दुनिया के सात आश्चर्यजनक अजूबे (Seven Wonders of the Ancient World)

विश्व के सात आश्चर्य कौन से है Seven wonders of world

%e0%a4%b5%e0%a4%bf%e0%a4%b6%e0%a5%8d%e0%a4%b5-%e0%a4%95%e0%a5%87-%e0%a4%b8%e0%a4%be%e0%a4%a4-%e0%a4%86%e0%a4%b6%e0%a5%8d%e0%a4%9a%e0%a4%b0%e0%a5%8d%e0%a4%af-%e0%a4%95%e0%a5%8c%e0%a4%a8-%e0%a4%b8कहा जाता है कि दुनिया में ऐसे सात अजूबे है जो हर इंसान को आश्चर्यचकित कर दे. पुर्तगाल की राजधानी लिस्बन जहाँ दुनिया के नए सात अजूबों के नामों की घोषणा की गई थी. इन सात अजूबों की सूची आज से 2 ,200 साल पहले यूनानी विद्वानों द्वारा बनाई गयी थी.

इन सभी पुरानी इमारतों में टूट-फुट के कारण सात अजूबों की सूची में 7 जुलाई 2007  में दुबारा संशोधित किया गया था. अपनी लोकप्रियता के कारण सूची में शामिल होने वाले ये सात अजूबे इस प्रकार है.

1. क्राइस्ट द रिडीमर (Christ the Redeemer)

‘क्राइस्ट द रिडीमर’ ब्राजील के रियो डि जनेरियो में पहाड़ी के ऊपर स्थित 130 फुट ऊंची ईसा मसीह की मूर्ति है यह दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी मूर्ति है इसे कंक्रीट और पत्थर से बनाया गया हैं. यह ईसा मसीह की दुनिया में में सबसे बड़ी मूर्ति है. इस मूर्ति का निर्माण 1922 से 1931 के बीच किया गया था. इस आधुनिक मूर्ति का नजारा रात के समय देखने लायक होता है.

2. चीन की दीवार (Great Wall of China)

यह दीवार चीन द्वारा अपनी सुरक्षा के लिए बनाई गयी है चीन ने अपनी सभी सीमाओं को इस दीवार से घेर दिया था जिसे चीन की दीवार कहते हैं. यह दीवार 5वीं सदी ईसा पूर्व में बननी शुरू हुई थी और 16 वीं सदी तक बानी थी. यह दीवार चीन की उत्तरी सीमा पर बनाई गयी थी. यह दीवार दुनिया की सबसे लंबी दीवार है जो लगभग 4000 मील (6,400 किलोमीटर) तक फैली हुई है. इसकी ऊंचाई 35 फुट है जो इसे सुरक्षा प्रदान करती है. यह दीवार बहुत ही चौड़ी है  इस पर 5 घुड़सवार या 10 पैदल सैनिक गश्त लगा सकते हैं.

3. ताजमहल (Tajmehal)

ताजमहल आगरा में स्थित है यह संगमरमर का बना हुआ मकबरा है जिसे मुग़ल बादशाह शाहजहाँ ने अपनी मृत पत्नी मुमताज़ महल की याद में बनवाया था. इसे 1632 में बनाया गया था और इसे पूरा होने में 15 साल का समय लगा था. शाहजहां ने अपने अंतिम दिन क़ैद में से ताजमहल को देखते हुए बिताए थे.

ताजमहल ख़ूबसूरत गुंबदों वाला महल है जो चारों ओर से सुन्दर बग़ीचों से घिरा हुआ है. यह मुग़ल शिल्पकला का यह सबसे बढ़िया उदाहरण है. जब शाहजहां को उनके पुत्र द्वारा बंदी बना लिया गया था. तब उन्होंने अपने अंतिम समय उसी ताजमहल को देखते हुए बिताये थे.

4. रोम का कोलोसियम (Roam ka kelosium)

इटली देश के रोम नगर में स्थित यह एक सबसे विशाल एलिप्टिकल एंफ़ीथियेटर है.रोम का कोलोसियम एक खेल का स्टेडियम है इसका असली नाम ‘एम्फीथिएटरम्‌ फ्लावियम’ है, जिसे अंग्रेजी में ‘फ्लावियन एम्फीथिएटर’ कहते है. पौराणिक कथाओं के अनुसार यहाँ पर खेल और नाटक खेले जाते थे जिनका साल में दो बार भव्य आयोजन हुआ करता था. यह दुनिया में कोलोजियम नाम से प्रसिद्द है.

5. जोर्डन का ‘पेत्रा’ (Jorden ka petra)

जोर्डन ऐतिहासिक शहर पेट्रा में स्थित है जो अपनी विचित्र वास्तुकला के लिए दुनिया के सात अजूबों में शामिल है. यह अरब के रेगिस्तान के कोने में बसा हुआ 2000 साल पुराना शहर है पेत्रा राजा अरेतास चतुर्थ की राजधानी हुआ करता था. यह पत्थर की इमारतों के लिये प्रसिद्ध है यह ईमारत लाल चट्‌टानों से बनी हुई हैं.

6. माचू पिच्चू (Maachu Picchu)

माचू पिच्चू दक्षिण अमरीका में एंडीज पर्वतों के बीच बसा हुआ एक शहर है जो प्राचीन इंका सभ्यता का सबसे बढ़िया उदाहरण है. माचू पिच्चू शहर 15वीं शताब्दी तक बसा हुआ था माना जाता है कि इसके बाद  स्पेन के आक्रमणकारी यहाँ पर ‘छोटी चेचक’ जैसी भयानक महामारी ले आए थे जिसके कारण यह शहर पूरी तरह उजड़ गया था.  इसे 7 जुलाई 2007 को विश्व के सात नए आश्चर्यों में शामिल किया गया था. 

7. चिचेन इत्जा(chechen itja)

चिचेन इत्जा आज के मध्य अमेरिका में स्थित है यह मंदिर-नगरी पुरानी माया सभ्यता का अवशेष है. चिचेन इत्जा में माया सभ्यता यहाँ पर 750 से 1200 सदी के बीच फली-फूली और यह शहर इनकी राजधानी और धर्मिक नगरी थी. यह शहर के बीचोबीच बना कुकुलकन का मंदिर है जिसकी ऊँचाई 79 फीट है. इसके चारों ओर से चार दिशाओं में 91सीढ़ियां बानी हुई है. हर सीढ़ी को साल के एक दिन के प्रतीक के रूप में माना जाता है और 365 वां दिन ऊपर बना चबूतरा है.