नीचे या ऊपर किचन नहीं होना चाहिए.
  • वास्तु शास्त्र के अनुसार रसोई घर के पास में शौचालय नहीं बनाना चाहिए. यह अशुभ माना जाता है.
  • रसोई का दरवाजा उत्तर, पूर्व या पश्चिम दिशा में खुलने वाला होना चाहिए यह शुभ माना जाता है.
  • किचन को हमेशा साफ-सुथरा रखें. ज्यादा देर तक जूठे बर्तनों को किचन में ना रखे. इससे नकारात्मक ऊर्जा उतपन्न होती है.
  • रसोई घर की खिड़किया और हवा वाहर फेखने वाला एग्जॉस्ट फैन पूर्व दिशा की ओर में होना चाहिए, इसके अलावा इन्हे उत्तरी दीवार में भी लगाया जा सकता है.
  • रसोई घर में पूजा का स्थान नहीं होना चाहिए.
  • कोशिश करें की खाने की मेज रसोई घर में ना रहें. यदि घर में जगह की कमी है तो आप खाने की मेज को उत्तर पश्चिम दिशा में रख सकते हैं और खाना खाते समय चेहरा पूर्व या उत्तर की ओर रखना शुभ होता है.