पेट के अल्सर के लक्षण व उपचार Stomach Ulcer Causes and treatment

पेट के छाले अल्सर के लक्षण और घरेलू उपाय

pet ke alsar ke upay upcharnuskheआजकल की जीवनशैली और खान-पान में बदलाव के कारण युवाओं में पेट के अल्सर काफी तेजी से बढ़ता जा रहा है. अल्सर एक भयानक बीमारी है जो कभी-कभी व्यक्ति के लिए घातक भी साबित हो जाती है. सामान्य भाषा में इसे पेट में छाले व घाव कहा जाता है. आमतौर पर अल्सर शरीर की त्वचा या म्यूकस झिल्ली पर बना एक घाव होता है.

इसे पेप्टिक अल्सर को गैस्ट्रिक अल्सर के नाम से भी जाना जाता है. माना जाता है की अल्सर आहार और तनाव या फिर पेट में अम्ल की अतिरिक्त मात्रा इकट्ठा होने जैसे जीवनशैली के कारण होता है परन्तु यह हेलिकोबैक्टर पाइलोरी नाम के एक जीवाणु के संक्रमण से भी होता है. अनेक बार अल्सर रोग का पता नहीं चलता इसलिए यह शरीर के अनेक हिस्सों में फैल जाता है. इस समस्या से निजात पाने के कुछ घरेलु टिप्स है जिसके कारण अल्सर का आसानी से उपचार कर सकते हैं.

पेप्टिक अल्‍सर होने का प्रमुख कारण

आमतौर पर यह माना जाता है की अल्सर की बीमारी गलत खान पान, गलत रहन-सहन, तनाव आदि के कारण होता है.  लेकिन वैज्ञानिकों ने नए शोध के अनुसार यह समस्या ‘हेलीकोबाकेटर पाइलोरी’ नमक वैक्‍टीरिया के कारण होती है.’हेलीकोबाकेटर पाइलोरी’ वैक्‍टीरिया के उत्प्पन होने से हमारे पेट में अनेक प्रकार की समस्याएं होने लगती हैं जिनमे से एक अल्सर भी है. इसके अलावा लंबे समय तक नॉन स्‍टेरोडल एंटी इनफ्लामेटरी मेडिसन जैसे एसप्रिन और ब्रूफेन आदि का सेवन करने से भी अल्सर होने लगता है.

पेप्टिक अल्सर के लक्षण

  • पेट के मध्यम और ऊपरी भाग में दर्द और जलन होना.
  • दर्द अक्सर खाना खाने के दौरान और रात में होना.
  • पेट में सूजन आना.
  • सीने में जलन होना.
  • मतली या उलटी होना.
  • भूख कम लगना.
  • आंतरिक रक्‍तस्राव की समस्या.
  • गैस संबंधी परेशानी का होना.
  • आंतों में जलन की शिकायत होना.

अलसर के घरेलु उपाय 

पोहा है फायदेमंद

पोहा अल्सर के रोग को दूर करने में काफी सहायक है. सबसे पहले थोड़ा पोहा लें अब इसमें बराबर मात्रा में सौफ मिलकर चूर्ण बना लें. अब सुबह 2 लीटर पानी में 20 ग्राम चूर्ण को डालकर रख दीजिये. अब इस मिश्रण को रात तक पूरा पी लें. कुछ दिनों तक इसका सेवन करने से अल्सर धीरे-धीरे ठीक होने लगेगा.

पत्ता गोभी और गाजर का जूस

कुछ पत्ता गोभी को पीस कर इसका जूस निकाल लें. अब कुछ गाजर को भी पीसे इसका रस निकल कर पत्ता गोभी के रस में मिलाकर इन दोनों का जूस बना लें. अब इस जूस का सेवन सुबह शाम एक-एक गिलास करे. इससे अल्सर से राहत मिलती है.

बादाम वाला दूध

कुछ बादाम लें. अब इन्हे पीस कर इनका चूर्ण बना लें. अब थोड़ा दूध को गरम करके बादाम का चूर्ण इस दूध में मिला दे. इस दूध का सेवन करे. इससे अल्सर की समस्या को कम किया जा सकता है.

केले का सेवन

अल्सर की समस्या से निपटने के लिए रोजाना 2 से 3 केलो का सेवन करें. अगर आपको केला खाना पसंद ना हो ता आप बनाना शेक बनाकर भी पी सकते हैं.

लहसुन के फायदे

लहसुन में बहुत सारे पोष्टिक तत्व पाये जाते हैं. इसमें मौजूद एंगीमेस अल्सर के कीटाणु को मारने में हमारी मदद करता है. रोजाना दिन में एक बार लहसुन की करीब 3 कलियों को पानी के साथ खाए. इससे अल्सर की समस्या खत्म हो जाती है.

शहद के फायदे

शहद अनेक समस्याओं के समाधान में हमारी मदद करता है. रोजाना सुबह खाली पेट करीब दो चम्म्च शहद का सेवन करें. इससे पेट मजबूत रहता है साथ ही अल्सर की समस्या भी खत्म होने लगती है.