कैसे और कब करें सोमवार शिव पूजा और व्रत Monday Fast (Somvar Vrat) Vidhi

सोमवार व्रत की विधि व इसके लाभ How to do Somvar Vrat

%e0%a4%b8%e0%a5%8b%e0%a4%ae%e0%a4%b5%e0%a4%be%e0%a4%b0-%e0%a4%b5%e0%a5%8d%e0%a4%b0%e0%a4%a4-%e0%a4%95%e0%a5%80-%e0%a4%b5%e0%a4%bf%e0%a4%a7%e0%a4%bf-%e0%a4%b5-%e0%a4%87%e0%a4%b8%e0%a4%95%e0%a5%87सोमवार का व्रत भगवान शिव के लिए किया जाता है. भगवान शिव को त्रिदेवों में एक माना जाता है. हिन्दू धर्म में भगवान शिव को प्रश्नन करने के लिए सोमवार का व्रत लिया जाता है. सोलह सोमवार का व्रत पूरे विधि- विधान के साथ करने से मन की सारी इच्छाएं पूर्ण हो जाती हैं. लेकिन किसी भी व्रत को प्रारम्भ करने के लिए उसके विधि-विधान की पूर्ण जानकारी होना बहुत ही आवश्यक है ताकि व्रत पुरे विधि-विधान से लिया जा सके.

सोमवार व्रत कब करना चाहिए When should do Monday Fast

सोमवार के व्रत की शुरुआत श्रावण, चैत्र, वैशाख, कार्तिक या मार्गशीर्ष के महीनो के शुक्ल पक्ष के प्रथम सोमवार से ही करना चाहिए. यह व्रत पांच वर्ष या सोलह सोमवार तक किया जा सकता है. चैत्र, शुक्लाष्टमी तिथि, आर्द्र नक्षत्र, सोमवार को अथवा श्रावण मास के प्रथम सोमवार को भी सोमवार का व्रत प्रारम्भ किया जा सकता है.

सोमवार व्रत विधि Somvar Vrat Vidhi

सोमवार का व्रत प्रारम्भ करने के लिए बहुत सारे विधि-विधान हैं. जिनकी मदद से सोमवार का व्रत सम्पूर्ण किया जा सकता है.

नारद पुराण के अनुसार सोमवार के व्रत के दिन व्यक्ति को सुबह नह-धोकर भगवान शिव को जल चढ़ाना चाहिए तथा भगवान शिव जी और माता पार्वती की पूजा करनी चाहिए. इसके बाद सोमवार के व्रत की कथा कहानी चाहिए या सुननी चाहिए. और दिन में एक ही समय भोजन करना चाहिए.

साधारणतया सोमवार का व्रत दिन के तीसरे पहर तक होता है. इस व्रत को शाम तक रखा जा सकता है. यह व्रत तीन प्रकार का होता है. प्रति सोमवार व्रत, सौम्य प्रदोष व्रत और सोलह सोमवार का व्रत. इन सभी व्रत का नियम एक ही है.

सोमवार व्रत के लाभ Benefits of Somvar Vrat 

अग्नि पुराण के अनुसार सोमवार का व्रत करने से मनुष्य को अनेक सुखों की प्राप्ति होती है. इसके अलावा सोलह सोमवार का व्रत करने से मन की साडी इच्छाये पूरी होती हैं और अविवाहित कन्याओं को मनचाहा वर मिलता है.