मैरी कॉम के प्रेरणादायक सुविचार Mary Kom Thoughts and Quotes

मैरी कॉम के अनमोल ज्ञानवर्धक विचार Best Thoughts of Mary Kom 

%e0%a4%ae%e0%a5%88%e0%a4%b0%e0%a5%80-%e0%a4%95%e0%a5%89%e0%a4%ae-%e0%a4%95%e0%a5%87-%e0%a4%85%e0%a4%a8%e0%a4%ae%e0%a5%8b%e0%a4%b2-%e0%a4%9c%e0%a5%8d%e0%a4%9e%e0%a4%be%e0%a4%a8%e0%a4%b5%e0%a4%b0मैरी कॉम का पूरा नाम मैंगते चंग्नेइजैंग मैरी कॉम है तथा लोग इन्हें एम सी मैरी कॉम के नाम से भी जानते हैं. इनका जन्म 1 मार्क 1983 को कांगाथै, मणिपुर में हुआ था. वे भारतीय महिला मुक्केबाज हैं तथा पांच बार ‍विश्व मुक्केबाजी प्रतियोगिता की विजेता रह चुकी हैं. इन्होंने 2012 में इन्होंने लंदन ओलम्पिक मे काँस्य पदक जीता था. इसके अलावा 2014 के एशियाई खेलों में उन्हें स्वर्ण पदक से सम्मानित किया गया था.

सुविचार (Quotes) 1. जो तुम बोते हो वो तुम काटोगे जो मैं बोती हूँ वो मैं काटूंगी।

सुविचार (Quotes) 2. हार मत मानो ,हमेशा अगला मौका ज़रूर आता है।

सुविचार (Quotes) 3. मुक्केबाजी के बिना, मैं नहीं रह सकती। मुझे मुक्केबाजी से प्यार है।

सुविचार (Quotes) 4. मेरे पास कोई सहारा नहीं था , कोई मौका नहीं था, मेरे करियर के ज्यादातर समय में मेरे पास कोई प्रायोजक नहीं था।

सुविचार (Quotes) 5. हम पुरुषों से अधिक मेहनत करते हैं और देश को गौरवान्वित करने के लिए पूरी ताकत के साथ लड़ने के लिए दृढ हैं।

सुविचार (Quotes) 6. मैं केवल अपनी तकनीक या ताकत पर ही नहीं करती बल्कि अपने मन पर भी भरोसा करती हूँ।

सुविचार (Quotes) 7. मैंने बॉक्सिंग बस मेरी रूचि की वजह से खेलना शुरू किया और अपने माता-पिता की आर्थिक मदद करने के लिए .

सुविचार (Quotes) 8. मुख्यतः मेरा ध्यान अधिक से अधिक महिला मुक्केबाजों को प्रशिक्षण देना और उनसे उत्कृष्ट प्रदर्शन कराना है।

सुविचार (Quotes) 9. मैं उम्मीद करती हूँ कि हमारे लोगों द्वारा देश के लिए मेडल जीते जाने से नस्लीय भेदभाव कम होगा।

सुविचार (Quotes) 10. एक सफल बॉक्सर होने के लिए एक मजबूत दिल का होना ज़रूरी है। कुछ महिलाएं शारीरिक रूप से मजबूत होती हैं पर जब मजबूत दिल होने की बात आती है तो वे फेल हो जाती हैं।

सुविचार (Quotes) 11. मुक्केबाजी आसान नहीं है। जब मैंने शुरू किया, मेरे पुरुष मित्र कहते , ये महिलाओं का खेल नहीं है। पर मैं कहती अगर पुरुष कर सकते हैं तो महिलाएं क्यों नहीं।

सुविचार (Quotes) 12. लोग कहा करते थे कि बॉक्सिंग पुरुषों के लिए है महिलाओं के लिए नहीं और मैं सोचा करती थी कि एक दिन मैं उन्हें दिखाउंगी।  मैंने खुद से वादा किया और खुद को साबित किया।