चैत्र पूर्णिमा कब है 2020 Chaitra Purnima Date Time Shubh Muhurat 2020

चैत्र पूर्णिमा उपाय Chaitra Purnima Puja Vidhi Upay 2020

चैत्र पूर्णिमाचैत्र मास में आने वाली पूर्णिमा चैत्र पूर्णिमा कहलाती है। इसे चैती पूनम के नाम से भी जाना जाता है। चैत्र मास हिन्दू वर्ष का पहला महीना होता है इसलिए चैत्र पूर्णिमा का शास्त्रों में विशेष महत्व है। इस दिन भगवान सत्य नारायण की पूजा और पूर्णिमा का उपवास रखा जाता हैं और रात्रि के समय चंद्रमा की पूजा कर व्रत पूरा किया जाता है मान्यता है कि इसी दिन भगवान हनुमान जी का जन्म भी हुआ था। इसलिए इस पूर्णिमा का महत्व और भी अधिक बढ़ जाता है कई जगहों पर चैत्र पूर्णिमा के दिन हनुमान जयंती भी मनाई जाती है। आज हम आपको साल 2020 चैत्र पूर्णिमा व्रत की तिथि पूजा का शुभ मुहूर्त पूजा विधि और इस दिन मनोकामना पूरी करने के लिए किये जाने वाले एक चमत्कारिक उपाय के बारे में बताएँगे.

चैत्र पूर्णिमा शुभ मुहूर्त 2020 chaitra Purnima Shubh Muhurat 2020

  1. साल 2020 में चैत्र पूर्णिमा का व्रत 8 अप्रैल बुधवार के दिन रखा जाएगा.
  2. पूर्णिमा तिथि आरम्भ होगी – 7 अप्रैल सायंकाल 12:01 मिनट पर |
  3. पूर्णिमा तिथि समाप्त होगी – 8 अप्रैल 08:04 मिनट पर |

चैत्र पूर्णिमा व्रत पूजा विधि Chaitra Purnima Puja Vidhi

चैत्र पूर्णिमा के दिन स्नान, दान, हवन, व्रत और जप करने का विधान है चैत्र पूर्णिमा के दिन प्रातः काल सूर्योदय से पूर्व किसी पवित्र नदी या घर पर ही गंगाजल मिले पानी से स्नान करे स्नान के बाद सूर्य मंत्र का जाप करते हुए सूर्य देव को अर्घ्य दे अब व्रत का संकल्प लेकर भगवान सत्य नारायण जी का पूजन करें यदि संभव हो तो जरूरतमंद व्यक्तियों को दान दे. आज के दिन भगवन सत्यनारायण जी की कथा अवश्य पढ़े इसके बाद रात्रि में विधि पूर्वक चंद्र देव का पूजन कर उन्हें जल का अर्घ दे और व्रत संपन्न करे.

इसे भी पढ़े – जानें अपना वार्षिक राशिफल 2020

चैत्र पूर्णिमा का महत्व Importance of Chaitra Purnima Mehtva

चैत्र पूर्णिमा को बहुत सी जगहों पर चैती पूनम भी कहा जाता है। मान्यता है की इसी दिन भगवान श्री कृष्ण ने ब्रज में रास उत्सव रचाया था जिसे महारास के नाम से भी जाना जाता है। चैत्र पूर्णिमा पर नदी, तीर्थ, सरोवर और पवित्र जलकुंड में स्नान और दान करने से पुण्य की प्राप्ति होती है।  पूर्णिमा के दिन चंद्रमा अपने पूरे आकार में दिखता है। कहा जाता है कि आज के दिन भगवान सत्यनारायण की कथा सुनने से सभी जन्मों के पाप नष्ट हो जाते हैं और आज के दिन चंद्रमा को जल का अर्घ्य देने से कुंडली में इसकी स्थिति मजबूत होती है। इस दिन भगवान सत्य नारायण जी के साथर हनुमान जी की पूजा करने से  दोनों का आशीर्वाद प्राप्त होता है।

चैत्र पूर्णिमा लाभ व उपाय Chaitra purnima upay

  1. मान्यता है कि जो लोग आज सत्यनारायण जी की कथा सुनते हैं और व्रत रखते है तो उनके घर में सुख समृद्धि बनी रहती है।
  2. चैत्र पूर्णिमा के दिन रात्रि के समय चंद्रमा की पूजा करने से कुंडली से चंद्र दोष दूर हो जाता है।
  3. इस दिन हनुमान जयंती होने के कारण यदि हनुमनजी की विधिवत पूजा की जाय तो मनुष्य के सारे संकट मिट जाते हैं।
  4. शास्त्रों के अनुसार जो व्यक्ति आज के दिन तुलसी स्‍नान करता है उसे मां लक्ष्‍मी की विशेष कृपा प्राप्त होती है.
  5. चैत्र पूर्णिमा के दिन धनप्राप्ति के लिए ऊँ नमो भगवते वासुदेवाय नम: और ऊँ चंद्राये नमो नम:मंत्र का 108 बार जाप करना बहुत ही शुभ होता है.