जाने क्या कहता है आपके बोलने का तरीका What Your Voice Says About You

व्यक्ति के बोलने के तरीके से जाने उसका स्वभाव what your voice says about your personality

समुद्र शास्त्र द्वारा हम किसी भी व्यक्ति के स्वभाव का आसानी से अनुमान लगा सकते हैं. समुद्र शास्त्र ज्योतिष शास्त्र की एक ऐसी शाखा है जिसके द्वारा मनुष्यों के हाव-भाव, उनके शरीर पर स्तिथ चिन्हों, उनके शरीर के लक्षणों के आधार पर उनके स्वभाव के बारे बताया जाता है. सभी लोगो का बोलने का तरीका अलग-अलग होता है.समुद्र शास्त्र में बताया गया है की हम किस तरह से किसी व्यक्ति के बोलने के तरीके से उसके स्वभाव के बारे में जान सकते हैं. तो आइये जानते हैं क्या कहता है आपका बोलने का तरीका आपके स्वभाव के बारे में.

ऊंचे स्वर में बोलने वाले लोग

जो लोग ऊंचे स्वर में बोलने वाले होते हैं कहा जाता है की ऐसे व्यक्ति लोगो का ध्यान अपनी ओर खीचने की कोशिश करते हैं. ये लोग चाहते हैं सभी लोग इनकी बात माने तथा खुद किसी की भी बात सुनना पसन्द नहीं करते. लेकिन इन लोगो की एक अच्छी आदत यह होती है की ये लोग किसी व्यक्ति की दुःख नहीं दे पाते सभी लोगो को हमेशा खुश रखने की कोशिश करते हैं.

बहुत तेजी से बोलने वाले लोग

आपने देखा होगा की कई लोग इतनी तेजी से बोलते हैं की सामने वाले व्यक्ति को पता ही नहीं चलता की उसने बोला क्या. कहा जाता है की ऐसे लोग किसी भी बात को छुपाकर नहीं रख सकते तथा किसी बात को खुलकर कह सकते हैं कहा जाता है की ऐसे लोग कई बार धोखा भी दे सकते हैं.

बोलने में कर्कशता एवं टूटापन होना

जिन लोगो के बोलने में कभी-कभी कर्कशता एवं टूटापन आता है ऐसे लोग थोड़ा झगलाड़ू किस्म के होते हैं कहा जाता है इन लोगो को छोटी-छोटी बातो का बुरा लग जाता है. लेकिन इन लोगो में कई आदतें ऐसी भी होती है जिससे लोग इनकी ओर आकर्षक हो जाते हैं. ये लोग दुसरो की सहायता के लिए हमेशा तैयार रहते हैं.

शेर की तरह गुर्राने के समान बोलने वाले लोग

जो लोग बोलते समय शेर की तरह गुर्राते हैं ऐसे लोग बहुत ही संयम युक्त, विद्वान, ज्ञानी, अध्ययन करने वाले, मनन तथा चिंतन प्रिय, गंभीर, सौम्य एवं धैर्यवान व उदार चरित्र के होते हैं.

धीरे से बोलने वाले लोग

जो लोग बहुत धीरे-धीरे बोलते हैं कहा जाता है की ऐसे लोग बहुत ही शांत किस्म के होते हैं. ये लोग किसी भी काम को बड़ी ही शांति के साथ करना पसन्द करते हैं. ऐसे लोग किसी से भी बेवजह बात करना पसन्द नहीं करते तथा झा इन्हें ज्ञान मिलता है उस जगह में जाना पसन्द करते हैं.

 

गंभीर एवं संतुलित स्वर में बोलने वाले लोग

जो लोग बहुत ही गंभीर एवं संतुलित स्वर में बात करने वाले होते हैं  ऐसे लोगो के लिए कहा जाता है की ऐसे लोग की सोच बहुत ही ऊँची होती है. ये लोग अपने परिवार के प्रति जिम्मेदार होते हैं. इन लोगो को समाजसेवा से जुड़े कार्यों को करना बेहद पसन्द होता है. ये हर काम व्यवस्थित तरीके से करना पसंद करते हैं.

हंस, मयूर या कोयल के समान वाणी वाले लोग

जिन लोगो की वाणी हंस, मयूर या कोयल के समान होती है ऐसे लोग बहुत ही अच्छे व्यवहार के होते हैं. ये लोग अपने मन में दुसरो के प्रति कभी भी किसी गलत भावना को नहीं आने देते तथा ऐसे व्यक्ति को सर्वगुण संपन्न भी माना गया है.