जानें जमीन पर बैठकर खाने के 10 फायदे Eating habits for good health care

अच्छे स्वास्थ्य के लिए खाने का सही तरीका The Right Way to Eat for Good Health

भारत में बहुत सी ऐसी परंपराएं हैं, जिनका सीधा संबंध मनुष्य के स्वास्थ्य से होता है। ऐसी ही एक परंपरा जमीन पर बैठकर खाना खाने की है, जी हाँ आजकल बहुत से लोग जमीन पर बैठकर खाना खाना पसंद नहीं करते हैं,

जबकि कुछ ऐसे हैं जो टीवी के सामने बैठ कर या बिस्तर पर बैठ कर खाना पसंद करते हैं। भले ही, यह आपके लिए बहुत आरामदायक हो, लेकिन यह स्वास्थ्य के लिए ठीक नहीं होता। जमीन पर बैठकर खाने की आदत स्वास्थ्य के लिए बहुत उपयोगी होती है। जाने जमीन पर बैठकर खाना खाने के 10 लाभकारी फायदे क्या हैं.

वजन नियंत्रण में रहता है

जब आप सुखासन में बैठते हैं, तो आपका दिमाग अपने आप शांत हो जाता है। वह बेहतर ढंग से भोजन पर ध्यान केंद्रित कर पाता है। डाइनिंग टेबल की बजाए सुखासन में बैठ कर खाने पर खाने की गति धीमी होती है। इस प्रकार सुखासन में बैठकर खाने पर आप जरूरत से ज्यादा खाने से बचते हैं। जिससे आपका वजन नियंत्रण में रहता है.

शरीर को लचीला बनाता है

जब आप निचे बैठकर खाना खाते हैं तो आपकी निचली पीठ, पेट के आसपास और पेट की मांसपेशियों में खिंचाव होता है। इससे डाइजेस्टिव सिस्टम आराम से अपना काम कर पाता है। इसके आलावा जमीन पर बैठकर खाने से आपके पेट को पर अतिरिक्त दबाव नहीं पड़ता, जिससे आपको खाने में और बेहतर ढंग से पचाने में मदद मिलती है।

डाइजेस्टिव सिस्टम सुधारता है

आमतौर पर जब आप जमीन पर बैठते हैं तो सुखासन में बैठते हैं। यह पाचन में मदद करने वाली मुद्रा है। जब आप भोजन करने के लिए इस मुद्रा में बैठते हैं, तो पेट से जुड़ी समस्याएं कम होती हैं, और आपका डाइजेस्टिव सिस्टम भी सही रहता है.

समय से पहले बूढ़ा नहीं होने देता

खाना खाने का ये पारंपरिक तरीका आपको समय से पहले बूढा नहीं होने देता हैं, क्योंकि इस मुद्रा में बैठकर खाना खाने से रीढ़ की हड्डी और पीठ से जुड़ी समस्याएं नहीं होती हैं। साथ ही, जो लोग कंधों को पीछे धकेलते हुए गलत मुद्रा में बैठने के कारण किसी तरह के दर्द से परेशान होते हैं, वह समस्या भी इस आसन में बैठकर खाना खाने से दूर हो जाती है।

जोड़ों को लचीला बनाता है

पद्मासन और सुखासन एक ऐसी मुद्रा है जो आपके पूरे शरीर को लाभ पहुंचाती है, ये आपके जोड़ों को कोमल और लचीला बनाए रखने में भी मदद करती है। गठिया व हड्डियों की कमजोरी जैसे रोगों से भी बचाती है।

दिमाग को रखता है कूल

जो लोग सुखासन में बैठकर खाना खाते हैं, उनका दिमाग तनाव रहित रहता है, क्योंकि यह दिमाग को रिलैक्स और तंत्रिकाओं को शांत करता है।

दिल को मजबूत बनाता है

जब आप जमीन पर बैठ कर खाना खाते हैं तो ब्लड सर्कुलेशन सुधरता है। इस तरह दिल बड़ी आसानी से पाचन में मदद करने वाले सभी अंगों तक खून पहुंचाता है.