मकर संक्रांति 2020 महासंयोग Makar Sankranti Date Time 2020

मकर संक्रांति पूजा व उपाय Makar Sankranti Kab Hai 2020

मकर संक्रांति 2020मकर संक्रांति 2020- पौराणिक कथाओ के अनुसार मकर संक्रांति तिथि के दिन भीष्म पितामह को मोक्ष की प्राप्ति हुई थी। साल 2020 में मकर संक्रांति का पर्व 15 जनवरी बुधवार के दिन मनाया जाएगा. ज्योतिष अनुसार इस दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है और इसके साथ ही सूर्य दक्षिणायण से उत्तरायण हो जाते हैं जिस कारण इसे मकर संक्रांति व कुछ जगहों पर इसे उत्तरायण के नाम से भी जाना जाता है साथ ही इस दिन से खरमास भी समाप्त हो जाता है जिस कारण इस दिन को सुख समृद्धि का दिन माना जाता है शास्त्रों में ऐसी मान्यता है की यदि इस शुभ दिन सूर्य पूजा के साथ साथ कुछ उपाय भी किये जाय तो व्यक्ति के धन सौभाग्य में वृद्धि होती है.

मकर संक्रांति शुभ योग Makr Sankranti Shubh Yog

मकर संक्रांति का पर्व 15 जनवरी बुधवार को मनाया जाएगा। 14 जनवरी रात 2 बजकर 21 मिनट पर सूर्य मकर राशि में प्रवेश करेंगे इस कारण सूर्योदय व्यापिनी तिथि में यह पर्व 15 जनवरी को मनाया जाएगा। सूर्य का मकर राशि में प्रवेश ही मकर संक्रांति कहते हैं। साल 2020 में मकर संक्रांति पर सूर्य और बुध के एक साथ होने के कारण बुधादित्य योग बनेगा तो वही उत्तराफाल्गुनी नक्षत्र होने से वर्धमान नाम का एक और शुभ योग भी बनेगा जिस कारण ये संक्रांति बहुत ही शुभ होने जा रही है.

मकर संक्रांति 2020 तिथि व शुभ मुहूर्त Makar Sankranti Dates Pooja Timing 2020

  1. साल 2020 में मकर संक्रांति का पर्व 15 जनवरी बुधवार के दिन मनाया जाएगा|
  2. संक्रांति पुण्यकाल मुहूर्त होगा – 15 जनवरी प्रातःकाल 07:15 मिनट से शाम 05:46 मिनट तक|
  3. मुहूर्त की कुल अवधि 10 घंटे 31 मिनट की होगी|
  4. संक्रांति महापुण्य काल मुहूर्त होगा – 15 जनवरी प्रातःकाल 07:15 मिनट से प्रातःकाल 09:00 बजे तक|
  5. मुहूर्त की कुल अवधि 1 घंटा 45 मिनट की होगी|
  6. संक्रांति स्नान 15 जनवरी बुधवार प्रातःकाल किया जायेगा |

मकर संक्रांति का महत्व Makar Sankranti Importance

धार्मिक और सांस्कृतिक दोनों ही दृश्टिकोण से मकर संक्रांति पर्व खास महत्व रखता है। पौराणिक कथाओ के अनुसार इस दिन सूर्य देव अपने पुत्र शनि के घर जाते हैं। शनि जो की मकर व कुंभ राशि के स्वामी गृह है। जिस कारण यह पर्व पिता-पुत्र के इस अनोखे मिलन को दर्शाता है. कुछ जगहों पर तो इसे नई फसल और नई ऋतु के आगमन के तौर पर भी मनाते है. मकर संक्रांति पर्व के दौरान तिल और गुड़ से बने लड्डू व अन्य मीठे पकवान बनाने की परंपरा है। तिल और गुड़ के लड्डू बनाने के पीछे का महत्व ये है की इस समय ठंड का मौसम होता है जिसे कारण तिल व गुड़ से बने लड्डू स्वास्थ के लिए लाभदायक होते है।

मकर संक्रांति व्रत व पूजा विधि Makar Sankranti Pooja Vidhi

मकर संक्रांति के दिन गंगा स्नान का बहुत अधिक महत्व होता है इसीलिए यदि संभव हो तो इस दिन प्रातःकाल उठकर किसी नदी, तालाब या शुद्ध जलाशय में स्नान करें और स्वच्छ वस्त्र धारण कर सूर्य देव की आराधना व ऊं सूर्याय नम: मंत्र का जाप करे. प्राचीन मान्यताओं के अनुसार इस दिन तीर्थों में गंगा स्नान और दान करने से पुण्य फलो की प्राप्ति होती है। स्नान अदि के बाद ब्राह्मणों व गरीबों को दान करना भी बहुत ही शुभ होता है विशेष रूप से इस दिन दान में आटा, दाल, चावल, खिचड़ी और तिल के लड्डू दिए जाते हैं। इसके बाद घर आकर सभी में तिल व गुड़ का प्रसाद वितरण करना चाहिए.

मकर संक्रांति पर खिचड़ी का महत्व Makar Sankranti Khichdi Mehtva

मकर संक्रांति के दिन विशेष रूप से खिचड़ी बनाने, खाने और खिचड़ी का दान करने की परंपरा है। इसीलिए बहुत सी जगहों पर इस पर्व को खिचड़ी के नाम से भी जाना जाता है. पौराणिक मान्यताओं के अनुसार चावल को चंद्रमा का प्रतीक और काली उड़द की दाल को शनि का प्रतीक माना जाता हैं कहा जाता है की मकर संक्रांति पर खिचड़ी खाने और दान करने से कुंडली में ग्रहों की स्थिती मजबूत होती है। इसी कारण इस दिन खिचड़ी खाने और दान करने का बहुत अधिक महत्व है.

इसे भी पढ़े – जानें अपना वार्षिक राशिफल 2020

मकर संक्रांति उपाय Makr Snakranti Upay

कौड़ियां मां लक्ष्मी का प्रतीक और उनकी अति प्रिय चीजों में से एक मानी जाती है शास्त्रों के अनुसार यदि मकर संक्रांति के दिन 11 पीली कौड़ियों की पूजा कर उन्हें पीले रंग के कपडे में बांधकर तिजोरी में रख दे तो इस उपाय को करने से व्यक्ति पर हमेशा माँ लक्ष्मी की कृपा बनी रहती और कभी भी उसे धन सम्बन्धी परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ता है.