चाणक्य नीति की दस बातें बदल देंगी आपकी किस्मत Chanakya niti ki 10 baaton se paaye safalta

चाणक्य नीति की दस बाते दिलाएंगी आपको सफलता Chanakya niti ki baton se paaye safalta

%e0%a4%9a%e0%a4%be%e0%a4%a3%e0%a4%95%e0%a5%8d%e0%a4%af-%e0%a4%a8%e0%a5%80%e0%a4%a4%e0%a4%bf-%e0%a4%95%e0%a5%80-%e0%a4%a6%e0%a4%b8-%e0%a4%ac%e0%a4%be%e0%a4%a4%e0%a5%87-%e0%a4%a6%e0%a4%bf%e0%a4%b2आचार्य चाणक्य द्वारा बताई गयी ऐसी बहुत सी नीतिया है जो इंसान की सफलता का मार्ग खोलने में मदद करती है. आचार्य चाणक्य ने सफलता और सुखी जीवन के बहुत से सूत्र बताए हैं

जिनका अगर व्यक्ति अपने जीवन में पालन करे तो निश्चित ही वह सफल हो सकता है और कई परेसानियों से भी मुक्त हो सकता है. 

कभी भी दूसरें व्यक्ति पर निर्भर न रहे Dusaron par nirbhar na rahe

आचार्य चाणक्य कहते है कि दूसरें व्यक्ति पर निर्भर कभी नहीं रहना चाहिए किसी दूसरे पर निर्भर रहना नरक के जीवन के सामान होता है इसलिए व्यक्ति को हमेशा कर्मशील रहना चाहिए.

शिक्षा ही सबसे बड़ा धन है Shiksha sabse bada dhan hai

चाणक्य अनुसार शिक्षा ही मनुष्य का सबसे बड़ा धन है जिसे व्यक्ति से कोई नहीं छीन सकता है इसीलिए आपके पास जो ज्ञान है उसपर हमेशा ही गर्व करना चाहिए और हमेशा कुछ नया सीखने की कोशिश करनी चाहिए.  

अपने मन की बात और भेद दूसरों को न बताए Apne raaj dusaron ko naa bataye

चाणक्य के अनुसार जीवन का सबसे बड़ा मंत्र यही है कि अपने मन की बात और अपने राज कभी भी किसी दूसरे व्यक्ति को नहीं बताने चाहिए कभी-कभी इसके परिणाम अच्छे नहीं होते है.

व्यक्ति को जरूरत से ज्यादा ईमानदार नहीं होना चाहिए Jaroort se adhik imaandari acchi nahi hoti

आचार्य चाणक्य कहते है कि व्यक्ति को जरूरत से ज्यादा ईमानदार नहीं होना चाहिए जिस तरह से सीधे तने के पेड को सबसे पहले काट दिया जाता है उसी प्रकार ईमानदार आदमी को भी मुश्किलों में फ़ंसाया जा सकता है.

खुद से पूछे तीन प्रश्न Khud se teen prasn pooche

अगर आप कोई काम करना चाहते है तो सबसे पहले आपको खुद से तीन प्रश्न पूछने चाहिए पहला- मैं यह काम क्यों कर रहा हूं? दूसरा- इस काम का क्या परिणाम होगा? और तीसरा- क्या मुझे इस काम में सफ़लता प्राप्त होगी?

बुरे मित्रों का साथ त्याग देना चाहिए Bure doston ka sath tyaag de

आचार्य चाणक्य कहते है कि जो मित्र आपके सामने चिकनी-चुपडी बातें करते हो और पीठ पीछे आपकी बुराई करते हो तो ऐसे दोस्तों को त्याग देने में ही आपकी भलाई होती है.

किसी काम को करने के बाद पछतावा ना करे Kisi kaam ka pachtava na kare

चाणक्य नीति के अनुसार हमें भूत और भविष्य की चिंता नहीं करनी चाहिए व्यक्ति को हमेशा विवेकवान होकर वर्तमान में जीने की कोशिश करनी चाहिए.

डर को स्वयं से दूर रखे Dar ko apne se door rakhe

भय को कभी भी अपने करीब नहीं आने देना चाहिए जैसे ही कोई डर आपको सताए उसे तुरंत ही नष्ट कर देने में आपकी भलाई है.

हमेशा अच्छे काम करे Acche kaam kare

आचार्य चाणक्य कहते है कि इंसान को हमेशा अच्छे काम करने चाहिए फूल की खूशबू केवल हवा की दिशा में जाती है लेकिन अच्छे इंसान की अच्छाई हर जगह फैलती है.   

व्यक्ति अपने अच्छे बुरे कर्मो के फल खुद ही भोगता है Apne karmo ka fal insaan khud hi bhogta hai

व्यक्ति अकेले ही पैदा होता है और अकेले ही मरता है व्यक्ति अपने कर्मों के परिणाम भी अकेले ही भोगता है इसीलिए इंसान को सदैव अच्छे काम करने चाहिए.