जयप्रकाश नारायण जी के प्रेरणादायक सुविचार Jai Prakash Narayan Thoughts and Quotes

जयप्रकाश नारायण जी के अनमोल ज्ञानवर्धक विचार Best Thoughts of Jai Prakash Narayan

%e0%a4%9c%e0%a4%af%e0%a4%aa%e0%a5%8d%e0%a4%b0%e0%a4%95%e0%a4%be%e0%a4%b6-%e0%a4%a8%e0%a4%be%e0%a4%b0%e0%a4%be%e0%a4%af%e0%a4%a3-%e0%a4%95%e0%a5%87-%e0%a4%85%e0%a4%a8%e0%a4%ae%e0%a5%8b%e0%a4%b2जयप्रकाश नारायण का जन्म 11 अक्टूबर 1902 को सिताबदियारा, बंगाल प्रेसीडेंसी, ब्रिटिश इंडिया में हुआ था. वे भारतीय स्वतंत्रता सेनानी और राजनेता थे. जयप्रकाश नारायण जी ने इन्दिरा गांधी को पदच्युत करने के लिये उन्होने ‘सम्पूर्ण क्रांति’ नामक आन्दोलन चलाया साथ ही वे समाज सेवक भी थे. जिसके कारण उन्हें लोकनायक के नाम से भी जाना जाता था. उन्हें समाज सेवा के लिए 1965 में मैगससे पुरस्कार से सम्मानित किया गया था.

सुविचार (Quotes) 1. मेरी रुचि सत्ता के कब्जे में नहीं , बल्कि लोगों द्वारा सत्ता के नियंत्रण में है।

सुविचार (Quotes) 2. एक हिंसक क्रांति हमेशा किसी न किसी तरह की तानाशाही लेकर आई है… क्रांति के बाद , धीरे-धीरे एक नया विशेषाधिकार प्राप्त शासकों एवं शोषकों का वर्ग खड़ा हो जाता है , लोग एक बार फिर जिसके अधीन हो जाते हैं।

सुविचार (Quotes) 3. ये (साम्यवाद ) इस सवाल का जवाब नहीं देता : कोई आदमी अच्छा क्यों हो ?

सुविचार (Quotes) 4. अगर आप सचमुच स्वतंत्रता , स्वाधीनता की परवाह करते हैं , तो बिना राजनीति के कोई लोकतंत्र या उदार संस्था नहीं हो सकती। राजनीति के रोग का सही मारक और अधिक और बेहतर राजनीति ही हो सकती है।  राजनीति का अपवर्जन नहीं।

सुविचार (Quotes) 5. सच्ची राजनीति मानवीय प्रसन्नता को बढ़ावा देने बारे में हैं।